Facts & Mystery

कण-भौतिक विज्ञान के बारे में दिलचस्प बातें – Interesting Particle Physics Facts In Hindi

पूरी इंसानी सभ्यता को कैद किया जा सकता है सिर्फ एक चम्मच के अंदर! आखिर कैसे?

इंसानी दिमाग अपनी बुद्धि के जरिए बहुत कुछ खोज कर निकाल सकता है। प्राचीन काल से ले कर आज तक वह अपने बुद्धि-कौशल के जरिए तरह-तरह के अत्याधुनिक तकनीक विकसित कर चुका है। इंसानी सभ्यता को सफलता के इस शिखर तक पहुंचाने में विज्ञान का बहुत बड़ा हाथ रहा है। खैर एक पेड़ की तरह ही विज्ञान के कई सारी शाखाएँ हैं और उन शाखाओं मे से कुछ शाखाओं के बारे में मैंने पहले ही आपको बता दिया है। पर आज हम लोग विज्ञान की एक खास शाखा पर प्रकाश डालेंगे! जी हाँ , आज हम लोग कण-भौतिक विज्ञान (particle physics facts in hindi) के बारे में बहुत दिलचस्प बातों को जानेंगे।

Capturing The Human Civilization In a Spoon.
पूरे इंसानी सभ्यता को कैद किया जा सकता है एक चम्मच के अंदर | Credit : Medium.

मित्रों! आगे बढ्ने से पहले एक महत्वपूर्ण बात को आप सभी लोगों को बता दूँ। मैंने हाल ही में खगोलीय-भौतिक विज्ञान से जुड़े एक बहुत ही रोचक और अद्भुत लेख लिखा है। आप चाहें तो उसे एक बार जरूर ही देख सकते हैं , क्योंकि वह लेख आपको जरूर ही पसंद आएगा।

कण-भौतिक विज्ञान (particle physics facts in hindi) पर आधारित इस लेख में हम लोग इसके संज्ञा (Definition) से लेकर इस से जुड़ी कुछ बहुत ही अद्भुत बातों को जानेंगे। मैं इस लेख में आपको सबसे पहले इस विषय से जुड़ी कुछ मूलभूत बातों के बारे में बताऊंगा, जिससे आप सभी लोगों को विषय को समझने में और भी ज्यादा मदद मिल जाएगी।

तो, चलिए अब इस लेख में आगे कण-भौतिक विज्ञान (particle physics facts in hindi) से जुड़ी बहुत सारे हैरान कर देने वाली बातों को जानते है।

कण-भौतिक विज्ञान किसे कहते हैं ? – Definition Of Particle Physics In Hindi :-

जैसा की मैंने पिछले कई सारे लेखों के अंदर कहा है, ज़्यादातर लोगों को किसी भी विषय के बारे में बहुत कुछ बातें पता होता है परंतु बिडंवना की बात यह है की कई लोगों को उस विषय से जुड़ी मूलभूत बातों के बारे में कुछ पता ही नहीं होता है। इसी कारण के लिए हम लोग सबसे पहले कण-भौतिक विज्ञान (particle physics facts in hindi) से जुड़ी मूलभूत बातों को बारे में जानेंगे। मैंने आगे कण-भौतिक विज्ञान की संज्ञा के बारे में जिक्र किया हैं , तो आगे लेख को ध्यान से पढ़ते रहिएगा।

कण-भौतिक विज्ञान भौतिक विज्ञान की एक प्रमुख शाखा है, जो की पदार्थों और विकिरण के सिद्धांतों के जरिए को हमें प्रकृति को और भी बेहतर ढंग से समझने में मदद करता हैं “।

