Health

प्रोटीन क्या है? Protein Definition और इसका पूरा विज्ञान

नमस्कार मित्रों! कैसे हैं आप लोग? आज में यहाँ ( here ) पर  प्रोटीन की परिभाषा (Protein Definition) और इससे जुड़े हर एक विज्ञान की बातों को आपके सामने रखने जा रहा हूँ| मित्रों , आप लोगों में से कई सारे लोगों को Body Building का जरूर शौक होगा| इसलिए ( therefore ) शायद में सोचता हूँ की , उनको भी Protein के बारे में तो थोड़ी बहुत जानकारी तो निश्चित रूप से होगी|

आइये जानते हैं प्रोटीन (Protein)  के बारे में

मेरे प्रिय पाठकों क्योंकि  प्रोटीन (Protein) एक जैविक उपादान है| इसलिए इसके बारे में जानना आपको बहुत ही जरूरत है| Protein  की परिभाषा से लेकर Protein की प्रकार और इसके कार्य को मैंने Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) पर आधारित इस लेख में आपको बता दिया है| Protein को हिन्दी में पुष्टि सार भी कहा जाता है| क्योंकि ( because ) यह अन्य पोषक सारों में सबसे महत्वपूर्ण है इसलिए ( therefore ) इससे जुड़ी शारीरिक गतिविधिया शरीर के विकास के लिए अतिआवश्यक है| इसलिए ( hence ) यह तो तय है की , आपको इस लेख से  बहुत ही लाभ होने वाला है|

मित्रों! पहली ( first) बात तो यह है की , Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) जानने से पहले ( before ) आपको यह समझना होगा की Protein सिर्फ हमारे जीवन के लिए ही बल्कि हमारे शरीर के विकाश के लिए कितना जरूरी है|

दूसरी बात ( second ) यह है की , Protein की महत्व इस संसार में क्या है| हालाँकि ( although ) में इसके बारे में आगे ( later ) इस लेख मे बताऊंगा | परंतु ( but ) फिरभि ( nevertheless ) मैंने इसके बारे में पहले से ही सूचित कर दिया है|

Protein की संज्ञा क्या है ? – Protein Definition In Hindi.

प्रोटीन क्या है?
प्रोटीन के प्रकार Credit: medical news

यह , एक बृहत अणु है जो की बहुत प्रकार के छोटे-छोटे Amino Acid के समागम से बनी हुई होती है|इसके अलावा ( in addition ) यह शरीर में मौजूद तीन मुख्य जीव सारों में से भी एक मुख्य जीव सार है| इसके अलावा ( in addition ) श्वेत – सार और Fat अन्य दो मुख्य उपादान है|

यह मुख्य रूप से प्राणी जात खाने में बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है| विशेष रूप से ( specifically ) अन्य जीव से सीधे तरीके से उत्पाद किए गए खाने की चीजों में Protein की मात्रा ज्यादा होता है| हमारे शरीर में मौजूद मुख्य तीन जीव-सार हमारे शरीर के लिए जरूरत ऊर्जा और Calories का उत्पाद करते हैं|

इसी वजह से ( for this reason ) एक ग्राम Protein में 4 ग्राम Calorie होता है और यह हमारे शरीर के कुल वजन का 15% ( वजन का ) हिस्सा है| क्योंकि ( because ) Protein Amino Acids से बनी हुई होती है| इसलिए ( therefore ) इसके जो मौलिक परमाणु होते है , वह ऑक्सिजन , हाइड्रोजन , नाइट्रोजन कार्बन और सल्फर से बनी हुई होती है|  क्योंकि ( because ) Amino Acids से Protein बनी हुई होती है | इसलिए इसको  Protein की Building Block भी कहा जाता है|

यहाँ ( here ) में आपको और भी बता दूँ Protein को हमारे मांसपेशियों का Building Block कहा जाता है| क्योंकि ( because ) Protein हमारे शरीर में Muscle Synthesis करते हैं|

आपके शरीर के लिए कितना प्रोटीन सही है? – How much Protein you need !

