खोज में मिले 7 करोड़ साल पुराने मेंढक जो खाया करते थे डायनासोरों को

इस धरती पर हम मानवों से करोड़ो साल पहले डायनासोरों का युग था। उस युग में प्रागैतिहासिक जीव रहा करते थे। इन जीवों में सबसे बड़े तो डायनासोर ही थे पर कुछ ऐसे विचित्र जीव भी होते ते जो इन जीवों का अपना शिकार बना लेते थे।

वैज्ञानिकों को हाल ही में ऐसे ही जीव का पला चला है,वैज्ञानिकों के मुताबिक 6.8 करोड़ साल पहले पृथ्वी पर बीलजेबुफो नाम के मेंढक होते थे। मैडागास्कर में रहने वाले ये मेंढक छोटे डायनासोरों को चट कर जाते थे।  हॉर्न्ड मेंढकों पर कई वर्षों तक शोध करने के बाद यह दावा किया गया है। वैज्ञानिकों के मुताबिक आज पाए जाने वाले हॉर्न्ड मेंढक ही बीलजेबुफो के वंशज हैं।

मशहुर सांइस मैगजीन नेचर ने चार प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटियों के साझा शोध की यह रिपोर्ट प्रकाशित की है. रिसर्च में एडिलेड यूनिवर्सिटी, कैलिफोर्निया स्टेट पॉलिटेक्निक, कैलुफोर्निया यूनिवर्सिटी और यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन शामिल हैं।

एडिलेड यूनिवर्सिटी के बायोलॉजिकल साइंसेस के रिसर्चर डॉक्टर मार्क जोंस के मुताबिक, “मेंढकों की ज्यादातर प्रजातियों के जबड़े कमजोर होते हैं और वे आम तौर पर छोटा शिकार पकड़ते हैं. इनके उलट हॉर्न्ड मेंढक अपने बराबर बड़े आकार के जीवों का शिकार करते हैं- जैसे दूसरे मेंढक, सांप और बीबर. और उनके ताकतवर जबड़े इसमें अहम भूमिका निभाते हैं।”

यह भी देंखे – ब्रह्मांण के सबसे बड़े जीव के अद्भुत रहस्य, जिन्होंने वैज्ञानिकों को भी कर रखा है हैरान

दक्षिण अमेरिका में मिलने वाले बड़े हॉर्न्ड मेंढकों का जिक्र करते हुए वैज्ञानिकों ने कहा कि इंसान को सिर्फ एक अंगुली पर 50 लीटर पानी टिकाने के लिए जितनी ताकत चाहिए, उतनी ही ताकत हॉर्न्ड मेंढक के जबड़ों में होती है।

हॉर्न्ड मेंढकों पर शोध करने के बाद वैज्ञानिकों ने लुप्त हो चुके विशाल बीलजेबुफो मेंढक की बाइट फोर्स की गणना की. डॉक्टर जोंस के मुताबिक, “इतने ताकतवर जबड़ों वाले बीलजेबुफो अपने आस पास रहने वाले छोटे और किशोर डायनासोरों को निगलने में सक्षम थे।”

वैज्ञानिकों के लिए यह पहला मौका है जब डायनासोरों और विशाल मगरमच्छों का शिकार करने वाले किसी ताकतवर परभक्षी जीव का पता चला है।

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य
योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *