Tech & Future

Quantum Computers क्या होते हैं? क्या है Quantum Computing का भविष्य

क्या आप हमारे अगले पीढ़ी के Computer के बारे में जानते हैं?

नमस्कार मित्रों! कैसे हैं आप सब? मित्रों आज मेँ आपको एक अनोखे चीज़ (Quantum Computing and Quantum Computers)  के बारे मे बताने जा रहा हूँ, क्योंकि  इसके बारे मेँ कोई भी बात नहीं करता है। इसके अलावा ( furthermore ) यह विषय बहुत ही महत्वपूर्ण भी है,मित्रों! मेँ आज आपको Quantum Computers (क्वांटम कंप्यूटर) के बारे में बताने जा रहा हूँ।

जी हाँ! Quantum Computing,  हालाँकि ( although ) यह विषय थोड़ा सा जटिल है| परंतु ( but ) मेँ किस लिए हूँ| Quantum Computing को मेँ यहाँ ( here ) पर बहुत ही आसान तरीके से समझाऊंगा| तो, चिंता न करिए|

वैसे मित्रों , आज ( now ) हर कोई Computer के बारे मेँ जनता ही है| जब से ( since ) Computer की खोज हुई है, तब से ( afterward ) इस के ऊपर ( above ) गंभीर रूप से शोध चलता ही जा रहा है| मुझे तो यहाँ ( here ) तक लगता है की , एक न एक दिन हमारे द्वारा बनाई गयी Computer हमारे ऊपर ही राज करने वाला है|

इसके बाद ( next ) शायद मनुष्य का अस्तित्व भी खतरे मे आ सकता है| परंतु ( but ) मित्रों यह सब मेरी एक कल्पना भर ही है| आगे चल कर ऐसा कोई भी असुविधा न भी हो| विशेष ( specifically ) रूप से अगर हम इसके लिए कोई ठोस कदम उठाएँ तो!

तो, चालिए मित्रों Quantum Computing के इस लेख में आगे बढ़ते हुए , इससे जुड़ी और भी कई सारी बातों को जानते हैं| परंतु ( but ) मेँ यहाँ ( here ) आपको पहले से बता दूँ की आपको अगर Quantum Computing समझना है तो , इस लेख को पूर्ण रूप से पढ़ना पड़ेगा|

Quantum Computing क्या है ? – What is Quantum Computing In Hindi.

मित्रों! Computer जैसा की मैंने ( before ) पहले ही ऊपर ( above ) कहा है , इससे तो आप सभी परिचित जरूर ही होंगे| इसलिए ( for this reason ) में आपको कह रहा हूँ , अगर आपको Quantum Computing समझना है तो पहले ( first ) आपको Computer की मूल भूत बातों को जानना ही पड़ेगा| यहाँ ( here ) पर में आशा करता हूँ की , आप Computer के बारे में थोड़ा बहुत तो जानते ही होंगे| क्योंकि ( because ) भाई ! यह Computer का ही तो युग है|

तो, प्रश्न पर आते है| Quantum Computing क्या होता है? दरअसल यह एक प्रकार अत्याधुनिक यंत्र है , जो की Quantum Physics के आधारों और नियमों पर कार्य करता है| इस यंत्र में इस्तेमाल मे लाए गए  Components आकार में बहुत ही छोटे होते हैं ( Nano scale ) और इनके भीतर की तापमान अंतरिक्ष की तापमान से भी ठंडा होता है| यकीन मानिए इतनी ठंडी वस्तु पृथ्वी पर होना शायद की एक करिश्मा से कम ही है| परंतु ( but ) दोस्तों में यहाँ ( here ) आपको और भी बता दूँ की , इतनी कम तापमान में किसी भी यंत्र का काम कर पाना अपने आप में ही एक जादू से कम नहीं है|

इसलिए ( for this reason ) दुनिया के कई नामुमकिन कार्य को भी Quantum Computing आसानी से  हल कर सकता है| Quantum Computing ऐसे-ऐसे कार्य को करने में सक्षम है , जिसको की हम हमारे Computer में करने की भी सोच नहीं सकते| Quantum Computing बहुत ही कठिन कामों को चंद मिनटों में सफलता पूर्वक कर देगा जिसे की आज के जमाने की Computer हल करने में कई खरबों साल लगता | जी हाँ! आपने सही सुना कई खरबों साल|

यहाँ ( here ) पर में आपको बता दूँ की| Quantum Computing स्वास्थ्य , कृषि और विज्ञान में बहुत विकास ला सकता है|

Quantum Computing कैसे कार्य करता है ? – How does Quantum Computing Work?