मित्रों! किसी भी वस्तु अगर जरूरत से ज्यादा हो जाए तो, वह आपके विनाश का कारण बन सकता है| इसलिए ( hence ) यहाँ ( here ) पर अपने शरीर के लिए कितना Protein चाहिए? इसके बारे जानना आपके लिए बहुत ही जरूरी है| तो, मित्रों चलिए जानते है|

अगर हम भारत वर्ष की बात करें तो ,देश के ज़्यादातर लोगों में अच्छे से Protein की कमी देखी जा सकती है| क्योंकि ( because ) हमारे देश के ज़्यादातर लोग शाकाहारी हैं , उनके खाने में ज्यादा मात्रा में Protein नहीं पाई जाती है| परंतु ( but ) में आपको बता दूँ की! शाकाहारी खाने में भी अगर आप चाहें तो अपने दिन भर के Protein की मात्रा को पूरा कर सकते हैं| में इसके बारे मे Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में बाद ( later ) में और भी जानकारी दूंगा|

तो, आपको दिन में कितने ग्राम Protein की जरूरत है? मित्रों इस सवाल का जवाब एक व्यक्ति से दूसरे ( second ) तक काफी बदल सकता है| क्योंकि ( because ) यह व्यक्ति के जीवनशैली पर निर्भर करता है| वैज्ञानिक कहते हैं की प्रति किलोग्राम ( kg ) के हिसाब से एक आदमी को दिन भर में 0.8 ग्राम से लेकर 2 ग्राम Protein की जरूरत पड़ती है|

परंतु ( but ) आमतौर पर एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए प्रति किलोग्राम ( kg ) के हिसाब से 1 से 1.2 ग्राम Protein काफी सही है| यहाँ ( here ) और एक बाद याद रखना होगा की , आप एक ही समय में 26 से 30 ग्राम Protein को ही हजम कर सकते हैं| इसलिए ( hence ) उसी हिसाब से आप अपने खाने का चयन करें| याद रखें की Protein की ज्यादा मात्रा बाद में ( later ) Kidney Stone का कारण भी बन सकता है|

Protein की संरंचना| – Protein Structure In Hindi.

कितने प्रकार की संरचना होती है प्रोटीन की?
प्रोटीन के संरचना Credit:csir

अब आपने यहाँ ( here ) पर जब Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के बारे में जान ही लिया है | तो ,थोड़ा इसके संरचना के बारे में भी जान लीजिए|

जैसे की मैंने आपको ऊपर ( above ) बता रखा है की , Protein एक बृहत-अणु है| इसलिए ( therefore ) इसके संरचना को मुख्य रूप से तीन चार हिस्सों में बाँटा गया है| तो, चलिए एक-एक कर के उन सारी संरचना के बारे में जानते हैं|

1.Primary संरचना ( Primary Structure ) :-

अब ( now ) हमारे शरीर में मौजूद Protein मुख्य रूप से 20 Amino Acids के समागम से बनी हुई है| जैसे की नाम से ही पता चल रहा है , एक Amino Acid में एक Acidic Amino ग्रुप और एक Acidic Carboxyl  ग्रुप मौजूद होता है| इन्हीं ग्रुपों की वजह से ( for this reason ) एक Amino Acid दूसरे Amino Acid से अच्छे तरीके से बंध कर रहता है|

Protein की इसी तरीके से बंधे हुए संरचना को Primary Structure कहते हैं| दो Amino Acid के अंदर बनने वाला Bond को Peptide Bond कहते हैं| ज़्यादातर 50 या इससे कम Amino Acid से बनी ग्रुप को Peptides कहा जाता है और 50 से ज्यादा Amino Acid के ग्रुप को Protein कहा जाता है|

हमारे शरीर में मौजूद Protein का निर्माण हमारा DNA करता है| ठीक इसी ढंग से ( similarly ) DNA हमारे शरीर में मौजूद RNA का भी निर्माण करता है| हालाँकि ( although ) Amino Acid के वजह से ( for this reason ) Protein की Primary structure बनती है | परंतु ( but ) हमारे शरीर में मौजूद ज़्यादातर Protein Tertiary structure के रूप में उपस्थित रहते हैं|

