Facts & Mystery

जानिए इंसानी आँखों का राज!- Mysterious Eye Facts In Hindi

आपकी आँखों से जुड़ी इन बातों को पढ़ कर क्या आप इसके बाद अपने आँखों पर यकीन कर पाएंगे !

मैंने इससे पहले ब्रह्मांड में मौजूद कई रहस्यमयी ग्रहों, आकाशगंगाओं और तारों के बारे में बहुत कुछ आपको बताया है। मेरे द्वारा पिरामिड के ऊपर लिखी गयी लेख को आप लोगों ने बहुत ही ज्यादा पसंद किया,इसलिए आज उस लेख के भांति हम लोग एक नए विषय के ऊपर गहन चर्चा व उससे जुड़ी कई सारे दिलचस्प बातों का खुलासा करेंगे। मित्रों! मैं यहाँ पर इंसानी आँखों (mysterious eye facts in hindi) की बात कर रहा हूँ। जी हाँ! आपने सही सुना आज हम लोग इंसानी आँखों (mysterious eye facts in hindi) से जुड़ी कई हैरान व अद्भुत तथ्यों के बारे में बात करेंगे और मुझे पूर्ण विश्वास है की इन तथ्यों के बारे में आपने शायद ही पहले कहीं पढ़ा होगा।

जानिए इंसानी आँखों का राज! - Mysterious Eye Facts In Hindi.
इंसानी आँखों का राज | Credit:Security Brief Europe.

खैर आगे बढ्ने से पहले मेँ आपको बता दूँ की मैंने जीवन के ऊपर भी एक अनोखा लेख लिखा है। उस लेख में आपको इंसानी जीवन क्या हैं और इसका सही महत्व क्या होना चाहिए उसके बारे में आपको बहुत कुछ पढ़ने को मिलेगा| मैंने उस लेख को अपने हिसाब से जितना हो सकता है उतना आपके लिए मार्मिक बनाया है , इसलिए आप लोगों से अनुरोध है की उस लेख को भी एक बार जरूर पढ़ें और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें|

क्या है इंसानी आँखों का राज ! – Mysterious Eye Facts In Hindi :-

मित्रों! आगे इस लेख में मैंने आप लोगों को आँखों से जुड़ी कुछ बेहद ही अनोखे बातों (mysterious eye facts in hindi) का जिक्र किया हैं| इसलिए इन बातों को आप आरंभ से ले कर अंत तक अवश्य ही पढ़ें|

1. पृथ्वी पर 55 करोड़ साल पहले हु था आँखों का जन्म! :-

मित्रों ! आगे मेँ जो कहने जा रहा हूँ उस पर आपको शायद ही यकीन आए| परंतु यह बात सत्य हैं| पृथ्वी पर इंसान लगभग 6 करोड़ साल पहले आया था , परंतु हैरानी की बात यह है की पृथ्वी पर इंसानों के आने से पहले ही उस समय मौजूद अन्य जीवों के अंदर आँख पायी जाती थी| एक शोध से पता चला है की पृथ्वी पर आँखों का जन्म 55 करोड़ साल पहले हुआ था | वाकई में इंसानों के अंदर आँख एक बहुत ही प्राचीन अंग के रूप में अभी तक मौजूद हैं|

2. आप आँखों से नहीं दिमाग से देखते हैं ! :-

शीर्षक पढ़ कर कैसा लग रहा हैं| थोड़ा अजीब लग रहा हैं न! मुझे भी लगा था जब मैंने पढ़ा था की इंसान वास्तव में आँखों से नहीं परंतु दिमाग से देखता हैं| अब यहाँ पर कुछ लोग कहेंगे की यह तो असंभव है , भला कोई आँखों के बिना कैसे देख सकता हैं| मित्रों! आपकी बात भी अपने जगह सही है, परंतु यहाँ थोड़ा गौर करें|

हमारा आँख स्नायु तंत्र के द्वारा हमारे दिमाग से जुड़ा हुआ होता हैं| इसलिए जो भी हम आँखों के जरिए देखते हैं; वह कैमरे में कैद हुई एक तस्वीर के भांति हमारे दिमाग तक (आँखों के जरिए कैद हो कर) पहुँच जाता हैं| बाद में हमारा दिमाग इस तस्वीर को और भी ज्यादा विश्लेषित कर के हमको दिखाता हैं| खैर देखने के लिए आँखों का होना बहुत ही ज्यादा जरूरी हैं|