किसी भी विषय पर गभीर रूप से तभी पहुँचा जा सकता है जब ( when ) उसके कार्य करने की प्रणाली को सही रूप से जान लिया जाए| इसलिए ( for this reason ) में ने यहाँ ( here ) पर अति सरल भाषा में Quantum Computing के कार्य प्रणाली को समझाया है| तो, ध्यान पूर्वक इसे पढ़ते रहे|

हमने जाना ही होगा की साधारण रूप से Computer Binary digits के ऊपर ( above ) कार्य करते हैं| परंतु ( but ) Quantum Computing में इससे विपरीत ( on the Contrary ) Qubits digit का इस्तेमाल होता है| Qubits digit का Binary digit की भांति कोई स्थिर संरचना नहीं होता| हर एक Qubits digit का अपना ही एक अलग स्थान होता है , जिसे की Super Position कहा जाता है|

हालाँकि ( although ) Qubits को Superposition अनोखा बनाता है| परंतु Qubits की नाजुक संरचना इसकी शक्ति का मूल कारण होता है| इन Qubits के अंदर इतने मात्रा में ऊर्जा भरी हुई होती है की , इसे कार्यक्षम बनाने के लिए Quantum Computing को Absolute Zero ( पूर्ण-शून्य ) की तापमान मेँ ठंडा करके रखा जाता है| Qubits में छुपी हुई ऊर्जा इसे पूर्ण रूप से ठंडा होने के बाद भी ज्यादा देर तक कार्यक्षम बन कर रहने नहीं देती है|

इसलिए ( for this reason ) Quantum Computing में Programming का काम थोड़ी अलग तरीके से

Quantum Computing - भविष्य का Computer।
  • Save
Quantum Computing Credit: Chemistry world

किया जाता है| यहाँ ( here ) एक प्रोग्राम को संपन होने के लिए बहुत कम समय मिलता है| क्योंकि ( because ) Qubits ज्यादा देर तक कार्यक्षम हो कर नहीं रहते| यहाँ ( here ) मेँ आपको और भी बता दूँ की Quantum Computing में बहुत प्रकार के Logic gates का भी इस्तेमाल होता है|

Quantum Computer को बनाना क्यूँ कठिन है ? – Why Quantum Computer is so hard to build ?

दोस्तों! मेरे को यहाँ ( here ) ऐसा लगा की इस विषय पर भी थोड़ी चर्चा कर ही लिया जाए| क्योंकि ( because ) ज़्यादातर लोगों के मन मे यहीं सवाल बार आता होगा की , Quantum Computer बनाना क्यूँ कठिन है?

इसलिए ( for this reason ) चालिए इस सवाल के जवाब को ढूंढते हैं| सब से पहले ( first ) तो हमें यह समझना होगा की Quantum Computer की सबसे बड़ी दुश्मन इस के अंदर इस्तेमाल किया गया Qubits digit है| जी हाँ ! Qubits को सही तरीके से एक नियंत्रण मे इस्तेमाल करने के लिए हमें अत्याधुनिक तकनीक व यंत्रों की जरूरत पड़ेगी| जो की फिलहाल हमारे पास नहीं है| इसके अलावा ( furthermore ) पूर्ण-शून्य की तापमान को लंबे समय तक बनाए रखने के लिए भी हम अभी ( now ) सक्षम नहीं है|