खैर यहाँ पर कण का पदार्थों के अंदर मौजूद मौलिक और सबसे छोटे कणिकाओं को कहा जा रहा हैं | वैसे तो आपको हर तरफ बहुत प्रकार के छोटे-छोटे कणिका देखने को मिल जाएंगे , परंतु यहाँ पर क्वांटम फील्ड (Quantum Field) में मौजूद मौलिक कणिकाओं के अंदर आकर्षण और विकर्षण के प्रक्रियाओं के बारे में भी कहा जा रहा हैं |

कण- भौतिक (particle physics facts in hindi) विज्ञान को बहुत ही रोचक तरीके से समझने के लिए स्टेंडर्ड मोडेल की मदद ली जाती हैं | इसी कारण से आज की आधुनिक कण-भौतिक विज्ञान हिग्ग्स बोसॉन कणिका जैसे बहुत ही खास और निराले मौलिक कणिकाओं के बारे में हमें बहुत कुछ बात समझने में मदद करती हैं |

कण-भौतिक विज्ञान से जुड़ी अद्भुत बातें – Awesome Particle Physics Facts In Hindi :-

जैसा की मैंने लेख के प्रारंभिक भाग में कहा था की , आज हम लोग कण-भौतिक विज्ञान (particle physics facts in hindi) से जुड़ी दिलचस्प बातों के बारे में जानेंगे | तो , चलिए कण-भौतिक विज्ञान से जुड़ी रोचक बातों को जानते हैं |

1. पूरी इंसानी सभ्यता को कैद किया जा सकता है सिर्फ एक चम्मच के अंदर :-

शीर्षक पढ़ कर हैरानी हुई ? अवश्य ही हुई होगी | खैर आगे मेँ जो कहने जा रहा हूँ उसे थोड़ा गौर से पढ़िएगा | वर्तमान पृथ्वी पर लगभग 7 अरब से ज्यादा लोग रह रहे हैं | हर एक इंसानी शरीर कई सारे मौलिक कणिकाओं से बनी परमाणुओं से बनी हुई है। मेँ आपको यहाँ बता दूँ की हर एक परमाणु के अंदर मौजूद 99.999999999% हिस्सा पूर्ण रूप से शून्य यानी खाली होता है।

तो , अगर हम 7 अरब लोगों के अंदर मौजूद हर एक परमाणु को बिना किसी शून्य स्थान छोड़े एक ही जगह पर दबाव डाल कर एक कर दें तो यह सभी परमाणु एक छोटे से चम्मच के अंदर आ जाएंगे | जी हाँ ! कहाँ 7 अरब लोग और कहाँ एक छोटी सी चम्मच ! हैं न बहुत ही अद्भुत।

खैर आपको मेँ यहाँ और भी बता दूँ की जब हम 7 अरब लोगों के अंदर मौजूद हर एक परमाणु को एक छोटे से चम्मच के अंदर डाल देंगे तो उस चम्मच का वजन 5 अरब टन से भी ज्यादा हो जाएगा।

2. भविष्य बदल सकता है अतीत को ! :-

सुनकर झटका लगा ! लगेगा ही | क्योंकि यह बात हर एक इंसानी दिमाग से परे हैं | ज़्यादातर आपने सुना होगा की अतीत या वर्तमान हमारे भविष्य को काफी ज्यादा प्रभावित करते हैं | परंतु कण-भौतिक विज्ञान में (particle physics facts in hindi) यह बात पूरी की पूरी सत्य नहीं हैं |

Future can effect past.
भविष्य बदल सकता है अतीत को | Credit : Truth Revolution.