तो, चलिए अब Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में आगे बढ़ते हुए Protein के Secondary structure ( protein secondary structure ) के बारे में भी जान लेते हैं|

2. Secondary संरंचना ( Secondary Structure ) :-

Protein की Hydrogen Bonding के आधार पर अपना ही अलग के प्रकार का Secondary structure मौजूद है| यहाँ ( here ) पर में आपको बता दूँ की Protein की मुख्य रूप से दो प्रकार की संरचना होती हैं|

पहला ( first ) Alpha- helix और दूसरा ( second ) Beta-sheet | यह दो प्रकार के संरचना Protein की स्थिरता को बढ़ाने के साथ-साथ शरीर में होने वाले जैविक प्रतिक्रियाओं के लिए हर वक़्त तैयार रखते हैं|

Alpha-helix, Protein की Right-handed coiled structure के रूप से परिचित है| यहाँ ( here ) पर Protein Chain से निकलने वाली Substituents; main chain से दाईं और से बाहर निकलती है| इसीलिए ( for this reason ) Alpha-helix को Right-handed coiled structure कहा जाता है| Side substituents की ग्रुप मुख्य रूप से N-H बॉन्ड के ऊपर ही मौजूद होती हैं|

Beta-sheet संरचना में Alpha-helix संरचना के विपरीत ( on the contrary ) Hydrogen Bonding दो strand ( amino acid के ग्रुप ) के अंदर होने के बजाए , दो अलग-अलग strand के बीच में मौजूद होती है| यहाँ ( here ) पर मौजूद दो strand parallel या anti-parallel के ढंग में आपस से जुड़े हुए होते हैं| परंतु ( but ) ज्यादातर anti-parallel structure ही ज्यादा stable होते हैं| क्योंकि ( because ) इन में मौजूद hydrogen bond अच्छे से इनके अंदर संरेखित हो कर रहती हैं|

3. Tertiary संरचना ( Tertiary Structure ) :-

Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में अब ( now ) बारी आती है , Protein की Tertiary संरचना की| अगर में आसान भाषा में कहूँ तो , Protein की तीन-आयामी ( 3D ) संरचना को ही Protein की Tertiary structure कहते हैं|

यह संरचना Protein की सबसे stable और सबसे अधिक देखी जाने वाली संरचना है| हालाँकि ( although ) यह संरचना आपको पहली झलक में थोड़ा अजीब और आ-व्यवस्थित लग सकता है| परंतु ( but ) काफी सारे बलों के द्वारा सही तरीके से संतुलित यह संरचना काफी ज्यादा खास है|

इस संरचना में मौजूद Salt bridge और ionic interaction इसको और भी संतुलित बनाते हैं| यही कारण ( for this reason ) है की Tertiary structure हमारे शरीर में सबसे ज्यादा मात्रा में पाये जाने वाला Protein का रूप है|

4. Quaternary संरचना ( Quaternary structure ) :-

जैसे कई Amino Acid मिल कर एक Peptide को बनाते है| ठीक इसी तरह ( likewise ) कई Peptide आपस में मिल कर एक Protein Sub-unit का निर्माण करते है|

तो, मित्रों आमतौर पर Protein की Quaternary संरचना इन्हीं Protein Sub-unit के अंदर होने वाले प्रतिक्रिया को दर्शाता है| क्योंकि ( because ) बाद में ( later ) यही Protein Sub-unit आपस में मिल कर एक Protein Complex का निर्माण करते हैं|

तो, मित्रों यहाँ ( here ) पर भी अन्य संरचना के भाँति Hydrogen Bonding , Di-sulphide bonding और salt-bridge इस संरचना के स्थिरता को सुनिश्चित करते हैं|

Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) और इस की स्थिरता पर कुछ बातें :-

क्योंकि ( because ) Protein की 3D संरचना काफी सारे कमजोर bond से बनी हुई होती है| इसलिए ( for this reason ) एक काफी संवेदनशील अणु हैं| ज़्यादातर किसी भी Protein अणु की स्थिरता को Native state के नाम से बुलाया जाता है|