तो, मित्रों इस तरीके के बहुत सारी बातें हैं , जो की यहाँ ( here ) Quantum Computer को सफल होने से रोकेंगी| परंतु ( but ) मुझे पूर्ण रूप से विश्वास है की एक ना एक दिन यह सच में सफल होगा और हम इसे इस्तेमाल भी कर पाएंगे| वैसे तो आज ( now ) आज Quantum Computing के ऊपर बहुत सारी वैज्ञानिक शोध कर रहे हैं| परंतु ( but ) यह वक़्त ही बताएगा की उनके शोध कितने कामयाब होते हैं| अच्छा मित्रों! शोधो से याद आया मैंने हाल ही में वैज्ञानिकों के द्वारा किए गए 5 सबसे अजीब शोधो का एक लेख में जिक्र किया है|

इसलिए ( therefore ) में आपसे यह आग्रह करूंगा की , आप उस लेख को जरूर एक बार देखें | क्योंकि ( because ) देखने में थोड़ी ना कोई पैसे लगते हैं| वैसे मित्रों और एक बात हमने रसायन विज्ञान से जुड़ी सबसे रोचक बातों का भी जिक्र किया है| तो, उसे भी आप देख सकते हैं ( अगर आप चाहें तो ) |

Quantum Computing - भविष्य का Computer।
  • Save
Quantum Computer

Quantum Computer की विशेषताएँ – Advantages of Quantum Computer.

हालाँकि ( although ) मैंने पहले ( first ) ही कह रखा है की , Quantum Computer को बनाने के लिए हमें काफी मेहनत करनी पड़ती है| परंतु ( but ) फिर भी ( nevertheless ) IBM ने अपने कड़ी मेहनत से एक Quantum Computer को जन्म दिया है| जैसे की आपको मैंने पहले ( before ) से और भी बता रखा है की Quantum Computer जो है वह हमारे वर्तमान के Computer से काफी तेज और काफी समझदार है| यह बात IBM ने अपने Quantum Computer से साबित कर के भी दिखाया है|

वैसे तो हमारे जो साधारण Computer होते हैं उस में आमतौर पर Classical Algorithms का इस्तेमाल किया जाता है| परंतु ( but ) इसके विपरीत ( on the contrary ) Quantum Computer में Quantum Algorithms का इस्तेमाल होता है , जो की किसी भी Task या application को चंद सेकंड मे खोल के अपना काम कर के आपको निष्कर्ष या Out put दे देगा|

यहाँ ( here ) पर आपको यह लग रहा होगा की , यह सब Algorithms को बनाना बहुत ही आसान और किफ़ायती होगा| परंतु ( but ) मित्रों ऐसा बिल्कुल भी नहीं है| मे आपके जानकारी के लिए बता दूँ की एक जी हाँ सिर्फ एक  Quantum Algorithms लो बनाने के लिए बहुत ही कड़ी मेहनत की जरूरत पड़ती है| इसके साथ-साथ ( further more ) इन algorithms को बनाने के लिए बहुत ही समय भी लगता है|

AT and T के इंजीनियर Peter Shor ने एक Quantum factorization algorithm का निर्माण किया था| यह algorithm बहुत बड़े-बड़े संख्याओं को factorizing कर के छोटे-छोटे prime number में परिणत करता है| इस में ध्यान देनी बात यह है की , यहाँ ( here ) Quantum computer ने Quantum parallelism का इस्तेमाल कर के इस प्रकार का अभूतपूर्व काम करने में सक्षम हो पाता है| इसके बाद ( next ) अगर हम अपने साधारण Computer को देखें तो , इस प्रकार के Factorization के काम वह करने में 10.1 billion साल भी लगा देगा|

Quantum Computer की कुछ खामियाँ – Disadvantage of Quantum Computers.

मित्रों! हर एक चीज़ की अपनी ही खूबी और खामियाँ होती ही हैं| संसार में ऐसा कोई चीज़ नहीं होगा जो पूर्ण रूप से एक दम सही होगा| यहाँ ( here ) पर कहने का महत्व यह है की , बाकी सारी अन्य चीजों की तरह Quantum Computer की भी अपनी ही खामियाँ मौजूद है| हालाँकि ( although ) इस की खामियाँ इसकी खूबियों से ज्यादा नहीं है| परंतु ( but ) वास्तविकता में तो खामियाँ हैं तो हैं| इसमें आप या में कोई टिप्पणी नहीं कर सकते| खूबियों की तरह खामियाँ भी समान रूप ( similarly )  किसी भी वस्तु या किसी भी व्यक्ति को और भी बेहतर बनाता है| इसलिए ( for this reason ) खामियों को भी हमें जानने की जरूरत बहुत ज्यादा है|

