Science

अगर आपके शरीर में ये चीज है तो आपके हाथ पैर वापिस उग जाएंगे !

दोस्तों , क्या आपको ये पता है कि आपका liver ही आपके शरीर का एकमात्र ऐसा अंग है जो दोबारा पूरा का पूरा विकसित हो सकता है ! और एक मजेदार बात , इसे आप आधे हिस्से में बांटकर , 2 अलग अलग लोगों में Transplant भी कर सकते हो! इसके साथ, ही हमारे शरीर की  खाल और कुछ जगहों पर हमारी ऊँगली का ऊपरी हिस्सा भी पुनःउत्पन्न  हो सकता है |

पुनः उत्पत्ति की बात की जाए, तो जानवरों को भला कौन भूल सकता है ? छिपकली अपनी कटी हुई पूँछ को , मकड़ी , स्टारफिश  अपने कटे हुए हाथों और पैरों को पुनःउत्पन्न कर सकते हैं | इसके साथ ही Salamander एक ऐसा जीव है जो अपने हाथों और पैरों के अलावा और भी कई शरीर के अंगों को पुनःउत्पन्न कर सकता है | और Axolotl तो  एक ऐसा जीव है जो लगभग हर चीज को पुनःउत्पन्न कर सकता है जैसे कि आँखें और दिमाग के कुछ हिस्से !

पर दोस्तों , हम जैसे जीवों में ये अंगों का दोबारा उत्पन्न होना असंभव ही है | पर क्या आपने कभी ये सोचा है कि आखिर इसके पीछे का कारण क्या है , क्यों हमारे कटे हुए अंग जैसे की हाथ , पैर वगेरा बाकी जानवरों की तरह पुनःउत्पन्न नहीं होते और क्या हमारे लिए अपने खोए हुए अंगों को वापिस ला पाना कुछ हद तक संभव भी है या नहीं ?

वैज्ञानिकों ने मेंढकों और चूहों के भ्रूण पर की गई Scientific Surgical Studies & Research के द्वारा इस बात की पुष्टि की है कि कि इंसानों के  भ्रूण में भी Body development के दौरान , खोए हुए अंगों को वापिस से पुनःउत्पन्न करने की संभावना होती है | इसका मुख्य कारण है , Embryonic stem cells, जिनके द्वारा अलग अलग cells जैसे कि muscle cells , bone cells , brain cells उत्पन्न होते हैं और जैसे ही ये भ्रूण अपनी पूर्ण विकसित अवस्था में आते हैं तो अपनी फिर से उत्पन्न होने की योग्यता खो देते हैं |

जानवरों की बात करें तो उदाहरण के तौर पर हम अगर Salamander को लें तो उनके शरीर का लगभग हर एक अंग जैस कि हाथ पैर, पूँछ वगेरा सब पुनःउत्पन्न होता है | पर दोस्तों  आखिर ऐसा होता कैसे है ? चलिए जानते हैं !

इंसानों की बात करें , तो जैसे ही उनका कोई  हाथ या पैर कट जाता है तो , body cells द्वारा उस कटे हुए जख्म पर खून जमना शुरू हो जाता है और वो जख्म collagen नामक protein की एक cellular matrix यानी cells के एक network से cover हो जाता है जिकसी वजह से थोड़े समय के बाद वहाँ पपड़ी जम जाती है और घाव का निशान भी बन जाता है | ये collagen protein, इस प्रक्रिया के दौरान , घाव पर scar tissues की एक layer का निर्माण करता है | और यही हमारे  , body parts की  पुन :उत्पत्ति न होने की मुख्य वजह होते हैं | जैसे ही हमारे शरीर कोई अंग अलग होता है तो वहाँ मौजूद cells खत्म हो जाते हैं जिसकी वजह से हमारा Immune system अलर्ट हो जाता है और परिणाम ये होता है कि जख्म को भरने के लिए , वहाँ ये scar tissues बनने लगते हैं जिसकी वजह से आगे cells का विकास  रुक जाता है | इस दौरान हमारे Adult stem cells भी कई और cells के निर्माण में असमर्थ हो जाते हैं |

Salamander जैसे जीवों की बात करें तो उनके कटे अंगों के जख्मों पर ये scar tissues कभी नहीं बनते ,  बल्कि जख्म के आसपास के cells, जख्म पर अविकसित tissues की layer बनाने का काम करते हैं और ये cells मिलकर एक ग्रुप यानी समूह का निर्माण करते हैं जिसे Blastema कहा जाता है जो कटे हुए अंगों को फिरसे उगने के लिए एक बीज का काम करता है |

जैस ही ये Blastema बढ़ता रहता है तो , वहाँ मौजूद सेल्स अलग अलग सेल्स जैसे कि muscle cells , bone cells आदि की मदद से अलग अलग tissues को जन्म देते हैं जो आगे चलकर एक साथ मिलकर , पूरे अंग में बदल जाते हैं | Salamander के case में , कटे हुए किसी body part को वापिस से पुनःउत्पन्न होने में  5 से 8 हफ़्तों तक का समय लग जाता है |

दोस्तों ! हम इंसानों में ये Blastema जैसा कोई भी cell group नहीं होता जिसकी वजह से हमारे कटे हुए हाथ या पैर फिरसे पुनःउत्पन्न नहीं हो पाते |

बहराल दोस्तों ! हम इंसानों में इस पुनःउत्पत्ति जैसी प्रक्रिया  को लेकर अभी भी काफी Studies और Biological Research चल रही है जहां कई तरीकों से इंसानों के कुछ अंग जैसे कि Fingertip को दुसरे body cells द्वारा पुनःउत्पन्न किया गया है | पर इसके परिणाम इतने प्रभावशाली साबित नहीं हुए हैं | हालांकि हम इंसानों में repair cells तो हैं, पर regenerative cells जैसे तत्व  हमारे इस शरीर में नहीं हैं पर क्या पता आने वाले समय में विज्ञान कुछ ऐसा करदे जो हम शायद सोच भी न पाएं !

 

 

 

Shubham Sharma

शुभम शर्मा विज्ञानम् के लेखक हैं जिन्हें विज्ञान, गैजेट्स , रहस्य और पौराणिक विषयों में रूचि है। इसके अलाबा इन्हें खेल और वीडियो बनाना बहुत पसंद है।

Related Articles

Back to top button