Facts & Mystery

दिमाग से जुड़ी यह बातें आपकी होश उड़ा देगी – Brain Facts In Hindi

25 लाख GB वाला हमारा यह दिमाग क्या एक सुपर कम्प्युटर हैं? जाने इस लेख के अंदर

कितनी अजीब बात है न ! जहां एक तरफ इंसान अंतरिक्ष से जुड़ी रहस्यों को खोजने में लगा हैं, वही दूसरी और वह खुद अभी भी अपने खुद के शरीर में छुपी गुप्त व रहस्यमयी बातों से अंजान है। इंसानी शरीर एक तरह से जैविक भूल भुलैया हैं |आप जहां से भी इस भूल भुलैया के अंदर प्रवेश क्यों न करें आपको इसके अंदर खोना ही खोना है। वैसे इंसानी शरीर के अंदर आज भी कई ऐसे अंग है जिसके बारे में वैज्ञानिक भी नहीं जानते, परंतु आज के इस लेख में हम लोग  एक ऐसे अंग की बात करने जा रहें हैं जिसको की हर कोई जानता है। मेँ यहाँ पर बात कर रहा हूँ दिमाग की (brain facts in hindi) और इससे जुड़ी बहुत ही चौंका देने वाली बातों की।

दिमाग से जुड़ी रोचक बातें - Brain Fact's In Hindi.
इंसानी दिमाग – एक भूल भुलैया | Credit: The writing cooperative.

वैसे इससे पहले भी मैंने दिमाग के ऊपर (brain facts in hindi) एक लेख लिखा है, जिसके अंदर मैंने आप लोगों को अपने दिमाग कैसे कम समय में सफलता पूर्वक तेज और शक्तिशाली कर सकते हैं उसके बारे में बताया है। अगर आप भी अपने दिमाग को कम समय में बलशाली और तेज कर के दूसरों से ज्यादा स्मार्ट और चालक बनना चाहते हैं तो उस लेख को आप एक बार अवश्य ही पढ़ें। मेरा पूर्ण विश्वास है की वह लेख आपके लिए जरूर ही लाभकारी होगा।

खैर आगे बढ्ने से पहले मेँ आपको बता दूँ की, इस लेख में आपको दिमाग से जुड़ी बहुत सारी गुप्त बातों को जानने को मिलेगा इसलिए इसे धैर्य के साथ पढ़ते रहिएगा |

विषय - सूची

दिमाग से जुड़ी कुछ गुप्त व मजेदार तथ्य – Brain Facts In Hindi :-

चलिए अब लेख के इस भाग में दिमाग से जुड़ी कुछ मजेदार तथ्यों (brain facts in hindi) को जानते हैं |

1. शरीर का सबसे मोटा अंग है दिमाग ! :-

आपको जानकर हैरानी होगा की हमारे शरीर का सबसे मोटा अंग दिमाग ही हैं| मित्रों! दिमाग का 60% हिस्सा चर्बी से भरी हुई होती हैं | इसलिए इसका वजन इसके आकार के हिसाब से ज्यादा हैं और मोटा भी हैं | वैसे अधिक जानकारी के लिए बता दूँ की, औसतन इंसानी दिमाग का वजन 3 पाउंड तक होता हैं |

2. बिजली भी उत्पन्न हो सकती है इसमें ! :-

वैसे तो बिजली लगने से इंसानी शरीर की हालत क्या होती हैं, यह तो आप लोगों को पता ही होगा | परंतु क्या आप जानते हैं, इंसानी दिमाग के अंदर बिजली में बनती हैं | वैज्ञानिकों का कहना है की एक औसतन आकार के इंसानी के अंदर लगभग 23 वॉट तक बिजली बन सकती हैं |