ज़्यादातर लोग खामियों को नहीं बताते| परंतु ( but ) मैंने सोचा की क्यूँ ना इस पर भी एक नजर डाला जाए| वास्तव ( indeed ) में Quantum Computer को अगर हम अच्छे से देखेंगे तो , यह एक जटिल और महंगी यंत्र है| हाँ! और एक बात आप Quantum Computer और Super Computer में भ्रमित न होई ए गा| क्योंकि ( because ) मैंने बहुत सारे लोगों को देखा है की वह इन दोनों Computer को एक समान ही मान लेते हैं|

क्या Quantum Computer को हम इस्तेमाल कर सकते हैं?

हमारे देश में सबसे पहली बात पैसों की ही आती है| क्योंकि ( because ) हम एक विकासशील देश में रहते है , जहाँ किसी भी चीज़ की कीमत उसके सफलता को दर्शाता है| हालाँकि IBM ने अपना ही एक Quantum Computer बना लिया है| परंतु ( but ) क्या आप जानते है! अगर आपको उनके Quantum Computer को इस्तेमाल करना है तो , आपको उनके द्वारा बनाए गए plan के हिसाब से Subscription करा के Computer को इस्तेमाल कर पाएंगे|

यहाँ ( here ) पर थोड़ा सोचिए की एक Quantum Computing सिस्टम की कीमत कितनी ज्यादा होगी| इसके साथ-साथ ( in addition to this ) Quantum Computing की जटिल कार्य प्रणाली इसे और भी कम करने के लिए कठिन बनाता है| लोगों को विशेष ( specifically ) रूप से इसको चलाने के  लिए training लेना पड़ेगा| क्योंकि ( because ) यह साधारण Computer से काफी अलग और आधुनिक है|

यहाँ ( here ) पर मेँ और एक बात कहना चाहूँगा| जैसे की में आपको पहले ( before ) ही बता चुका हूँ| Quantum Computer को चलाने के लिए बहुत ही आधुनिक और जटिल Algorithm की जरूरत पड़ती है| इसलिए ( for this reason ) इसे 100% तरीके से हर एक व्यक्ति के अनुसार सही तरीके से बना पाना मुश्किल है| क्योंकि ( because ) इस में दोनों बहुत सारे पैसे और समय  लगेगा|

Quantum Computing का भविष्य क्या है ? – Future of Quantum Computing In Hindi.

मित्रों! यहाँ ( here ) पर यह सवाल बहुत लोगों के मन मे होगा की Quantum Computing का भविष्य क्या है? जी हाँ! दोस्तों यह विषय वाकई में बहुत ही दिलचस्पी से भरा हुआ विषय है| क्योंकि ( because ) यहाँ ( here ) हम Quantum Computing की बात करने जा रहे हैं , जो की अपने आप में ही एक अजूबा है| दोस्तों किसी भी विषय के बारे में हम तभी विशेष ( specifically ) रूप से बता पाएंगे जब हमारी दृष्टि उस पर बहुत ज्यादा गभिर हो|

भले ही आज Quantum Computing अपने प्रारम्भिक अवस्था में हैं| परंतु ( but ) मुझे ऐसा लगता है की Quantum Computing में वो क्षमता है जो की आने वाले समय में हमारे बहुत काम आने वाली है| अगर आज ( now ) आप अच्छे से गौर करेंगे तो आप स्टोरेज की बढ्ने वाली लोकप्रियता को अच्छे से महसूस कर पाएंगे| पिछले कुछ सालों से ( since ) हमारी प्रौद्योगिकी विज्ञान दिन व दिन विकसित होता जा रहा है| लोग नए-नए चीजों को अपना रहें हैं और हम धीरे-धीरे आधुनिकता की और अपना कदम बढ़ाते जा रहें हैं|