कण-भौतिक विज्ञान (particle physics facts in hindi) करिश्मों से भरी हुई हैं | यहाँ भविष्य अतीत को बदल डालता हैं | जी हाँ ! डबल स्लिट एक्सपेरिमेंट में यह पता चला है की, प्रकाश कण और तरंग दोनों ही रूप में गति करता हैं | इसी कारण के वजह से कई जगह पर यह अपने पीछे के कणिका को भी काफी ज्यादा प्रभावित करता हैं |

तो , जब प्रकाश में यह गुण दिखाई पड़ता हैं तब यह दूसरे पदार्थों के अंदर दिखाई पड़ना स्वाभाविक हैं |

3. इस लेख को मेँ अनंत बार लिख रहा हूँ और आप अनंत बार पढ़ रहें हैं ! :-

अब मेँ यहाँ पर जो कहूँगा उसे सुनकर आपका दिमाग जरूर ही भौं-चक्का रह जाएगा | सुनिए , हमारे ब्रह्मांड के ही तरह कई अरबों दूसरे ब्रह्मांड मौजूद हैं | हर एक ब्रह्मांड लगभग एक सामन ही हैं और हर एक ब्रह्मांड में होने वाला कोई भी घटना कभी खत्म या आरंभ नहीं होता , यह केवल एक चक्र की ही तरह अनंत काल तक चलता ही रहता हैं |

तो , इसी हिसाब से अनंत काल तक मेँ यह लेख लिखता ही रहूँगा और आप इस लेख को पढ़ते ही रहेंगे |

कण-भौतिक विज्ञान से (particle physics facts in hindi) जूडी इतने रोचक बातों को जान कर आपको कैसा लग रहा हैं | क्या आप लोगों ने कभी इसके बारे में सोचा था ? जरूर ही कॉमेंट में बताइएगा |

 4. ब्लैक होल काले नहीं होते हैं ! :-

मैंने अक्सर लोगों को ब्लैक होल को काला बोलते हुए देखा है।  परंतु यह बात पूर्ण रूप से सत्य नहीं है।  हालांकि ब्लैक होल अंधकार से हमेशा ही घिरा हुआ होता है , परंतु इसका मतलब यह नहीं है की वह काला हैं | शोधो से पता चला है की कुछ ब्लैक होल प्रकाश के किरणें भी छोड़ते है।

5. आप जितनी तेजी से आगे बढ़ेंगे आपका वजन भी उनी ही तेजी से बढ़ेगा :-

ब्रह्मांड मूल रूप से कुछ मौलिक सिद्धांतों के ऊपर कार्य करता है। दोस्तों ! सापेक्षता के सिद्धांतों के हिसाब से ब्रह्मांड में अब तक प्रकाश के तेजी से ज्यादा कोई भी वस्तु गति नहीं कर पाया है। हमारे ब्रह्मांड में प्रकाश की गति किसी भी भौतिक पदार्थ या कणिका के लिए सर्वाधिक हैं , न तो कोई कणिका और न ही कोई भी वस्तु प्रकाश के तेजी से ज्यादा तेजी से गति कर सकता है।

परंतु यहाँ पर और एक बात पर गौर करना चाहिए | अगर कोई कणिका (Particle) मान लीजिए प्रकाश के गति के आसपास ब्रह्मांड में आगे बढ़ रहा हैं और हम लोग अगर उसी समय उस कणिका के ऊपर किसी भी प्रकार का ऊर्जा प्रदान करते हैं , तब आमतौर पर उस कणिका का वेग बाहरी ऊर्जा के कारण बढ़ जाना चाहिए> परंतु ऐसा नहीं होता , हमारे द्वारा उस कणिका के ऊपर दिया गया ऊर्जा वजन के तौर पर परिवर्तित हो जाता हैं , क्योंकि प्रकाश का वेग सबसे ज्यादा है>

इस क्षेत्र में जितना उस कणिका का वेग बढ़ेगा उसी हिसाब से उसका वजन भी बढ़ता जाएगा |

Sources :- www.telegraph.co.uk , www.cern.science.com.

Tags

Bineet Patel

मैं एक उत्साही लेखक हूँ, जिसे विज्ञान के सभी विषय पसंद है, पर मुझे जो खास पसंद है वो है अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान, इसके अलावा मुझे तथ्य और रहस्य उजागर करना भी पसंद है।

Related Articles

Back to top button
Close