3. आकार में छोटा हो कर भी सबसे ज्यादा ऑक्सिजन की खपत करता है हमारा दिमाग :-

भले ही हमारा दिमाग (brain facts in hindi) शरीर का सबसे मोटा अंग क्यों न हो, परंतु इसके आकार के मुक़ाबले हमारे शरीर के अंदर अन्य कई सारे बड़े-बड़े अंग मौजूद हैं | परंतु रोचक बात तो यह है की, आकार में छोटा होने के बावजूद यह हमारे शरीर में उत्पन्न होनी वाली कुल ऑक्सिजन की मात्रा से लगभग 20% ऑक्सिजन खुद इस्तेमाल कर लेता हैं |

दिमाग से जुड़ी रोचक बातें - Brain Fact's In Hindi.
तेजी से भावनाओं का होने वाला परिवहन | Credit: Science abc.

क्योंकि दिमाग ही वह अंग है, जो की पूरे शरीर में होने वाले प्रतिक्रियाओं को नियंत्रित करता हैं और इसी लिए इसे हमेशा ऑक्सिजन की जरूरत पड़ती ही पड़ती हैं |

4. खून और दिमाग का एक अनूठा रिश्ता :-

वैसे तो अगर किसी भी अंग के अंदर खून जाना बंद हो जाए तो, वह अंग काम करना बंद कर देता हैं परंतु ऐसा होने के लिए भी कुछ समय अवश्य ही लगता हैं | खैर मेँ बता दूँ की अगर दिमाग के पास खून जाना कुछ सेकंड (7-8 सेकंड) के लिए भी बंद हो जाता हैं, तो दिमाग काम करना ही बंद कर देगा |

5. इतनी लंबी कोशिका मौजूद हैं आपके दिमाग के अंदर :-

एक इंसानी दिमाग के अंदर मौजूद कोशिकाओं की कुल लंबाई लगभग 1 लाख 60 हजार किलोमीटर तक हैं |

6. इतनी देरी में होती है दिमाग की मौत :-

अगर किसी कारण वश दिमाग तक 6 से 8 मिनट तक ऑक्सिजन जाना बंद हो जाता हैं, तो आपका दिमाग खुद व खुद मौत के कगार पर पहुँच जाता हैं |

7. शिशुओं का दिमाग इतने तेजी से विकसित होता हैं ! :-

मित्रों! दिमाग के ऊपर (brain facts in hindi) आधारित इस लेख में अभी जिस बात को मेँ आप लोगों के सामने रखने जा रहा हूँ, यह बात बहुत ही दिलचस्प और अंजान हैं | इसे सुनने के बाद आप खुद के कानों पर विश्वास ही नहीं कर पाएंगे क्योंकि बात ही कुछ इतनी अनोखी हैं |

शिशुओं के अंदर हर एक मिनट के अंदर लगभग 2,50,000 न्यूरन बनते ही रहते हैं और यह भी नियमित रूप से | इसलिए तो इतने तेजी से बढ्ने के कारण वयस्क होते-होते हमारे दिमाग के अंदर करीब-करीब 1 अरब से भी ज्यादा न्यूरन मौजूद रहते हैं | वैसे अधिक जानकारी के लिए बता दूँ की न्यूरन सेल वास्तविक में हमारे शरीर के स्नायु तंत्र का इकाई हैं और इसी के द्वारा दिमाग अलग-अलग स्थानों पर मौजूद अंगों को नियंत्रित कर सकता हैं |

8. बुढ़ापे में कोई चीज़ इसलिए याद नहीं रहती हैं :-

इंसानी दिमाग एक तरह से भावनाओं और स्मृतिओं को संग्रह करने का जगह हैं | तो, पूरे जीवन काल में हम लोग अनेक प्रकार के स्मृतिओं को दिमाग के अंदर संगृहीत करके रखते हैं, जिससे इन स्मृतिओं की भरमार हमारे दिमाग के अंदर हो जाती हैं |