बच्चे से ले कर बूढ़े तक हर कोई Computer को अपना साथी बना चुका है| इसलिए यहाँ ( here ) पर स्टोरेज की लोकप्रियता Quantum Computer के लिए एक अच्छा मौके के रूप में साबित हो सकता है| हम आसानी से बहुत बड़े-बड़े डाटा को Qubits में संग्रहीत कर के रख पाएंगे| बहुत बड़े-बड़े तथ्यों को Quantum Computer आसानी से अपने अंदर सुरक्षित कर के रख सकता है|

तो, मित्रों यहाँ ( here ) कुल मिला कर बात यह है की , जी हाँ Quantum Computing भविष्य बहुत ही सुनहरा है और हम इस से बहुत लाभ वान हो सकते हैं|

क्या हम कभी Quantum Computing को अपने घर मे चला सकते हैं ?

वैसे अगर में इस सवाल का जवाब एक शब्द में देना चाहूँ तो , मेरा जवाब होगा शायद हो पाए| यहाँ ( here ) शायद शब्द का इस्तेमाल इस लिए में कर रहा हूँ की , आने वाले समय की कोई भी स्थिरता नहीं होता| मित्रों! हालाँकि ( although ) बहुत सारे वैज्ञानिक इस पर शोध कर रहे हैं | परंतु ( but ) इस शोध के दौरान आने वाले बहुत सारे बढ़ाएँ इस और भी मुश्किल कर रहें हैं|

यहाँ ( here ) पर दो मुख्य कारण हैं जिसके बारे में में आपको बताऊंगा| पहला ( first ) है Infrastructure और दूसरा ( second ) है Technology| यहाँ ( here ) में आपको बता दूँ की IBM को छोड़ कर पूरे विश्व मेँ ऐसा कोई दूसरी कंपनी नहीं है , जो की पूर्ण रूप से Quantum Computing पर शोध कर रही हो| इसलिए ( for this reason ) Infrastructure का घोर अभाव दिखना लाज़िमी है| बिना विकसित Infrastructure के हम कोई भी Quantum Computing से जड़ित शोध नहीं कर सकते हैं|

अब ( now ) अगर हम तकनीक की बात करेंगे , तो आपको यह जरूर महसूस होगा की तकनीक की कमी किसी भी शोध को कीस तरीके से धीमा कर सकता है| मित्रों! बिना आधुनिक तकनीक के हम कोई भी शोध सफलता पूर्वक नहीं कर सकते| तो, अगर हम इन दोनों मुसीबतों को पार कर लेते हैं तो शायद हम Quantum Computing को भविष्य में हमारे इस्तेमाल के लिए उपयोगी बना सकते हैं|

थोड़ा अब ( now ) जान लेते हैं , Quantum Computing से जुड़ी रोचक बातों को|

Qubits की संरचना |
  • Save
Qubits कैसे बनता है ? Credit: Extreme tech

 

Quantum Computing की रोचक बातें – Amazing Quantum Computing Facts In Hindi.

Quantum Computer के पास है गज़ब की ताकत :-

मित्रों! जैसे साधारण Computer कई सारे कामों को कर सकती है| ठीक इसी तरह ( likewise ) एक Quantum Computer आणविक और अति-आणविक स्तर मे होने वाली संरचना तथा इसके गुणो को अति सहज तरीके से हमें बता सकता है|

अब (now ) भी बहुत रहस्यमई है Quantum Computing :-

आपको जान के हैरानी होगी की , अब भी ( now ) हम Quantum Computer के बारे मे बहुत ही कम जानते हैं| Einstein और Shordinger के समय से इस पर कई सारी थिओरी आयी और आती ही जा रही है| परंतु ( but ) विडंबना की बात यह है की , हम ने इसके बारे मेँ सिर्फ मूल-भूत कुछ बातों को ही अभी तक जाना है|

Computer के क्षेत्र में होने वाला है वैप्लबिक परिवर्तन :-

हमारे आज ( now ) के समय के Computer बहुत ज्यादा आधुनिक हो चुके है| सरल गणित से ले कर जटिल शोधो के तथ्यों तक हर एक जगह इनकी महत्वपूर्ण भूमिका है| उदाहरण ( for example ) के लिए आप आज के Internet को ही ले लीजिये| शायद ही ऐसा कोई चीज़ होगा को Computer के Internet से किया ना जा सके|