3. आप हर एक वस्तु को उलटे तरीके से देखते हैं ! :-

इंसानी आँखों से जुड़ी और एक खास बात (mysterious eye facts in hindi) यह है की , हम लोग जिस किसी भी वस्तु को अपने आँखों के जरिए देखते है , वह वास्तव में उलटा होता हैं| बाद में जब यह दिमाग में पहुंचता है तब यह उलटी तस्वीर सीधी हो कर दिमाग हमें एक नया तस्वीर दिखाता हैं|

4. एक सेकंड में आप 5 बार पलकें झपका सकते हैं !:-

ज़्यादातर लोग एक सेकंड में 1 या दो बार पलकें झपकाते हैं | परंतु क्या आप जानते है ! इंसानी आँखें एक सेकंड में ज्यादा से ज्यादा 5 बार भी पलकें झपका सकती हैं | तो, अब बताइए आप एक सेकंड में कितने बार अपने पलकें झपका सकते हैं? जरूर बताइएगा|

इसके अलावा आँखों से जुड़ी और एक रोचक बात (mysterious eye facts in hindi) यह है की, इंसानों का आँख बात करते समय बहुत ही ज्यादा पलकें झपकाता हैं| इसलिए कई बार बात करते समय आपकी आँखें अनजाने ही अपने-आप बंद भी हो जाता हैं|

जानिए इंसानी आँखों का राज! - Mysterious Eye Facts In Hindi.
इंसानी आँखों का एनैटॉमी | Credit: La Pine Eye care.
5. आँखों में होता है सबसे तेजी से काम करने वाला मांसपेशी ! :-

वैसे तो इंसानों के शरीर के अंदर 650 से भी ज्यादा मांसपेशियाँ मौजूद हैं , परंतु क्या आपको सबसे तेजी से काम करने वाले मांसपेशियों के बारे में पता हैं| दोस्तों हमारे आँखों में सिलीअरी मसल (Ciliary Muscle) नाम का एक बहुत ही तेजी से काम करने वाला मांसपेशी मौजूद रहता है , जो की हमारे आँखों में मौजूद लेंस को सही तरीके से काम करने में मदद करता हैं|

इसलिए हम एक सेकंड में 5 बार पलकें भी झपका सकते हैं| मित्रों ! मेँ आपको यहाँ और भी बता दूँ की इतनी तेजी से हमारे शरीर में और कोई भी मांसपेशी काम नहीं कर पाता हैं| इसके अलावा यह एक प्रकार से बहुत ही खास मांसपेशी है , क्योंकि यह काफी देर तक काम करने के बाद भी अन्य मांसपेशीओं के तरह नहीं थकता हैं , हालांकि नींद के द्वारा इसे भी कुछ समय के लिए विश्राम चाहिए होता हैं|

6. इतने समय में आप एक बार अपने पलकें झपकाते हैं! :-

आपको अपने ही आँखों के बारे में इतने अद्भुत (mysterious eye facts in hindi) बात जानकर यकीन नहीं आएगा | दोस्तों ! हमारा शरीर हमारे कल्पना से परे हैं , क्योंकि आज तक इंसान इसके बारे में जुड़ी हर एक विषय के बारे में नहीं जान पाया हैं| खैर आपकी आँखें एक बार पलकें झपकाने के लिए 100 से 150 मिली-सेकंड का समय लेता हैं|

आपका शरीर आपके सोच से भी बहुत ज्यादा तेज हैं| एक बार इसे अंदर से पहचाने |

7. हर वक़्त काम करने के लिए तत्पर रहती है आपकी आँखें ! :-

दोस्तों ! आपके शरीर में ऐसे बहुत ही कम अंग है जो की अल्प या बिना किसी विश्राम के लिए बहुत देरी तक बिना रुके काम कर सकते हैं| खैर आँख आपके शरीर में मौजूद एक ऐसा अंग है जो की हर समय 100% रूप से काम करने में तत्पर रहता हैं| इसके अलावा यह बहुत ही कम विश्राम का मांग भी करता हैं|

तो, आपको अपने आँखों का सही तरीके से ध्यान और ख्याल रखना चाहिए | आँखों का होना आपके शरीर को पूर्ण बनाता हैं,हमेशा इसका कद्र करें|