भारी तादाद में स्मृतिओं की उपस्थिति दिमाग के कार्य क्षमता को चुनौती देती हैं और बूढ़े  होने के कारण हमारा दिमाग इस चुनौती को संभाल नहीं पाता | इसी कारण से हम बुढ़ापे के दौरान कई सारे चीज़ें भूलते ही रहते हैं |

9. शराब पीने से दिमाग के ऊपर यह अजीब असर पड़ता हैं :-

अकसर आपने शराब पिए लोगों को देखा होगा की, वे शराब के नशे में कोई भी चीज़ याद रखने में सक्षम नहीं रहते हैं | परंतु क्या वाकई में शराब का नशा ही उन्हें चीज़ें भूलने को मजबूर करता हैं या कोई दूसरा कारण हैं इसके पीछे ! एक अध्ययन से पता चला है की, जब एक इंसान शराब पिता है तो उसका दिमाग कोई भी घटना को याद रखने के हालत में नहीं रहता हैं और इसी कारण से शराबी को कुछ भी चीज़ याद नहीं रहता हैं |

10. एक सेकंड में दिमाग 100,000,00,000,000,000,000,000,000,000,000,000,000,000,000 भावनाओं को नियंत्रित करता हैं ! :-

ऊपर दिया गया शीर्षक पूर्ण रूप से सत्य हैं | हमारा दिमाग हमारे सोच के परे से भी ज्यादा बलवान हैं | कहने का तात्पर्य हैं की एक सेकंड के अंदर हमारे दिमाग के अंदर 10^39 भावनाएं आती हैं और इसे दिमाग बड़ी ही आसानी से नियंत्रित कर सकता हैं | वैसे ऐसे देखा जाए तो हर किसी का दिमाग किसी सुपर कम्प्युटर से कम नहीं हैं |

11.इतने तेजी से आपके दिमाग के अंदर भावनाओं का होता हैं आदान-प्रदान, सुनकर उड जाएंगे होश ! :-

हमारे दिमाग के अंदर भावनाओं का आदान-प्रदान की प्रक्रिया बहुत ही तेजी से होता हैं | वैज्ञानिकों का कहना है की, सबसे धीमी गति से होने वाला भावनाओं के आदान-प्रदान की प्रक्रिया 418 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से होता हैं | तो, आप अंदाजा लगा सकते है की इससे तेज होने वाले प्रक्रियाओं का रफ्तार कितना होता होगा |

12. हवाई यात्रा करने से हो सकता है याददाश्त कमजोर ! हो जाइए सावधान :-

ज़्यादातर लंबी दूरी की हवाई यात्रा के बाद लोगों को जेट लेग (Jet Lag) की समस्या होती हैं | हाल ही में कुछ वैज्ञानिकों ने कहा है की अत्यधिक जेट लेग के कारण दिमाग के याददाश्त के ऊपर बुरा असर पड़ता हैं |

13. दिमाग की सर्जरी में दर्द नहीं होता हैं :-

आपने अगर देखा होगा तो अवश्य ही पता होगा की किसी भी सर्जरी के पहले (गंभीर सर्जरी) रोगी को किसी निष्चेतक दे कर सुलाया जाता हैं | इसके बाद जब बेहोशी के अवस्था में रहता है, तब उसके शरीर में उस सर्जरी को अंजाम दिया जाता हैं | मित्रों! ऐसा करने से रोगी को सर्जरी के वक़्त ज्यादा डर व दर्द नहीं होता हैं |

परंतु क्या आप जानते हैं ! दिमाग के सर्जरी के वक़्त रोगी होश में रहता हैं और वह सर्जरी के वक़्त किसी प्रकार का दर्द भी महसूस नहीं करता हैं | वैसे इसके लिए कुछ औषिधिओं का अवश्य ही इस्तेमाल किया जाता होगा, जिससे रोगी दर्द को कम अनुभव करें | खैर इसके बारे में आपका क्या ख्याल हैं दोस्तों ? जरूर बताइएगा |