इसी Native state को तापमान , pH , पानी , hydrophobic substances और metal ions के जरिए बदला जा सकता है| हालाँकि ( although ) इसे बदल ना उतना भी आसान नहीं है| बाहरी दबाव के चलते Protein denature भी हो सकता है| इसी denaturing की वजह से Protein अपना मूल कार्य करने की क्षमता को भी खो सकता है| इसके साथ-साथ ( further ) कोई भी denatured Protein शरीर के immune system को भी कमजोर बना सकता है|

इसलिए ( for this reason ) हम को किसी भी प्रकार से Protein की degradation , oxidation , deamination , peptide bond hydrolysis आदि प्रक्रिया को होने नहीं देना है| यहाँ ( here ) पर में आपको और भी बता दूँ की , Mass spectroscopy के जरिये किसी भी Protein की mapping कर के आप Protein के संरचना में होने वाली बदलाव को भी आसानी से पहचान सकते हैं|

मित्रों! आप Protein की stability बहुत प्रकार से सुनिश्चित कर सकते है| उदाहरण के तौर पर ( for example ) unfolding of protein , spectroscopy या UV ray आदि प्रधान हैं| इसके साथ-साथ ( in addition ) आप differential scanning जैसे thermodynamic प्रक्रियाओं का भी प्रयोग कर सकते हैं|

Peptide mapping :-

मैंने मित्रों ऊपर ( above ) mapping का जिक्र किया है | परंतु ( but ) क्या आप को इसका मतलब पता है| Peptide Mapping का मतलब है बहुत प्रकार के Protease enzyme के माध्यम से किसी भी Protein को छोटे-छोटे हिस्सों में बाँट देना| यहाँ ( here ) पर trypsin enzyme को इस्तेमाल किया जाता है|

आपको यहाँ ( here ) हमेशा याद रखना होगा की , Protein एक अत्यंत नाजुक अणु है| इसको आप ठीक ढंग से शोध के दौरान नहीं संभालेंगे तो यह आसानी से Degenerate भी हो सकता है| Protein की stability को देखने के लिए आप इस को उन्नत तकनीक से बनी प्रयोगशाला का ही चयन करें|

इसके अलावा ( further ) अगर आप सौर-मंडल या सूर्य के विषय में इस तरीके के अनोखी बातों को जानना चाहते हैं तो , इस लेख को भी आप पढ़ सकते हैं| वैसे तो मैने रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के ऊपर भी कई रोचक बातें आपको बताया है| चाहें तो उसे भी पढ़ सकते हैं|

विज्ञान बहुत ही अनोखा है| इसलिए ( hence ) इससे जुड़ी हर एक बात भी बहुत ही अनोखी है| विज्ञानम पर आपको इस तरीके के विज्ञान से जुड़ी अनोखी बातों को भी जानने का मौका भी आपको मिल रहा है| अगर में आपके स्थान पर होता तो निश्चित रूप से में इन लेखों को एक-ना-एक बार जरूर पढ़ता है| Black hole से लेकर Neutron star तक और Terraforming से ले कर Graviton तक विज्ञान के हर एक अजूबों के बारे में लेख आपको सिर्फ यहाँ मिलेगा|

तो , मित्रों! और इंतजार किस बात की|  अपने ज्ञान को और भी विकसित करें ऊपर ( above ) दिए गए लेखों की माध्यम से और यकीन मानिए सिर्फ एक बार बस इनपर नजर डाल के तो देखिए | लाभ नहीं हुआ तो मुझे बोलना!

Protein से जुड़ी हुई कुछ रोचक बातें – Amazing Protein Facts In Hindi.