इसीलिए ( for this reason ) अगर हम हमारे Computer को अत्याधुनिक कहें तो , यह बात बिल्कुल भी गलत नहीं होगा| आज ( now ) के कुछ वैज्ञानिक यह अनुमान लगा रहें हैं की , Quantum Computer आज के Computer से लाखों गुना ज्यादा शक्तिशाली हो पाएगा|

तो, मित्रों इस के ऊपर आपका क्या राय है जरूर बताइएगा|

Quantum Computing को किसने जन्म दिया था :-

आज ( now ) Quantum Computer से जुड़ी हर एक बात हमें IBM की याद दिलाती है, जो की एक तरीके से लाज़िमी भी है| क्योंकि ( because ) सर्वप्रथम IBM ने ही तो Quantum Computer को बनाया है| परंतु ( but ) मित्रों यह बात सही नहीं है|

अब आप पूछोगे क्यूँ सही नहीं है? तो , सुनिए Quantum Computing के बारे मे सबसे पहले Richard Feynman ने ही जिक्र किया था| उन्होंने 1982 में ही Quantum Computing की निव रखी थी| तो, यही सच्चाई है|

मित्रों! हर एक चीज़ की अपनी ही खूबी और खामियाँ होती ही हैं| संसार में ऐसा कोई चीज़ नहीं होगा जो पूर्ण रूप से एक दम सही होगा| यहाँ ( here ) पर कहने का महत्व यह है की , बाकी सारी अन्य चीजों की तरह Quantum Computer की भी अपनी ही खामियाँ मौजूद है| हालाँकि ( although ) इस की खामियाँ इसकी खूबियों से ज्यादा नहीं है| परंतु ( but ) वास्तविकता में तो खामियाँ हैं तो हैं| इसमें आप या में कोई टिप्पणी नहीं कर सकते| खूबियों की तरह खामियाँ भी समान रूप ( similarly )  किसी भी वस्तु या किसी भी व्यक्ति को और भी बेहतर बनाता है| इसलिए ( for this reason ) खामियों को भी हमें जानने की जरूरत बहुत ज्यादा है|

ज़्यादातर लोग खामियों को नहीं बताते| परंतु ( but ) मैंने सोचा की क्यूँ ना इस पर भी एक नजर डाला जाए| वास्तव ( indeed ) में Quantum Computer को अगर हम अच्छे से देखेंगे तो , यह एक जटिल और महंगी यंत्र है| हाँ! और एक बात आप Quantum Computer और Super Computer में भ्रमित न होई ए गा| क्योंकि ( because ) मैंने बहुत सारे लोगों को देखा है की वह इन दोनों Computer को एक समान ही मान लेते हैं|

आज की तकनीक Quantum system से ही प्रेरित है :-

किसी ने सच ही कहा है की ; ” old is gold “| जी हाँ! यह बात आज ( now ) आप सच होते हुए देख सकते हैं| तो, किस जगह यह सच हो रहा है? जी! Computer के क्षेत्र मे 1994 में गणितज्ञ Peter  Quantum system से जुड़ी गणित को अच्छे तरीके से दुनिया के सामने उप-स्थापित किया था|

यहाँ ( here ) में आपको और भी बता दूँ की , तब से ( since ) से ले कर आज तक वही गणित आज के Encryption के तकनीक में इस्तेमाल हो रहा हैं| वाकई में आज Quantum system का आज तकनीक के लिए अवदान अतुलनीय है|  में चाहूँ तो भी इसकी पूरी  तरीके से तारीफ कर नहीं पाऊँगा | क्योंकि ( because ) इस की भूमिका आज के Computer के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है और इसकी कार्य प्रणाली आज के Computer के लिए  बहुत ही प्रेरणादायी है|

दुनिया की सबसे पहली Quantum Computer यहाँ बनी थी :-

मैंने पहले ( before ) IBM को सबसे पहली Quantum Computer के जन्मदाता के हिसाब से आपको बताया है| जो की बिल्कुल सही है| क्योंकि ( because ) IBM ने ही पूर्ण आधुनिक रूप से आज के अत्याधुनिक Quantum Computer का निर्माण किया था| परंतु ( but ) दुनिया का सबसे पहली Quantum Computer DARPA ने बनाई थी|