14. अमेरिकी टेलीफोन नंबर और दिमाग का याददाश्त :-

अब इस तथ्य को जानकर आपको थोड़ा अटपटा अवश्य ही लगेगा, क्योंकि यह बात ही कुछ ऐसा हैं | खैर सुनिए हमारा दिमाग जल्द से जल्द 7 अंकों से बनी संख्याओं को आसानी से याद रख सकता हैं | इसलिए अमेरिकी टेलीफोन नंबर ज़्यादातर 7 अंकों से बने नंबर होते हैं | इस तथ्य को अमेरिकी वैज्ञानिकों ने भी सम्मति दिया हैं |

15. आपका दिमाग एक समय में एक ही काम कर सकता हैं :-

ज़्यादातर लोगों को लगता है की, उनका दिमाग (brain facts in hindi) एक समय में एक से अधिक काम करने में सक्षम हैं | परंतु ऐसा नहीं हैं , आपका दिमाग एक समय के अंदर दो काम कर ही नहीं सकता हैं और अगर आप इसे एक ही समय में दो काम करवाएं तो यह उन दो कामों को अदल-बदल करते हुए उसी समय के अंदर ही करेगा |

16. संगीत सीखने से हो सकता हैं आपका दिमाग तेज :-

हाल ही के एक अध्ययन से यह पता चला है की, संगीत सीखने आपके दिमाग के अंदर मौजूद न्यूरन एक्टिव होते हैं | तो अगर आप भी आपने दिमाग को तेज करना चाहते हैं तो संगीत सीखना आपके लिए एक विकल्प बन सकता हैं | इसके अलावा में बता दूँ की, इससे दिमाग की याददाश्त भी मजबूत होता हैं |

17. किसी भी चीज़ को याद करने से होता हैं यह फायदा :-

वैज्ञानिक कहते है की, अगर हम किसी चीज़ को बहुत दिनों के बाद याद करने की कोशिश करते हैं तो हमारा दिमाग अतीत में संगृहीत स्मृतिओं को फिर से एक बार खंगालता हैं |इसी दबे हुए पुरानी स्मृतिओं को खंगालने की प्रक्रिया को ही “रचनात्मकता” कहते हैं | इससे दिमाग स्वस्थ रहता हैं |

18. क्या आप रंगों को सुन और शब्दों को सूंघ सकते हैं ! :-

 Human brain is a super computer.
इंसानी दिमाग और सुपर कम्प्युटर | Credit: Medium.

अब आप यहाँ पर बोलेंगे की मेँ क्या मज़ाक कर रहा हूँ, आखिर कैसे कोई रंगों को सुन और शब्दों को सूंघ सकता हैं ? परंतु दोस्तों पृथ्वी में ऐसे भी कई सारे लोग हैं जो की रंगों को सुन और शब्दों को सूंघ सकते हैं | वैसे एक प्रकार से यह एक बीमारी हैं जिसे “सिन्सेस्थ्सिया” कहा जाता हैं |

19. 25 लाख जीबी की स्टोरज मौजूद हैं आपके दिमाग के अंदर :-

आज के समय में हर कोई स्मार्ट-फोन इस्तेमाल करता हैं जिसके अंदर एक निर्धारित स्टोरेज की केपेसिटी दी गई होती हैं | वैसे अब तक के फोन में सबसे अधिक 256 जीबी की स्टोरेज केपेसिटी मौजूद हैं | परंतु क्या आप जानते है हमारे दिमाग के अंदर कितनी जीबी की स्टोरेज केपेसिटी मौजूद हैं ?

