Health

तीन आम चीजें जो फैला रही हैं सबसे ज्यादा कैंसर, आज से ही इस्तेमाल करना छोड़े

Cancer – आजकल के खान-पान और इस्तेमाल होने वाली मानव निर्मित चीजों ने कैंसर को बहुत बढ़ाबा दिया है। लोग बिना सोचे समझे ही कई ऐसी चीजें इस्तेमाल करने लगते हैं जो सीधा उनके स्वास्थ पर असर करती हैं। खान-पान तो हमारा दूषित हो ही रहा है पर अब रोजमर्रा की ये चीजें भी हमें भयानक बीमारियों कैंसर, हृदय रोग आदि की ओर ले जा रही हैं –

दोस्तों, देश में कैंसर बहुत तेजी से फैला है जबसे लोगों ने प्राकृतिक चीजों को छोड़कर कैमिकल से बनीं मानव निर्मित चीजों का इस्तेमाल करना शुरू किया है तब से कैंसर के बहुत मामले बढ़े हैं।

क्या है कैंसर – Cancer

हमारा शरीर कोशिकाओं से बना होता है जैसे-जैसे शरीर को इनकी जरूरत होती है वैसे वैसे ये कोशिकाएं नियंत्रित रूप से विभाजित और बढ़ती रहती हैं। लेकिन कई बार ऐसा होता है कि शरीर को इन कोशिकाओं की कोई जरूरत नहीं होती है, फिर भी इनका बढ़ना जारी रहता है। कोशिकाओं का यह असामान्य विकास कैंसर कहलाता है (जो आमतौर पर एक असामान्य कोशिका से उत्पन्न होता है) जिसमें कोशिकाएं सामान्य नियंत्रण खो देती हैं।

तीन आम चीजें जो कैंसर को और बढ़ा रही हैं – 

दोस्तों, जैसा की आपको पता है कि कैंसर एक बेहद खतरनाक बीमारी है जिसके लक्षण भी हमें तब पता चलते हैं जब वह काफी बढ़ चुकी होती है, इसका इलाज संभव है पर वह तभी कारगर है जब लक्षणों का पता सही समय पर चल जाये।

रोजमर्रा में हम लोग इन तीन चीजों का इस्तेमाल करते हैं, ये सभी के घरों में पाई जाती हैं और लोग इन्हें बिना सोचे – समझे अच्छा समझकर कभी कभार हद से ज्यादा भी प्रयोग कर लेते हैं, आखिर ये चीजें कौन सी हैं आइये जानते हैं –

1- कागज के डिस्पोसल कप ( Styrofoam Products)

Source – (Michael Tercha / Chicago Tribune)

इन कपों को इस्तेमाल आजकल बहुत बढ़ चुका है अब ये हर चाय वाले के पास और आजकल दावतों में भी दिखते हैं। Styrofoam से बने प्रोडेक्ट्स इतने आम हो चुके हैं कि लोग हर तरह की खाने- पाने की चीज के लिए इसी का इस्तेमाल कर रहे हैं। पर ये सोफ्ट प्लास्टिक से बना कप दिखने में अच्छा भले लगे पर आपके स्वास्थ के लिए बहुत ही खतरनाक है। ये केमिकल से बनता है और इसमें  polystyrene होता है  जो एक पोलिमर है। ये खतरनाक केमिकल जब गर्म चीज जैसे गर्म पानी और चाय या कॅाफी से मिलता है तो एक Reaction करता है जिसके कारण हमारे शरीर पर बहुत बुरे प्रभाव पड़ते हैं। इसके अत्यधिक इस्तेमाल से आपको कैंसर भी हो सकता है।

यह भी पढ़े – मधुमक्खियों का सफाया कर रहे हैं कागज के डिस्पोजेबल कप

2- अगरबत्ती का धुआं

अक्सर पूजा- पाठ और विभिन्न धार्मिक अनुष्ठानों में प्रयोग होने वाली अगरबत्ती भी कैंसर के लिए जिम्मेदार मानी गई है। वैज्ञानिकों द्वारा किये गये शोध की रिपोर्ट के अनुसार अगरबत्ती को जलाने पर उसके धुएं के साथ कुछ बारीक कण भी निकलते हैं जो कि हवा में घुल-मिल जाते हैं. अगरबत्तियों से निकलने वाले जहरीले कण शरीर की कोशिकाओं को बेहद प्रभावित करते हैं।

Source – timesofindia.indiatimes.com

शोध के दौरान रिपोर्ट में पता चला कि अगरबत्ती के धुएं में तीन तरह से विशेष तत्व होते हैं जो कि कैंसर के लिए जिम्मेदार होते हैं. यह विषैले तत्व म्यूटाजेनिक, जीनोटॉक्सिक और साइटोटॉक्सिक के नाम से जाने जाते हैं। जेनेटिक म्यूटेशन यानी आनुवंशिक उत्परिवर्तन से व्यक्ति के DNA में परिवर्तन हो सकता है जो कि एक अच्छा संकेत नहीं है।

अगरबत्ती से निकलने वाला धुआं स्वास्थ्य के लिए बेहद नुकसानदायक होता है. यह हमारे फेफड़ों में जलन, उत्तेजना और विभिन्न तरह की विकृतियां पैदा कर देता है. अगरबत्ती के धुएं से सांस के रास्ते की नली में खुजली और जलन की समस्या भी हो सकती है।

3 – मच्छर मारने वाली दवाई ( Mosquito Repellent) 

जिस तरह ये दवाईयां या कहें Coils मच्छरों को मारने के लिए बनाई जाती हैं तो उनमें बहुत से कैमिकल मिलाये जाते हैं, इसके धुएं में सुंगध भी होती है जो कि कैमिक्ल्स के द्वारा ही डाली जाती है। ये Coils शायद ही कभी मच्छरों को दूर कर सके पर इनके धुएं के कई खतरनाक प्रभाव देखने के मिलते हैं। सिरदर्द और ऐलर्जी तो आम लक्षण हैं पर इसके ज्यादा इस्तेमाल से आपको कैंसर भी हो सकता है।

Source – The Conversation

मच्छरों को भगाने के लिए आप प्राकतिक साधनों का ही प्रयोग करें तो बहुत बेहतर होगा वरना ये Coils आपको बहुत बीमार बना सकती हैं।

दोस्तों, जब से हम प्राकृतिक चीजों से दूर होकर के केमिकल सी बनीं चीजों की तरफ बढ़े हैं तभी से कई प्रकार के रोगों ने हमारे शरीर पर कब्जा सा कर लिया है, आज के दौर में स्वस्थ रहने का एक ही सिद्धांत है और वह है प्रकृति के जुड़कर जीना।

Tags

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

Related Articles

Close