Browse By

Tag Archives: India

सबसे रहस्यमयी है यह तीर्थ , पाप हो जाने पर घुटता है दम !

भारत देश तीर्थों का देश है, यहां हर जगह आपको रहस्यमयी तीर्थ मिल जायेंगे। भारत में तीर्थों का विशेष महत्व होता है, यहां लोग अपनी मन्नते माँगने तो आते ही हैं, अपितु अपने पापों का प्रायश्चित भी करते हैं। आज  हम आपको बताने जा रहे

भारत के इन मंदिरों में है पुरुषों के प्रवेश पर पाबन्दी

हमारा देश बारत मंदिरो का देश है, आपको यंहा हर जगह कोई ना कोई मंदिर मिल ही जाता है। वैसे तो अधिकतर मंदिरो में सभी को प्रवेश मिलता है। हर उम्र का व्यक्ति मंदिर में जाकर के भगवान की पूजा कर सकता है। आपने अक्सर

टांगीनाथ धाम यहाँ पर है भगवान परशुराम का फरसा

भारत चमत्कारों से भरा हुआ देश है यहां हर जगह आपको कुछ ना कुछ चमत्कारिक चीजें दिखाई दे ही जाती हैं। संस्कृति से भरे हुए इस देश में बहुत से घटनाऐं जो पुराणों और वेदों में उल्लेखित हैं वह कहीं ना कहीं सच दिख ही

महायोगी गुरु गोरखनाथ का जीवन परिचय

भारत संतो की भूमि है, यहां पर संतो की बात जब भी की जाती है तो उनकी दयालुता और करूणा याद आती है। सिद्ध पुरूषों की धरा पर भगवान का हमेशा ही आशीर्वाद बना रहता है। महापुरुष ज्ञान देते हैं, भगवान का स्मरण करवाते हैं

बायोमीट्रिक अपनाने में भारत अव्वल

एचएसबीसी ने अपनी हालिया ‘ट्रस्ट इन टेक्नोलॉजी’ रिपोर्ट में कहा, ‘‘औसत आधार पर अपनी पहचान के लिए ‘आंखों की पुतली’ का इस्तेमाल किसी अन्य देश की तुलना में भारतीय तिगुना करते हैं। भारत में यह आंकड़ा नौ प्रतिशत है जबकि अन्य देशों में तीन प्रतिशत।’’

भारत के इन विचित्र मंदिरों में होती है तांत्रिक क्रियाएं

हमारे देश को मंदिरो का देश भी कहा जाता है, आपको भारत में हजारों मंदिर गलियों – गलियों में भी मिल जायेंगे। हर मंदिर का अपना अनोखा इतिहास होता है और उनके पीछे एक ना एक रहस्य भी होता है। भारत अपनी प्राचीन साधनाओं और

ये है अनोखा आश्रम, जहां रहते हैं पत्नी पीड़ित पुरुष, होती है कौए की पूजा

वैसे तो आपने बहुत सारे आश्रमों के बारे में देखा और सुना होगा, हर आश्रम में कुछ ना कुछ अनोखा होता ही रहता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे अनोखे आश्रम के बारे में बता रहे है जो पत्नी पीड़ितों ने अन्य पत्नी पीड़ितों के

भारत में फैलाये गए सबसे बड़े झूठ जिन्हें आप सालों से सच मानते आ रहे हैं.

कहते हैं कि किसी झूठ को हजारों बार बोला जाये तो समय के साथ – साथ वह झूठ सच ही बन जाता है। हमारा समाज और हमारे आस-पास के लोग अत्यंत व्यस्थ होते हैं जिस कारण वे चली आ रही बातों को बिना सच या