Mystery

आखिर किस कारण से ताजमहल के तहखानों को बंद रखा जाता है? जानिए

दोस्तों, यह तो हम सभी जानते हैं कि ताजमहल एक विश्व की सबसे उत्तम वास्तुकला है। इस इमारत का निर्माण जब से हुआ है तबसे यह लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बनी हुई है।

ताजमहल उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में है, यह एक प्रेम की निशानी है जिसे कहा जाता है कि मुगल राजा शाहजहां ने इसे अपनी बेगम की यीद में बनवाया था। शाहजहां-मुमताज की प्रेम कहानी के लिए भी ताजमहल पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। ताजमहल पूरी दुनिया में जितना अपनी सुदंरता के लिए फेमस है उतना ही वह अपने पीछे छुपाए हुए रहस्यों के लिए बहुत बदनाम भी है और प्रसिद्ध है।

ताजमहल के रहस्यों को लेकर एक रहस्य उसके तहखानों का भी है, ये तहखाने कई वर्षों से बंद पड़े है और इन्हें खोलने की भी मनाही है। आखिर इन तहखानों में ऐसा क्या है जिसके लिए खोलने से मना किया जाता है..

ताजमहल के तैखाने में पूरे 22 कमरे हैं। सदियों से ताजमहल के यह तहखानें बंद पड़े हैं। आज तक किसी को भी यह पता नहीं चल पाया है कि यह तैखाने क्या हैं, इनका क्या रहस्य है और इन तहखानों को क्यों बंद किया हुआ है। आज हम आपको इन तहखानों के बारे में कुछ खास बातें बताएंगे और इन से जुड़े ऐसे सच जिनके बारे में दुनिया शायद ही जानती होगी।

Source

कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा को तहखाने में आने से रोका जाता है

कर्ई ऐसे सिद्धांतकार हैं जो यह कहते हैं कि ताजमहल के बेसमेंट में जो कक्ष बने हुए है वह मार्बल के बने हुए हैं। ऐसा कहा जाता है कि तहखाने में कार्बन डाइऑक्साइड की अगर मात्रा बढ़ जाएगी तो वह कैल्शियम कार्बोनेट में बदल जाएगी।

तहखाने में हिंदू मूर्ती और वास्तुकला पाई गई है

साल 1934 में दिल्ली के एक निवासी ने दीवार पर एक छेद के जरिए ताजमहल के तैखाने के अंदर जो कमरे थे उनमें झांका कर देखा था। उस आदमी ने देखा कि वह कमरा स्तंभों से बना एक बहुत बड़ा हॉल था और वह स्तंभ हिंदू देवी- देवताओं की मूर्तियों से भरा पड़ा था। उस व्यक्ति के अनुसार कमरे में रौशनदानियां बनी हुई थी जो आमतौर पर बड़े हिंदू मंदिरों में देखने को मिलती है।

ताजमहल के इन रहस्यों पर हम आपको एक वीडियो भी साझा कर रहे हैं, आप लोग उस वीडियो को जरूर देखें…

यह भी जानें – जानिए ताजमहल से जुड़े अनसुने रहस्य, जो आपने कहीं नहीं सुने होंगे

Pallavi Sharma

पल्लवी शर्मा एक छोटी लेखक हैं जो अंतरिक्ष विज्ञान, सनातन संस्कृति, धर्म, भारत और भी हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतीं हैं। इन्हें अंतरिक्ष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close