Physics

बिजली के झटके के पीछे करंट नहीं बल्कि वोल्टेज (Voltage) का होता है हाथ

आमतौर पर जब भी हम बिजली की बात करते हैं , तो हमारा सीधा ध्यान जाता है करंट (current) पर। हालांकि आपको पता ही ही होगा कि current के पीछे की वोल्टेज (voltage) ही हमारे लिए असली खतरा और विषय है। आपने कभी न कभी , एक बार तो बिजली का झटका जरूर महसूस किया होगा, अगर current काफी कम हुआ, तो ये झटका भी हल्का लगता है। और अगर body में current की मात्रा ज्यादा हो जाए , तो electric shock काफी serious बन जाता है। 20 volts की power supply भी गलत तरीके से लागए जाने पर जानलेवा साबित होती है।

आपने शायद ही कभी इस बात पर ध्यान दिया होगा, कि आखिर इस वोल्टेज की limit क्या है ? ये कहाँ से शुरू हो सकती है और कहाँ तक हम इसकी कल्पना कर सकते हैं ? आखिर ब्रह्माण्ड में सबसे ज्यादा वोल्टेज किस वस्तु की है ? चलिए जानते हैं।

आपके शरीर की वोल्टेज (voltage)

शुरुआत करते हैं आपकी खुदकी body से | आपके brain में मौजूद nerve cells या neurons electrical signals के through communicate करके information transmit करते हैं | हर एक neuron , लगभग 75 mV तक की voltage पर signals transfer करता है | हमारी body में करीब 86 billion interconnected neurons हैं |

Source – Forbes.com

हर एक neuron, electrical signal को chemical signal में बदलकर दूसरे neuron को message भेजता है | इसीलिए , हर एक neuron की voltage combine नहीं होती | जिसकी वजह से , पूरा brain और हमारी body , करीब 70 से 80 mV तक की voltage generate कर पाते हैं |

रोजमर्रा बैटरी की वोल्टेज (voltage)

Body से बाहर निकलें , तो हमें सबसे basic voltage source मिलता है alkaline battery | जिसे आमतौर पर हम dry cell या primary battery से जानते हैं | अक्सर आप इसे TV remotes वगेरा में use करते हो | यहाँ chemical energy को electrical energy में convert करके voltage produce की जाती है | इस battery cell की voltage 1.5 volts या 1.5 V तक की होती है , जो practical life में काफी कम है | इस तरह की batteries non rechargeable होती हैं |

रोजमर्रा बैटरी की वोल्टेज (voltage)

इन्हीं alkaline batteries में, 9 volts तक की वोल्टेज देने वाली batteries भी आती हैं , जो अपनी chemistry के हिसाब से rechargeable या non rechargeable होती हैं |

चार्जिंग के दौरान वोल्टेज (voltage)

Charging के दौरान आपका Mobile charger, 5V तक की voltage supply देता है | इस दौरान ये आपके घर में आने वाली AC supply को DC voltage में बदलकर काफी हद तक कम कर देता है | ख़ास बात ये है कि इस दौरान करीब 1.5 A का current भी आता है , पर voltage इतनी कम होती है कि आपकी body पर इसका असर नहीं पड़ता |Automobiles like cars में use की जाने वाली car battery 12V तक की voltage देती है , जो starter को electrical energy देकर engine start करती है | हालांकि यहाँ voltage कम जरूर है , पर battery cables गलत होने पर spark भी दे सकती हैं , जिसका असर आप महसूस कर सकते हो | गलत connection होने पर ये spark , battery को पूरा damage भी कर सकता है |

किसी normal इंसान का, 30 V से ज्यादा वाले voltage source से contact होना, खतरनाक साबित होता है |

घर और रेल की वोल्टेज (voltage)

आगे बढ़ें, तो करीब 100 V से लेकर 240 V तक की voltage आमतौर पर घरों पर दी जाती है | इसीके जरिए आप अपने घर के सभी electrical devices को power देते हो | इंडिया की बात करें , तो करीब 220 V तक की voltage supply आपके घर में मौजूद plugs में दी जाती है |

इससे करीब 3 गुना ज्यादा , 630 V तक की voltage, London की underground metro trains में इस्तेमाल की जाती है | यहाँ train tracks के बीच मौजूद एक और line , electric train को electricity देती है | इस तीसरी line को 630 V तक electrify किया जाता है | आमतौर पर सभी electric trains में इस third rail method का इस्तेमाल किया जाता है |

जानवर जो देता है 860 volt का झटका

आगे चलें , तो आने वाली चीज कोई man made object नहीं , बल्कि एक जीता जागता जीव है | Yes, ये है Electric EEL , जो एक electric fish है | करीब 860 volts की high voltage और 1 A का current , ये किसी भी शिकार को दे सकती है | इतने volts का झटका किसी भी इंसान के nerves और muscles को आसानी से खराब कर सकता है |

ये electric shock किसी भी जानवर द्वारा दिया जाने वाला most powerful shock है | ऐसी कई घटनाएँ भी हैं , जहां लोग electric eel के झटके से अपनी जान भी गवां चुके हैं | ख़ास बात ये है , कि ये अपने cells के through voltage को कम और ज्यादा भी कर सकती है |