2003 उन्होंने दुनिया की सबसे पहली Quantum Computer का निर्माण किया था| जो की न बल्कि Quantum Computing को विकसित किया परंतु ( but ) secure connection का भी शुरुआत किया|

यह Computer आज ( now ) कई सारी नई-नई तकनीक विकास के लिए जाना जाता हैं| इसका महत्व हर एक वैज्ञानिक अपने शोधो में महसूस करता हैं| अगर यह Computer आज ( now ) नहीं होता तो शायद ही हम आज के आधुनिक Quantum Computer को देख पाते|

यहाँ आज इस्तेमाल हो रहा हैं दुनिया का सबसे पहला Quantum Computer :-

पहले ( before ) ही मैंने आपको Quantum Computer से जुड़ी थोड़ी बहुत इतिहास को बता ही दिया है| इसलिए ( therefore ) में समझता हूँ की आप इस विंदु को आसानी से समझ जाएंगे| दोस्तों ! जहाँ ( where ) Quantum mechanics के ऊपर ( above ) काफी सारी शोध चल रही है| वहीं दूसरी तरफ एक जगह तो Quantum Computer का इस्तेमाल भी शुरू हो चुका है| जानना चाहते हैं , कहाँ! अगर आपका जवाब हाँ! है तो लेख को पढ़ते रहिए|

आज ( now ) के समय में Qbit , Vancouver  में दुनिया सबसे पहला Quantum Computer किसी एक कारोबार के लिए इस्तेमाल हो रहा है| में आपको यहाँ ( here ) और भी बता दूँ की इस Computer की स्थापना साल 2012 में हुआ था|

यही Computer आज दुनिया भर में अपना ही एक नया नाम बना चुका है| कई सारे कठिन काम यह आसानी से कर सकता है| यहाँ ( here ) में आपको और भी बता दूँ की यह Computer हमारे साधारण Computer की तुलना में लाखों गुना ज्यादा ताकतवर है|

दुनिया का सबसे तगड़ा Computer यहाँ है :-

हमने ऊपर ( above ) ही एक प्रकार की Quantum Computer की बात किया है| परंतु ( but ) क्या आप जानते हैं! दुनिया का सबसे तगड़ा Computer किसके पास है|

2016 मे IBM ने  20 QBITS की Processing power से बना Quantum Computer का निर्माण किया था| जो की अब ( now ) तक का सबसे ज्यादा ताकतवर वाला Quantum Computer है|  अगर आप को ऐसे ही एक सबसे ताकतवर Computer दे दिया जा जाए तो आप उसके साथ क्या करेंगे?

Time Machine बना सकता है Quantum Computer :-

क्या आपने कभी विज्ञान से जुड़ी फिल्म देखा है| अगर हाँ! तो आपने जरूर Time Machine के बारे में सुना ही होगा| मित्रों! यहाँ ( here ) पर में एक ऐसी गज़ब की बात आपको बताने जा रहा हूँ , जिसे सुनने के बाद ( later ) आप शायद ही इस पर यकीन कर पाएँ|

Quantum Physics के हिसाब से समय की यात्रा किया जा सकता है| जी हाँ! मेँ यहाँ समय की यात्रा करने की बात कर रहा हूँ| जब कोई भी कणिका Quantum level पर होती है तो वह समय में आगे-पीछे जा सकती है|

इसके साथ-साथ ( in addition ) यह कणिका Teleport हो कर चंद मिनटों में किसी भी जगह पर जा सकती है| वाकई में Quantum Computing की बात ही कुछ अलग है| जितना इसकी जटिलता है , उसे कई ज्यादा इस के बारे में रोचक बातें हैं| मित्रों! में तो यह कहता हूँ की अगर आप भी कभी समय यात्रा करना चाहेंगे तो Quantum computing के बारे में एक बार जरूर सोचिएगा|

वैसे तो आज ( now ) के हिसाब से यह अभी संभव नहीं है| परंतु ( but ) जैसा की मैंने पहले ( before ) ही कहा है , आगे क्या होगा वह तो सिर्फ समय ही बता सकता है| हम तो सिर्फ इंतजार ही कर सकते हैं|

क्या हो पाएगा Quantum Computer कभी सफल ?