1. ज़्यादा Protein जानलेवा भी साबित हो सकता है :-

हालाँकि ( although ) Protein हमारे शरीर के विकास के लिए जरूरी है| परंतु ( but ) इसकी जरूरत से ज्यादा मात्रा आपके लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है| 2010 में Ben Pearson नाम एक खिलाड़ी ने अपने मांसपेशी को ताकतवर बनाने के लिए बहुत ज्यादा Protein का सेवन कर लिया| इससे शरीर में ammonia की मात्रा बढ्ने के साथ-साथ उसकी मौत भी हो गयी|

 2. Protein की जीवन काल मात्र इतना है! :-

मित्रों! यहाँ ( here ) पर मैं आपको एक ऐसी बात बताऊंगा , जिसे सुनकर आप जरूर हैरान हो जाएंगे| ज़्यादातर हमारे शरीर में मौजूद Protein की जीवन काल मात्र 2 दिनों का होता है| जी हाँ! सिर्फ दो दिन | दो दिन की कहानी!! आपको क्या लगता था  Protein के जीवन काल को ले कर| अपना मत मुझे जरूर बताएं|

3.इस खाने में हैं दुनिया का सबसे ज्यादा Protein :- 

मैने ऊपर ( above ) ही आपको बता रखा है की , ज़्यादातर Protein जीवों से बनी खानों से आती है| यहाँ ( here ) पर ज़्यादातर लोग मांस या अंडे के बारे मे ही सोचेंगे| परंतु ( but ) क्या विश्वास करेंगे की दुनिया का सबसे ज्यादा Protein एक प्रकार के पनीर में होता हैं| जी हाँ! पनीर जो की एक शाकाहारी खाना है|

इस पनीर को Parmesan पनीर कहा जाता है| इसके प्रति 100 ग्राम में 41.6 ग्राम पूर्ण रूप से Amino Profile से बनी Protein मौजूद रहता है| वाह! अब शाकाहारी लोग भी अच्छे से बॉडी बना सकते है|

4.आपकी बाल भी Protein का एक सही उदाहरण है :- 

अब ( now ) मित्रों में क्या कहूँ! आपके शरीर का हर एक अंग मे Protein की उपस्थित से वाकिब है| चाहे वो आपका मांसपेशी हो या आपकी बाल| बाल! जी आपकी ही बालों की बात में यहाँ ( here ) कर रहा हूँ|

हमारे शरीर में उगने वाले बाल Keratin नाम के एक Protein से बनी हुई है| इसलिए अगर आप अपने बालों को सुस्त रखना चाहते हैं तो Protein से भरी हुई खाना खाएं|

तो, मित्रों Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के इस लेख के इस भाग मेँ आपको मजा तो आ रहा है ना? यह बातें जितना मजेदार है, उतना ही ज्ञानवर्धक भी हैं| इसलिए ( for this reason ) इन्हें अच्छे से पढ़ते रहें|

5.शाकाहारी लोगों के लिए यह है Protein का मूल स्रोत :-

मैंने पहले ( before ) ही एक प्रकार के पनीर का जिक्र कर दिया है , जो की Protein से भरी हुई है| परंतु ( but ) यहाँ ( here ) पर मैंने शाकाहारी लोगों के लिए और Protein की स्रोत का जिक्र किया है| जिक्र करने का कारण यह है की कुछ-कुछ लोगों में lactose intolerance का भी असुविधा दिखाई देती है|

अगर आपके साथ भी lactose की असुविधा है तो | आप मटर / Pea को अपने Protein की स्रोत के हिसाब में ग्रहण कर सकते हैं| अच्छे से बढ़े हुए मटर / Pea में प्रति 100 ग्राम के हिसाब से 38 ग्राम Protein होता है|

6.T.V में आने वाले कार्टूनों के नामों पर आधारित होता हैं Proteins के नाम :-

झटका लगाना ! मुझे भी लगा था , जब ( when ) मैंने इसके बारे मे पहली बार कोई बात सुनी थी|  दरअसल बात यह है की Pikachurin नाम का एक Protein Pikachu नाम के एक कार्टून के नाम पर आधारित है|

