Health

इंसानी शरीर के अंदर मौजूद है यह जादुई कोशिका- स्टेम सेल (Stem Cell In Hindi)

हो सकता हैं HIV जैसे कई जान लेवा बीमारियों का इलाज ! जानिए कैसे , इस लेख के अंदर |

प्रस्तावना – Introduction :-

मित्रों ! अकसर हम अंतरिक्ष और कई अन्य विषय को सबसे ज्यादा रहस्यमई बात समझते हैं | परंतु मित्रों हमारा ऐसा समझना हमेशा सही भी नहीं हैं | उदाहरण के लिए आप अपने शरीर को ही ले लीजिए | आज भी इंसानी शरीर के अंदर ऐसे कई अंग मौजूद हैं , जिनके बारे में विज्ञान भी आपको ज्यादा नहीं बता सकता हैं | खैर विज्ञान की उन्नति के साथ-साथ हमने कई सारे रहस्य को उजागर कर लिया हैं | परंतु आज मेँ आपको स्टेम सेल (stem cell in hindi) नाम के एक ऐसे जादुई कोशिका के बारे में बताने जा रहा हूँ , जो कि आपके शरीर के अंदर मौजूद रह कर आपके शरीर को बचपन से ही नियंत्रित कर रहा हैं |

इंसानी शरीर के अंदर मौजूद है यह जादुई कोशिका - Stem Cell In Hindi.
स्टेम सेल की मूल कार्य | Credit: Biology News.

इंसानी शरीर मुख्य रूप से कई अरबों कोशिकाओं (Cells)  से बनी हुई होती हैं , इसलिए जीवित इंसानी कोशिकाओं को इंसानी शरीर का मूल इकाई भी कहा जाता हैं | खैर इन्हीं कोशिकाओं से मिल कर बाद में टिशू (tissue) और अंग बनते हैं , जो कि एक पूर्ण विकसित इंसानी शरीर का निर्माण करते हैं | मुख्य रूप से साधारण इंसानी कोशिका से स्टेम सेल (stem cell in hindi) काफी ज्यादा अलग होते हैं |

तो, चलिए स्टेम सेल (stem cell in hindi) के ऊपर आधारित इस लेख में आगे बढ़ते हुए इससे जुड़ी कई सारे अद्भुत बातों को जानते हैं |

स्टेम सेल क्या है ? – What is Stem Cell In Hindi ? :-

जैसा की मैंने ऊपर ही कहा हैं , हमारे इंसानी शरीर के अंदर कई प्रकार के सेल मौजूद हैं जो कि बहुत प्रकार के कार्य करते हैं | उदाहरण के लिए आप लाल रक्त कोशिका को (Red Blood Cell or RBC) ही ले लीजिए | मुख्य रूप से RBC शरीर के अंदर ऑक्सिजन की परिवहन करता हैं |

परंतु स्टेम सेल (stem cell in hindi) जो है यह एक विशेष तरह की कोशिका हैं | तो, मित्रों स्टेम सेल किसे कहते हैं ? (what is stem cell ?) नहीं पता ! तो, सुनिए स्टेम सेल एक ऐसा कोशिका (cell) है , जिसके पास जरूरत के समय पर खुद को किसी भी प्रकार के कोशिका (cell) के रूप में ढालने की क्षमता होती हैं | इसीलिए अगर शरीर के अंदर रोग के कारण किसी भी प्रकार के कोशिका की कमी होती है तो , स्टेम सेल उस कोशिका के कमी को शरीर के अंदर पूर्ण करता हैं” |

इसके अलावा स्टेम सेल (stem cell in hindi) लगातार कई बार सेल डिविजन (cell division) के माध्यम से अपने संख्या को बढ़ा सकता हैं , तथा किसी भी विशेष परिस्थिति में यह खुद को आसानी से क्षतिग्रस्त होने से बचा सकता हैं |

स्टेम सेल के प्रकार – Different Types Of Stem Cell In Hindi.

अन्य किसी साधारण इंसानी कोशिका की तरह स्टेम सेल (stem cell in hindi) के भी मुख्य रूप से 3 प्रकार हैं |

1. एम्ब्रोयोनिक स्टेम सेल – Embryonic Stem Cell :-

यह स्टेम सेल इंसानी शरीर के विकास में काफी ज्यादा महत्व रखता हैं , क्योंकि यह सेल इंसानी भ्रूण (embryo) का विकास करवाता हैं | मित्रों ! जब इंसानी भ्रूण अपने प्रारंभिक अवस्था में होता है , तब एम्ब्रोयोनिक स्टेम सेल (embryonic stem cell) इसको विकसित करने के लिए दिमाग को संदेश भेजता हैं |