हमारे दिमाग के अंदर लगभग 25 लाख जीबी स्टोरेज की केपेसिटी मौजूद हैं | तो आप जितना चाहें उतने स्मृतियाँ और यादें इसके अंदर संग्रह करके रख सकते हैं |

20. शोर मचाने से होता है दिमाग विकसित :-

लोगों को कहा जाता है की, धीरे और भद्र तरीके से बात करने से दिमाग शांत रहता हैं | परंतु एक अध्ययन इस बात को खंडन कर रहा हैं | यह अध्ययन कहता है की, अगर आप किसी पुस्तक को बहुत ही उंचें आवाज में पढ़ेंगे तो आपका दिमाग इससे काफी ज्यादा विकसित हो सकता हैं | वाकई में दिमाग से जुडा यह तथ्य (brain facts in hindi) बहुत ही अजीब हैं |

21. पसीना बहने से हो सकता है दिमाग का यह अवस्था :-

अगर लगातार एक घंटे आपके शरीर से पसीना निकलता रहेगा तो आपका दिमाग कुछ हद तक सिकुड़ जाएगा | प्राकृतिक रूप से यह सिकुड़न होने के लिए एक साल का समय लेता हैं |

22. 25 वर्ष में होता हैं यह खास बात  :-

ज़्यादातर लोगों का मानना है की, 18 साल के बाद किसी भी इंसान का दिमाग परिपक्व हो जाता हैं, परंतु यह सच नहीं हैं | इंसानी दिमाग को पूर्ण रूप से परिपक्व होने के लिए लगभग 25 साल का वक़्त लगता हैं |

23. एक दिन में आपके दिमाग के अंदर इतने विचार आते हैं :-

एक वयस्क व्यक्ति के दिमाग के अंदर एक दिन के अंदर लगभग 50,000 विचार आते हैं | खैर यहाँ पर गौर करने वाली बात यह है की, भावनाओं की संख्या विचारों के संख्या से ज्यादा ही होता हैं |

24. 1 मिनट के अंदर 1 लिटर खून आपके दिमाग में पहुंचता हैं :-

दिमाग के अंदर हर एक मिनट में करीब-करीब 1 लीटर तक खून पहुँच सकती हैं | इतने तेजी से इतना खून इस अंग के लिए काफी ज्यादा हैं |

25. पुरुषों का दिमाग़ महिलाओं के दिमाग से होता हैं इतना बड़ा :-

अगर हम औसतन पुरुषों के दिमाग के आकार को महिलाओं के दिमाग के आकार से तुलना करें तो पता चलेगा की यह 10% बड़ा हैं | इसके पीछे की वजह पुरुषों की शरीर का आकार में बड़ा होना हैं |

26. आइन्सटाइन के दिमाग से जुड़ा एक अजब सा तथ्य :-

पृथ्वी के सबसे बुद्धिमान लोगों की सूची में आइन्सटाइन जी का नाम सबसे ऊपर हैं | परंतु आपको जानकर हैरानी होगा की इनका दिमाग औसतन दिमाग के आकार से छोटा था | इनका दिमाग करीब-करीब 1,230 ग्राम का था जो की साधारण दिमाग के वजन (1,400 ग्राम) से काफी छोटा हैं |

Using smartphone cause mental problems.
स्मार्ट फोन के इस्तेमाल से हो सकते हैं मानसिक बीमारियां | Credit: Arenterio.

27. चिंता करने से हो सकता हैं आपका दिमाग खराब ! :-

सर्वे से पता चलता है की, ज्यादा चिंता करने से हमारा दिमाग अत्यधिक दबाव के चलते धीरे-धीरे अपना कार्य क्षमता खो देता हैं |

28. वयस्क व्यक्तियों से बच्चों का दिमाग होता हैं ज्यादा तेज :-

बच्चों का दिमाग (brain facts in hindi) 18 से 34 साल तक के वयस्कों के दिमाग से काफी तेज होता हैं | इसलिए तो बच्चे एक चीज़ को वयस्कों से ज्यादा देर तक याद रख सकते हैं |