है ना! मजेदार| इस तरीके से रोचक बातें सिर्फ आपको यहाँ ( here ) ही मिलेगी|

7.इस Protein के अभाव से बम बन सकता है हमारा शरीर! :-

घातक हो सकता है इस प्रोटीन के बिना आपका शरीर
Alumin प्रोटीन Credit: Forth life

Protein की संज्ञा ( Protein definition ) के इस लेख में अब आप पढ़ रहे हैं Protein से जुड़ी अनोखी बातों को ( amazing facts of Protein )| इसलिए ( for this reason ) मैं आपको यहाँ ( here ) पर और एक चौंकानी बाली बात बताने जा रहा हूँ| तो, दिल थाम के बैठिए| क्योंकि ( because ) यह बात सबसे अनोखी है|

Albumin नाम का यह Protein अगर हमारे शरीर के अंदर मौजूद नहीं होगा तो , हमारा शरीर सूज कर एक बम के भाँति फट जाएगा| वाकई में बहुत ही डरावना है|

8.वीर्य में मौजूद Protein की वजह से ही निषेचन ( fertilisation ) संभव होता है :-

खैर यह बात तो सब को पता होगी की निषेचन से ही बच्चा पैदा होता है| परंतु ( but ) क्या आपको पता है ! की पुरुषों के वीर्य मौजूद Protein महिलायों के दिमाग को उत्तेजित कर के Ovulation की प्रक्रिया को शुरू करते हैं|

जब ( when ) Ovulation होती है , तब Ovum या डिंबाणू शुक्राणु से मिल कर Zygote को बनाते है , जिससे इंसान का बच्चा पैदा होता है|

9.आपके शरीर में इतने प्रकार के Protein मौजूद हैं :-

मैंने आपको पहले ही ( before ) ऊपर ( above ) Protein के प्रकारों के विषय में बता दिया है| आमतौर पर 20 प्रकार के Protein हमारे शरीर के विकास के लिए जरूरी है| परंतु ( but ) क्या आपको पता है! हमारे शरीर में कुल 100,000 प्रकार के Protein मौजूद हैं|

तो, मित्रों यहाँ ( here ) पर आप जरूर सोचिए की इतने सारे Protein हमारे शरीर को क्यूँ चाहिए? जब की , उसे सिर्फ 20 से ही काम है|

10. Complete Protein और Incomplete Protein क्या है? :- 

ज्यादातर लोग अब ( now ) यह सोच रहे होंगे की , आखिर अब ( now ) यह कौन सी नई चीज़ है| तो,मित्रों ज्यादा न-सोचिए क्योंकि ( because ) मैं हु ना! Complete Protein उसे कहा जाता है , जिसमें सारी की सारी यानी पूरे 9 प्रकार के Amino Acid मौजूद होती है| ज़्यादातर मांस , अंडे , दूध आदि चीजों को Complete Protein का उत्श्र माना गया है|

तो, अब ( now ) मुझे लगता है की आप खुद Incomplete Protein की संज्ञा अब निकाल ही लेंगे| इसलिए ( therefore ) इसकी संज्ञा अब में आप पर छोड़ रहा हूँ| कृपया आप इसे ढूंढ लें|

11.प्रोटीन बन सकता है allergy का कारण :-

ऐलेर्जी ( Allergies)
Protein से थोड़ाबच कर Credit: Medline plus

Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में यह आखिरी रोचक बात है| Protein के अंदर मौजूद Amino Acid किसी भी इंसान के लिए allergen की तरह कार्य कर सकते है| इसलिए ( for this reason ) कई सारे लोगों को गेहूं में मौजूद Gluten Protein से allergy होती है|

12.क्या आप अंडे खाते हैं? अगर हाँ! तो रुकिए ! पहले जान लीजिए इस बात को :-

अब ( now ) लोग मुझे कहेंगे की , बिनीत अब अंडे भी क्या हम नहीं खा सकते! जी हाँ ! आप जरूर खा सकते हो| परंतु ( but ) खाने से पहले अंडे से जुड़ी इस बात को जान लीजिए|

एक साधारण आकार के अंडे में 4 से 6 ग्राम तक Protein होता है| यह Protein दुनिया के अन्य खाने की चीजों से मिलने वाली Protein से काफी ज्यादा अच्छा है| हाँ! आप जो अंडा खा रहे हैं , उसमें दुनिया की सबसे अच्छी Protein मौजूद है|