इस स्टेम सेल की और एक विशेषता यह भी हैं की यह आसानी से शरीर के किसी भी कोशिका (cell) का रूप ले सकती हैं |

2. वयस्क स्टेम सेल – Adult Stem Cell :-

इस कोशिका का मूल कार्य है की जब भी रोग या किसी अन्य कारण से शरीर के अंदर किसी भी प्रकार के कोशिका का अभाव दिखाई पड़ता है , तब वयस्क स्टेम सेल (adult stem cell) उस कोशिका के रूप में अपने को ढाल कर क्षतिग्रस्त कोशिका के संख्या को पूर्ण करता हैं |

Types of Stem cell in Human Body.
स्टेम सेल के प्रकार? Credit:Your Genome.

परंतु मित्रों यहाँ मेँ आपको और भी बता दूँ की वयस्क स्टेम सेल (stem cell in hindi) विशेष रूप से एक प्रकार के कोशिका के रूप में ही अपने को परिवर्तित कर सकता हैं | यह एम्ब्रोयोनिक स्टेम सेल के भांति अपने को किसी भी कोशिका (cell) में परिवर्तित नहीं कर सकता हैं |

इस स्टेम सेल के मुख्य उदाहरण है रक्त और त्वचा के कोशिका | आमतौर पर रक्त और त्वचा के कोशिका (stem cell) अपने ही किसी दूसरे रक्त या त्वचा के कोशिका अपने से बदल सकते हैं |

3. इनड्यूस्ड प्लुरीपोटेंट स्टेम सेल – Induced Pluripotent Stem Cells :-

दूसरे बाकी स्टेम सेल यह स्टेम सेल काफी ज्यादा भिन्न हैं | आमतौर पर इस प्रकार के स्टेम सेल को वैज्ञानिक अपने प्रयोगशाला में कृत्रिम रूप से बनाते हैं | इसलिए इसे ‘iPS Cell’ भी कहा जाता हैं |

इन्हें ज़्यादातर वयस्क स्टेम सेल से ही बनाया जाता हैं | खैर इस स्टेम सेल (stem cell in hindi) की और एक विशेषता यह भी है की , यह एम्ब्रोयोनिक स्टेम सेल (embryonic stem cell) की तरह शरीर के किसी भी कोशिका (cell) में परिवर्तित (transform) हो सकती हैं |

स्टेम सेल के इस्तेमाल – Uses Of Stem Cell In Hindi :-

मित्रों! स्टेम सेल के कई सारे उपयोग हैं , जो की इंसानी शरीर को काफी ज्यादा बेहतर बना सकती हैं | तो , चलिए एक नजर स्टेम सेल के इस्तेमाल के ऊपर भी डालते हैं |

  1. मुख्य रूप से स्टेम सेल को वैज्ञानिक इंसानी शरीर को और भी बेहतर तरीके से समझने के लिए इस्तेमाल में लाते हैं | इस से उन्हें इंसानों के ऊपर होने वाले रोगों का इलाज ढूँढने में काफी ज्यादा मदद मिलती हैं |
  2. स्टेम सेल थेरपी के जरिए अगर किसी भी व्यक्ति को किसी भी प्रकार का कोशिका से जुड़ी रोग है, तो उस से इस थेरपी से काफी ज्यादा ठीक किया जा सकता हैं |
  3. इसके (stem cell in hindi) के जरिए हम इंसानी शरीर के विकाश और कार्य प्रणाली को आसानी से जान सकते हैं |
  4. स्टेम सेल को ले कर हम इसे इंसानी शरीर के किसी भी कोशिका का नकल कर सकते हैं और जरूरत के समय उसे हम इस्तेमाल कर के किसी का भी जान बचा सकते हैं |
  5. अगर हम स्टेम सेल (stem cell in hindi) के विषय में भविष्य में और भी ज्यादा जान पाते हैं तो , इस से हम इंसानी शरीर के लिए किसी भी प्रकार का टिशू व अंग का निर्माण कर सकते हैं | इस से बड़ी खोज विज्ञान में और क्या हो सकता हैं ? अगर स्टेम सेल की यह प्रणाली सफल हो जाती हैं तो हम करडों की तादाद में लोगों का जीवन बचा सकते हैं | आपको इसके बारे में क्या लगता हैं ?