Electric chair का झटका

करीब 2,450 volts का खतरनाक झटका , किसी भी इंसान को electric chairs के जरिए दिया जा सकता है | आपने electric chairs के बारे में जरूर सुना होगा | सबसे पहले अमेरिका में इस execution method का इस्तेमाल किया गया था | लकड़ी की chair पर बैठाकर , electrodes के जरिए उस इंसान के शरीर में लगभग 8 seconds के लिए high voltage shock दिया जाता है |

Electric chair का झटका - Voltage

पर समय के साथ साथ जब lethal injection आना शुरू हुए , तो electric chairs का इस्तेमाल कम होने लगा | हालांकि अब ये सब कई देशों में बंद हो चुका है , पर कई देश ऐसे हैं , जहां अपराधी को electric chair और lethal injection में किसी एक को select करने का मौका मिलता है |

इससे 4 गुना ज्यादा , यानी करीब 10,000 Volts तक की voltage , military base और कई sensitive places like prison यानी जेलों के electric fence में मौजूद होती है | अपने purpose के हिसाब से , इन electric fence की voltage, 3000 V से लेकर 10,000 V तक adjust की जाती है | इस तरह के barrier को छूना आपकी बहुत बड़ी गलती भी हो सकती है |

बड़े बड़े power station की वोल्टेज (voltage)

Electrical Power Transmission Systems भारी मात्रा में electrical power generate करके , उसे high voltage में convert करके बड़े बड़े शहरों में भेजते हैं | ऐसे High voltage Substations, करीब 8 लाख V से लेकर 10 लाख V तक की voltage generate करते हैं | ऐसी जगह पर बिना किसी safety के जाना आपके लिए बेहद खतरनाक है | electrical breakdown के जरिए निकलने वाला electric arc या discharge आपको आसानी से जला सकता है |

Tesla Coil की अद्भुत वोल्टेज (voltage)

अब चलते हैं थोड़ा history की तरफ | Inventor और engineer Nikola Tesla ने, साल 1891 में Tesla coil को design किया , जो एक high voltage , high frequency power generator था | उनका मकसद था कि electricity को wirelessly broadcast किया जाए , पर इसकी efficiency उस लायक नहीं हो पाई | आज ,experimental purpose के लिए ऐसी coil को design किया जाता है | अमेरिका में बनी ऐसी सबसे बड़ी coil , करीब 15 लाख V तक की voltage generate करती है |

Tesla Coil Voltage

Japan में मौजूद , one of the largest electron microscope के जरिए, जब high voltage electron beam use की जाती है, तो इस दौरान 30 लाख V तक की voltage पैदा होती  है | इसके जरिए किसी भी microscopic object को 10 लाख गुना तक मग्निफ्य करके उसकी high quality image देखी जा सकती है |

इंसानों द्वारा पैदा की गई सबसे ज्यादा voltage ( बिजली )

आगे चलें , तो इससे 8 गुना ज्यादा, यानी करीब ढाई करोड़ volts के करीब की voltage , हम इंसानों द्वारा generate की जा चुकी है |

Oak Ridge National Laboratory में मौजूद electric generator जिसे Van de Graaff generator से जानते हैं , इसके जरिए वैज्ञानिकों ने maximum 2,55,00,000 V तक की DC voltage generate की है |

आसमान की बिजली का झटका

मगर आने वाली चीज , जिससे हम सभी परिचित हैं , इस 25 mega-volt voltage से भी 4 गुना ज्यादा ताकतवर और खतरनाक है | yes, मैं बात कर रहा हूँ , आसमान में पैदा होने वाले बिजली यानी lightning की | प्रकृति द्वारा दी जाने वाली ये voltage , पृथ्वी पर most powerful electric force है | आपको शायद यकीन न हो , पर lightning के जरिए करीब 10,00,00,000 V तक की electric power generate होती है , जो बेहद ज्यादा है | हालांकि इसके short time period के चलते कई लोग इससे बच निकलते हैं |

आसमान की बिजली का झटका - Voltage Hindi

ये है ब्रह्माण्ड की सबसे ताकतवर बिजली ( voltage )

Neutron stars जब काफी high speed से rotate करते हैं , तो अपने आसपास ये high energetic  electromagnetic radiation पैदा करते हैं | इन rotating neutron stars को pulsar कहा जाता है | ये neutron stars extremely dense objects होते हैं | एक चम्मच neutron star का वजन Mount Everest के बराबर हो सकता है |

Universe Most Dense Star – Neutron Star

Rotation के दौरान , इनसे निकलने वाली light आसमान को एक lighthouse बना देती है | एक pulsar के जरिए पैदा होने वाली voltage , करीब 7,00,00,00,00,00,00,000 V तक की होती है , जो इसे universe की largest electric force बनाती है | इससे निकलने वाली jet stream करीब 20 light years तक फैली होती है | इससे ज्यादा practical voltage फिलहाल तो possible नहीं |

Tags

Shubham Sharma

शुभम शर्मा विज्ञानम् के लेखक हैं जिन्हें विज्ञान, गैजेट्स , रहस्य और पौराणिक विषयों में रूचि है। इसके अलाबा इन्हें खेल और वीडियो बनाना बहुत पसंद है।

Related Articles

Back to top button
Close