8. इंसानी आँख होती हैं इतने मेगा-पिक्सलों की ! जानकर हो जाएंगे हैरान :-

आज हर कोई डीएसएलआर पर तस्वीर खिंचने को व्याकुल हैं| युवा पीढ़ी के अंदर तो सुंदर-सुंदर तस्वीरों को ले कर एक अलग ही प्रकार का उत्साह दिखाई पड़ता हैं| आज कल के अच्छे-अच्छे कैमेरा ज्यादा से ज्यादा 50 मेगा पिक्सल तक होते हैं| परंतु क्या आपको पता है इंसानी आँखें लगभग 576 मेगा-पिक्सल का होता हैं|

आज हम लोग 20 से 24 मेगा-पिक्सल के लिए पागल है , परंतु विडंबना की बात यह है की हमारे पास प्रकृति ने इससे कई अधिक ताकतवर और ज्यादा मेगा-पिक्सल वाली एक बहुत ही मूल्यवान अंग हमें तौफ़े के तौर पर दिया हैं| क्या हम इसके बारे में जानते हैं?

9. आप एक साल में 4,200,000 बार पलकें झपकाते हैं ! :-

मैंने ऊपर ही पलकें झपकाने के बारे में जिक्र किया हैं| परंतु पलकें झपकाने के बारे में एक और अनोखी जानकारी आपको मेँ देना चाहता हूँ| मित्रों! एक स्वस्थ इंसानी आँख एक साल के अंदर 4,200,000 बार पलकें झपकाता हैं| तो, इससे आप अब अपने आँखों के कार्य करने की क्षमता के बारे में अनुमान लगा सकते हैं| इतनी बार हर साल कार्य करने के बाद भी आपकी आँखें थकती नहीं हैं और जीवन भर आपका साथ देने को तैयार रहते हैं|

Looking candle light.
22km दूरी से भी आप देख सकते हैं मोमबत्ती के रौशनी को | Credit:Stocksy United.
10. काफी तेजी से ठीक होती हैं आपकी आँखें :-

आँखों के बारे में और एक रहस्यमयी (mysterious eye facts in hindi) बात यह है की , शरीर के अन्य अंगों से विपरीत यह काफी तेजी से किसी सामान्य जख्म होने के बाद स्वस्थ होता हैं| एक शोध से पता चला है की 48 घंटों एक अंदर किसी सामान्य कॉर्निया स्क्रेच से आँख पूर्ण रूप से स्वस्थ हो जाता हैं|

11. भूरी आँखों के बारे में एक दिलचस्प बात :-

एक सर्वे से पता चला है की ज़्यादातर इंसानों के आँखों का रंग का भूरा हैं| तो क्या आपके आँखों का रंग भी भूरा हैं?

12. नीली आँखों वाला पहला इंसान 6,000 से 10,000 साल पहले पृथ्वी पर जन्मा था :-

वैसे तो पृथ्वी पर इंसान पिछेले कई करोड़ सालों से रह रहा हैं , परंतु क्या आपको पता है ! नीले आँखों वाला पहला इंसान धरती पर मात्र 6,000 से 10,000 साल पहले ही पैदा हुआ था| वैज्ञानिकों का मानना है की नीले आँखों को बनाने वाली जिन(gene) इंसानों के अंदर काफी बाद उत्पन्न हुआ था|

इसलिए ज़्यादातर लोगों की आँखें आपको भूरी या चॉक्लेट रंग सा देखने को मिलेगा | वैसे नीली आँखों से साथ ही साथ आपको हरे आँखों वाले व्यक्ति भी देखने को मिल जाएंगे |

13. 22 किलोमीटर दूरी से भी इंसानी आँख इस चीज़ को देख सकती है ! :-

आप से अगर मेँ पुछूँ की आपकी आँखें ज्यादा से ज्यादा कितने दूरी तक देख सकते हैं ? तो,आपका जवाब क्या होगा ! शायद आपका जवाब ज्यादा से ज्यादा कुछ मीटरों की दूरी तक होगा | परंतु क्या आप जानते है ! आपकी आँखें 22 किलोमीटर दूरी से भी एक मोमबत्ती की प्रकाश को देख सकते हैं|

दोस्तों! मेँ आपको यहाँ बता दूँ की 22 किलोमीटर दूरी से किसी भी मोमबत्ती को देखने के लिए सही परिवेश और सही प्रकाश का होना बहुत ही जरूरी हैं| आप बिना किसी सही परिवेश या स्थिति के इतने दूर तक नहीं देख सकते हैं|