स्टेम सेल से जुड़ी अद्भुत बातें – Amazing Stem Cell Facts :-

मित्रों ! यहाँ मेँ आपको स्टेम सेल से जुड़ी कुछ रोचक तथ्यों के बारे मे जिक्र करूंगा तो लेख के इस भाग को पूरा पढ़ें |

1. स्टेम सेल से हो सकता है एड्स और कई जानलेवा बीमारियों का इलाज :-

आज पूरे विश्व के अंदर HIV बहुत विनाश मचा रहा हैं | अभी तक वैज्ञानिक इस बीमारी का सही इलाज ढूंढ नहीं पाएँ हैं | परंतु खुशी इस बात की है की स्टेम सेल (stem cell in hindi) के जरिए भविष्य में हम लोगों HIV जैसे कई अन्य जान लेवा बीमारियों से भी छुटकारा पा सकते हैं |

2. ज़्यादातर स्टेम सेल शरीर के में होने वाले सूजन को बढ्ने नहीं देते हैं :-

मित्रों ! स्टेम सेल की अन्य एक विशेषता इसकी सूजन प्रतिरोधी गुण (anti-inflammatory) हैं | शरीर में होने वाले किसी भी प्रकार के सूजन को स्टेम सेल ज्यादा बढ्ने नहीं देता हैं | इस लिए वैज्ञानिक स्टेम सेल के इस गुण के ऊपर ज्यादा शोध भी कर रहें हैं , ताकि इससे इंसानी शरीर के लिए प्राकृतिक सूजन प्रतिरोधी दबाई बन सके |

Helps in scientific researches.
कई सारे खोज किए जा रहें हैं स्टेम सेल के ऊपर | Credit: World.
3. स्टेम सेल थेरपी के कोई भी साइड इफैक्ट नहीं हैं :-

अगर आपको भी किसी ने स्टेम सेल (stem cell in hindi) थेरपी करने का सुझाव दिया है तो , शायद आप यह सुझाव बिना किसी झिझक के आसानी से ग्रहण कर सकते हैं | मेँ यहाँ आपको बता दूँ की अभी तक किसी भी स्टेम सेल थेरपी ले रहे रोगी ने इसके साइड इफैक्ट का जिक्र नहीं किया हैं |

तो , स्टेम सेल थेरपी का कोई भी साइड इफैक्ट नहीं हैं |

  1. मधुमेह (diabetes) का भी पूर्ण रूप से इलाज संभव हो सकता हैं इलाज :-

मित्रों ! मैंने ऊपर स्टेम सेल थेरपी का जिक्र किया हैं | क्योंकि ज़्यादातर लोग इसके बारे में नहीं जानते हैं | लोगों के अंदर स्टेम सेल को ज्यादा लोकप्रिय करवाने के लिए आज वैज्ञानिक काफी ज्यादा शोध कर रहे हैं | स्टेम थेरपी साइड इफैक्ट रहित होने के  कारण किसी भी प्रकार के रोगी इसे इस्तेमाल कर सकते हैं |

हाल ही है में वैज्ञानिक स्टेम सेल को मधुमेह रोग के उपचार के लिए इस्तेमाल में लेने को सोच रहें हैं | मेँ आपको यहाँ और भी बता दूँ की इस से रोगियों को पूर्ण रूप से मधुमेह से छुटकारा मिलने के साथ-साथ उनका शरीर पहले की तरह स्वस्थ बन पाएगा |

खैर अभी के लिए इस उपचार के ऊपर शोध चल रहा हैं , परंतु हमें आशा है की जल्द से जल्द वैज्ञानिक इस उपचार को सफल बना कर कई सारे रोगियों के जीवन को बदलने वाले हैं |

5.बन रहें हैं स्टेम सेल के जादुई इंजेक्सन :-

आज के समय में भाग-दौड़ काफी ज्यादा बढ़ गया हैं | इसी कारण से हमारे शरीर के ऊपर समय-समय पर काफी ज्यादा दबाव पढ़ रहा हैं | खैर हर एक चीज़ व शरीर की एक सीमा होती हैं | काफी ज्यादा दबाव के कारण आज कल ज़्यादातर लोगों के हड्डियों के जोड़ों  में दर्द देखें को मिल रहा हैं |

A permanent treatment for joint pain.
जोड़ों के दर्द का इलाज – स्टेम सेल इंगजेक्स्न | Credit : Personalized regenerative medicine org.

इसलिए वैज्ञानिकों ने हाल ही में स्टेम सेल का एक ऐसा इंजेक्सन निकाला है , जिससे इस जोड़ों के दर्द का पूर्ण रूप से समाधान हो सकता हैं | इस इंजेक्सन को कोई भी पीड़ित व्यक्ति सीधे तरीके से अपने घुटने , कंधे व कोहनी आदि में ले सकता हैं | इस इंजेक्सन को लेने के बाद एक झटके में ही दर्द गायब होने का भी जिक्र हमने सुना हैं |

Tags

Bineet Patel

I am a learner and passionate writer who loves to spread the interesting concepts of science through my writing.

Related Articles

Back to top button
Close