29. दिमाग की कोशिका खुद को भी खा सकती हैं :-

ज़्यादातर यह तथ्य लोगों को नहीं पता होगा, क्योंकि इसके बारे में बहुत ही कम लोग जानते हैं | खैर सुनिए जब भी आपके शरीर को सही वक़्त पर उसका खाना नहीं मिल पता हैं तब यह आपने कोशिकाओं को ही खाना शुरू कर देता हैं | इससे बहुत ही तेजी से दिमाग (brain facts in hindi) की कार्य क्षमता काम हो जाती हैं |

तो, आप हर समय सही समय पर अपना खाना खाना न भूलें |

30. मोबाइल फोन का दिमाग पर पड़ता है बहुत ही बुरा प्रभाव :-

हमारे दिमाग के अंदर 140 प्रोटीन के प्रकार ऐसे हैं जो की विद्युत-चुंबकीय क्षेत्रों से काफी ज्यादा प्रभावित होती हैं | वैज्ञानिकों का कहना है की, इन क्षेत्रों के चलते विचारों तथा दिमाग के अंदर भावनाओं का आदान-प्रदान सही से नहीं हो पाता हैं | इसके वजन से लोगों को कई तरीके के मानसिक बीमारी भी हो सकती हैं |

31. बहुत ही नाजुक होता हैं दिमाग :-

बहुत सारे जटिल प्रक्रियाओं को नियमित रूप से अंजाम देने वाला हमारा दिमाग, वास्तव में बहुत ही नाजुक होता हैं | वैसे देखा जाए तो शरीर के अंदर होने के वजह से इसे इतना फर्क नहीं पड़ता, परंतु फिर भी जान लीजिए की न्यूरन कोशिका बाकी कोशिकाओं के तुलना में काफी ज्यादा नाजुक होती हैं |

इसलिए सर्जरी के वक़्त इनका बड़े ही सावधानी से देखभाल किया जाता हैं |

32. हर किसी का दिमाग बहुत ही अनोखा होता हैं :-

आपने अगर फिंगर प्रिंट का नाम सुना होगा तो पता ही होगा की हर एक व्यक्ति का फिंगर प्रिंट बहुत ही खास और अलग व अनोखा होता हैं | वैसे ठीक इसी तरह हर एक व्यक्ति का दिमाग भी अनोखा व अलग होता हैं।

33. दिमाग के अंदर कभी भी दर्द नहीं होता :-

आपको जानकर हैरानी होगी की दिमाग के अंदर किसी प्रकार का भी पेन रिसेप्टर” (Pain Receptor) नहीं होता है, इसलिए दिमाग को दर्द के बारे में कुछ पता ही नहीं होता हैं , हालांकि अन्य अंगों तक दर्द का अनुभव दिमाग ही पहुंचाता है।

34. दिमाग जिंदगी भर अपना आकार बदलता रहता हैं :-

दिमाग की लचीले पन के कारण यह अपना आकार जिंदगी भर बदल सकता है।

35. अपने को बचा कर रखने के लिए दिमाग इस लिकुइड को अपने अंदर बनाता हैं :-

सेरेब्राल फ्लुइड नाम के इस लिकुइड को दिमाग अपने अंदर बनाता हैं | इस लिकुइड से दिमाग संक्रमण और बाहरी झटके से सुरक्षित रहता है।

36. हर एक अक्षर को नहीं परंतु शब्दों को पड़ता हैं हमारा दिमाग ! :-

देखा गया है की, किसी भी वाक्य में दिमाग अक्षरों के बजाए शब्दों को पढ़ने में ज्यादा केन्द्रित रहता है।

Sources- www.bebbrainfit.com, www.inc.com, www.sciencefirst.com.

Tags

Bineet Patel

मैं एक उत्साही लेखक हूँ, जिसे विज्ञान के सभी विषय पसंद है, पर मुझे जो खास पसंद है वो है अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान, इसके अलावा मुझे तथ्य और रहस्य उजागर करना भी पसंद है।

Related Articles

Back to top button
Close