14. जन्म से ले कर 6 हफ्तों तक इंसान चाह कर भी आँसू नहीं बहा सकता हैं ! :-

मित्रों! आपने कभी छोटे-छोटे शिशुओं को गौर से रोते हुए देखा हैं| अगर आपने नहीं देखा है, तो ध्यान से सुनिए | शिशु के जन्म से ले कर 6 हफ्तों की उम्र होने तक वह रोने के समय आँसू नहीं बहा सकता हैं| जी हाँ! सुनने में काफी अजीब और दिलचस्प लगने वाली यह बात पूर्ण रूप से सत्य हैं|

किसी वयस्क व्यक्ति की तरह शिशुओं की आँखों के पास मौजूद आँसू बनाने वाली ग्रंथियां उतने विकसित नहीं हुए होते हैं| इसलिए जब भी एक शिशु रोता है तब उसकी आवाज ही सिर्फ आपको अपने कानों में सुनाई देगी , क्योंकि आँखें तो अभी तक आँसू बनाना ही नहीं जानते होंगे | वाकई आँखों से जुड़ी इतनी दिलचस्प बातें (mysterious eye facts in hindi) शायद ही कभी पढ़ने को मिलता हैं| आपका इसके बारे में क्या राय हैं? जरूर ही बताइएगा|

15. इंसानी दिमाग 80% आँखों देखी चीज़ को याददाश्त में रखता हैं :-

इंसानी दिमाग प्राचीन काल से ही आँखों देखी चीज़ को हमेशा सत्य और महत्वपूर्ण मानता हैं| आँखों देखी चीज़ें इंसानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं| एक इंसानी दिमाग 80% आँखों देखी चीजों को अपने यादास्थ में रखता हैं| इसलिए ज़्यादातर पढ़ाने के दौरान विद्यार्थियों को पढ़ने वाली बातों के मुकाबले आँखों देखी चीजों के बारे में ज्यादा याद रहता हैं |

अगर आप भी किसी भी चीज़ को ज्यादा देरी तक नियमित रूप से देखते रहेंगे , तो आपके दिमाग उस वस्तु का छवि अपने-आप ही छप जाएगा | एक बार दिमाग में छपी हुई तस्वीर आसानी से याददाश्त से नहीं जाता हैं| कई वैज्ञानिक जटिल तथ्यों को याद रखने के लिए उसी एक तथ्य को दिन में कई बार देखते हैं | अपने दिमाग को ज्यादा तेज और अच्छा बनाने के लिए यह एक बहुत ही सटीक तरीका हैं|

Child's eye can not make tear.
आँसू नहीं बहा सकते हैं छोटे बच्चे | Credit:BBC.
16.आँखों की कोशिकाएँ जीवन से मृत्यु तक आपके साथ ही रहती हैं :-

एक बहुत ही अजब बात आपको मेँ आँखों के बारे में बताता हूँ | हर एक क्षण आपके और दुनिया में मौजूद हर एक इंसान की शरीर में कोशिकाओं का जन्म और मृत्यु घट रहा हैं| रोजाना करड़ों कोशिकाएँ मर रही हैं और करोड़ों जन्म ले रही हैं| परंतु आपकी आँखों में मौजूद कोशिकाएँ जन्म से लेकर मरने तक आपके साथ वैसे का वैसे ही हो कर रहती हैं |

शरीर में मौजूद बाकी अंगों के कोशिकाएँ एक नियमित अंतराल में मर जाती हैं , परंतु आँखों की कोशिकाएँ आपकी मृत्यु तक नहीं मरती हैं|

17. आप आँखें खुला रख कर छींक नहीं सकते हैं :-

कभी अपने आँखें खुला रख कर छींका हैं ? सोचिए-सोचिए गौर से सोचिए | मित्रों ! पूरे पृथ्वी में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो की आँखों को खुला रख कर छींका हो | आप जितना भी प्रयास करें परंतु आप कभी भी आँखों को खुला रखकर छींक नहीं सकते हैं|

हमारा दिमाग छींकने के वक़्त हमारी आँखों को स्वतः ही बंद करवा देता हैं| यह एक प्रकार से रीफ्लैक्स एक्शन हैं | अनजाने में ही हमारा शरीर इसको नियंत्रित करता हैं और एक बात हमारा शरीर हमसे भी ज्यादा बुद्धिमान हैं|