आज ( now ) के इस 21 वीं शताब्दी में Quantum Computing को ले कर लोगों में काफी सारी उम्मीद देखी जा सकती है| किसी को जल्दी जल्दी कार्य करने वाला Computer चाहे तो , किसी को एक ताकतवर Computer| हालाँकि ( although ) वह बात अलग है की , यह कब तक सफल हो पाएगा | परंतु ( but ) फिरभि ( nevertheless ) लोग इस के लिए अभी से तत्पर और व्याकुल हैं| कई विश्वविद्यालय , कई कंपनी और कई शोधा गार इस के ऊपर काफी सारी शोध चला रही हैं|

हमें यहाँ ( here ) पर पूर्ण रूप से सक्षम Quantum Computer न बना कर Quantum Phenomena को समझना होगा| अगर हम इसे अच्छे तरीके से समझ जाएंगे तो बाकी काम हमारे लिए बहुत ही आसान हो जाएगा| इसी तरीके से ( similarly ) अगर हम Quantum Phenomena को समझ जाते हैं , तब हमें Quantum mechanics और इससे जुड़ी भौतिक विज्ञान को समझना होगा|

वैसे तो यह एक काफी लंबी प्रणाली है| परंतु ( but ) एक न एक दिन यह जरूर सफल होगा वसर्ते हम कोशिश करते रहें| कभी भी हार ना माने | क्योंकि ( because ) हार नहीं मानने इंसान को ही हमेशा सफलता मिलती है| इसमें कोई भी दो-रह नहीं है की , Quantum Computing आने वाले समय में कारोबार , विज्ञान और उद्योग की क्षेत्र में एक क्रांति ला देगा|

Quantum computer की एक jhalak|
  • Save
Quantum system से प्रेरित Computer| Credit: inverse

निष्कर्ष – Conclusion :-

चाहे जो भी कहो , परंतु ( but ) Quantum Computing में काफी ज्यादा दम है| कई लोग आज ( now ) इसे ज्यादा प्रधान भले ही न दे रहे हों | परंतु ( but ) एक समय ऐसा आएगा जब , यह तकनीक विश्व को एक नई दिशा दिखाएगा| विश्व को भविष्य का एक सुनहरा मार्ग दिखाएगा| वह दिन दूर नहीं जब हर एक घर में यह Computer हर एक काम यूं! चुटकियों में कर देगा| मुझे तो अभी ( now ) से ही ऐसा लगता है|

तो, मित्रों Quantum Computing के आधारित इस लेख में आपको मैंने बहुत सारी बात बता दिया है| परंतु ( but ) ठहरिए! क्योंकि ( because ) पिक्चर अभी बाकी है| Jokes apart! यहाँ ( here ) में आपको और भी बात बताने जा रहा हूँ , जो की Quantum Computing को लेकर आपके नजरिए को जरूर बदल देगा|

इसके साथ-साथ ( in addition to this ) अगर आप सूर्य , सूर्य-मण्डल और black hole के बारे मेँ भी पढ्ना चाहते हैं तो आप उसे भी पढ़ सकते हैं|

खैर आज के इस लेख का अंत करने का अब समय आ गया है| परंतु ( but ) थोड़ी सी देर के बाद| मित्रों ऊपर ( above ) मैंने Quantum Computing से जुड़ी बहुत सारे बातों को आपके सामने रखा है| इसलिए में आपसे यह आग्रह करूंगा की अगर आपको इस के अलावा ( apart from this ) Quantum Computing से जुड़ी बात पता है तो निश्चित रुप से कृपया मुझसे साझा करें|

यहाँ ( here ) और एक महत्वपूर्ण बात मौजूद है| अगर आपको लगा है की कहीं भी Quantum Computing से जुड़ी बात और अच्छे तरीके से बताना चाहिए तो वह भी आप मुझे बता सकते हैं| खैर अब रहने का वक़्त आ गया|

धन्यवाद!!!

Tags
Back to top button
Close
336 Shares