18. देखने के लिए दिमाग का 50% हिस्सा इस्तेमाल में आता है :-

जैसा की मैंने आपको पहले ही कहा है,हमारा शरीर हमारे दिमाग से परिचालित होता हैं| इसलिए शरीर में होने वाली हर एक कार्य दिमाग को ही देखना पड़ता हैं| समय और परिस्थिति के हिसाब से हमारा दिमाग कई सारे प्रक्रियाओं को एक साथ अंजाम देने में सक्षम हैं| इसलिए दिमाग को हर वक़्त तैयार और सचेत हो कर रहना पड़ता हैं|

वैसे तो हमारे शरीर में हर एक क्षण कोई न कोई प्रक्रिया घट रहा हैं , परंतु इंसानी दिमाग के लिए देखने की प्रक्रिया को सही तारिके से नियंत्रण करने के लिए काफी ज्यादा मेहनत करना पड़ता हैं| इंसानों का दिमाग सिर्फ देखने के लिए अपना 50% हिस्सा स्वतंत्र रूप से खाली कर के रखता हैं| जी हाँ ! 50% हिस्सा सिर्फ देखने के लिए इस्तेमाल में आता हैं|

दिमाग का बाकी बचा 50% हिस्सा शरीर के सुनने , बोलने ,चलने जैसे अन्य कई प्रक्रियाओं को सटीक और सहज तरीके से अंजाम देने के लिए इस्तेमाल में आता हैं| मित्रों! यहाँ पर मेँ आपको और भी बता दूँ की दिमाग को अगर देखने के कार्य में अपना 50% हिस्सा देना पड़ता है , तब इसका दूसरा 50% उस समय में स्वतः रूप से अन्य कार्यों के लिए तत्पर हो जाता हैं|

19. आँखों की सर्जरी में इस्तेमाल होता है सार्क के आँखों का कोर्नेया! :-

विज्ञान ने इंसानों के लिए सर्जरी में कई सारे रास्ते खोल दिया हैं| विज्ञान में विकास के कारण आज इंसान के आँखों का कोर्नेया सार्क के आँखों का कोर्नेया से भी बदला जा सकता हैं| जी हाँ! सार्क का कोर्नेया इंसानों के कोर्नेया से काफी ज्यादा मिलता-जुलता हैं| इसलिए कई बार इसे कोर्नेया के सर्जरी में भी इस्तेमाल किया जाता हैं|

मित्रों ! आँखों से जुड़ी इतनी अद्भुत बातों (mysterious eye facts in hindi) के बारे में पढ़ने का मौका इससे पहले कहीं आपको मिला था ?

20. दिमाग में बाद आँखें होती है शरीर में मौजूद सबसे जटिल अंग ! :-

हर किसी को पता है की हमारे शरीर में हमारा दिमाग सबसे जटिल और महत्वपूर्ण अंग हैं| परंतु क्या आपको इंसानी दिमाग के बाद शरीर की दूसरी सबसे जटिल अंग के बारे में पता हैं? नहीं न! तो सुनिए | इंसानी आँख शरीर की दूसरी सबसे जटिल अंग हैं| यह हर एक घंटे में 36,000 तथ्यों को दिमाग के पास पहुंचाता हैं|

इसके अलावा पूरी जिंदगी में हमारी आँखें 2.4 करोड़ तस्वीरों को दिमाग के पास पहुंचाती हैं| खैर पूरे लेख में बहुत सारी जटिल तथ्यों के बारे में आपको बताने के बाद एक बहुत ही सरल तथ्य का जिक्र मेँ यहाँ करना चाहता हूँ| मित्रों! 2.4 करोड़ अलग-अलग तस्वीरों को आपको दिखाने के बाद भी हमारी आँखें मूल रूप से तीन रंगों को पहचाना सकती हैं|

नीला,हरा और लाल इन्हीं 3 रंगों को हमारी आँखें पहचाना सकते हैं| बाकी जो भी रंग हम देखते हैं वह इन 3 रंगों की मिश्रण से बना रंग हैं| इसलिए हमें हमारे आँखों का सही तरीके से खाने और विश्राम के जरिए ख्याल रखना चाहिए | विटामिन A और विटामिन C आँखों को तेज करने के लिए बहुत ही लाभकारी हैं| आपको अपने खान-पान में इन विटामिन युक्त खाना खाना चाहिए |

Source:- www.lensstore.co.uk.

Tags

Bineet Patel

मैं एक उत्साही लेखक हूँ, जिसे विज्ञान के सभी विषय पसंद है, पर मुझे जो खास पसंद है वो है अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान, इसके अलावा मुझे तथ्य और रहस्य उजागर करना भी पसंद है।

Related Articles

Back to top button
Close