और एक बात हमेशा अंडे को कम से कम उबाल कर खाएं| क्योंकि ( because ) कच्चे अंडे में salmonella के भूताणु मौजूद रहते हैं|

तो, चालिए Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में आगे बढ़ते हुए और रोचक बातों को जानते हैं|

13.संभोग के समय इतने ग्राम Protein आपके शरीर से खर्च हो जाता है :-

जब एक इंसान संभोग करता है , तो उससे उसके वीर्य का खर्च होना स्वाभाविक है| इसलिए ( for this reason ) एक बार वीर्य की खर्च में आप करीब 150 mg Protein अपने शरीर से खो देते हैं|

तो, अपने वीर्य की खर्च सोच-समझ कर ही करें!!

14.जीवों से पायी गई Protein हमेशा पौधों से पायी गई Protein से अच्छी होती है :-

यहाँ ( here ) पर आपको इसके बारे में थोड़ी अच्छे से सोचने की जरूरत पड़ेगी| हम एक जीव हैं और हमारा शरीर अगर किसी दूसरे जीव से आई Protein को ग्रहण करता है तो , उसे वह जल्दी absorb कर सकता है| हालाँकि ( although ) पौधों से आयी Protein भी बहुत अच्छी होती है| परंतु ( but ) वह जल्द से जल्द absorb नहीं हो पाती|

Protein का काम क्या है और यह क्यूँ जरूरी है? – What is the function of Protein and why it is a necessity of our body In Hindi?

1. शरीर के विकास और देखभाल के लिए :-

मित्रों! मैंने पहले ( before ) ही बताया था की Protein मांसपेशियों की बढ्ने में मदद करता है| इसलिए ( for this reason ) Protein आपके शरीर को बढ़ाने के साथ-साथ आपके शरीर का ख्याल भी रखता है|

2. आपके शरीर में सूचना प्रसार करता है Protein :- 

आपके शरीर में बहुत प्रकार के Enzymes मौजूद है| इन सब का काम आपके शरीर में होने वाले प्रक्रिया को नियंत्रण करना है| इसीलिए ( therefore ) इन सब का महत्व आपके शरीर के लिए  बहुत ज्यादा है|

क्योंकि ( because ) बहुत सारे Enzymes Protein से भी बने होते हैं , तो Protein भी एक प्रकार से आपके शरीर की सूचना को प्रसार करने में मदद करता है|

3. आपके शरीर को आकार देता है Protein :- 

मित्रों! Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) पर आधारित इस लेख में अब बारी आती है , आपके शरीर की आकार की| मित्रों! में आपको यहाँ ( here ) बता दूँ की , Collagen , Keratin और Elastin नाम के यह तीन Protein आपके शरीर में मौजूद कोशिका को सही आकार व स्थिरता प्रदान करते हैं|

वाकई में अगर शरीर मे Protein नहीं होगा तो हमारा शरीर जीवित ही नहीं रह सकता| ऊपर दिये गए ( above ) Protein आपके शरीर में हड्डी और , टेंडोन , लीगामेंट आदि बनाने में आपके शरीर की बहुत मदद करते हैं|

4. pH को संतुलित करता है Protein :- 

आपके शरीर में pH का सही तरीके से संतुलित रहना बहुत ही जरूरी है| क्योंकि ( because ) इस से आपकी शरीर की खून सही तरीके से बह सकता है|

5. खून में मौजूद सबसे प्रमुख उपादान Hemoglobin एक Protein है| यह शरीर को खून के जरिए ऑक्सिजन पहुँचाता है|

तो, अब Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में अब थोड़ा Protein युक्त खाने की बात कर लेते हैं|

प्रोटीन (Protein) युक्त खाने के विकल्प – High-Protein diet.

ज्यादा Protein खाना सही नहीं है
घातक है ज्यादा प्रोटीन Protein

मैंने इस लेख में पहले ( before ) ही आपको बता कर रखा था की , लेख के आखिरी भाग में आपको Protein युक्त खाने के बारे में जरूर बताऊंगा| इसलिए ( for this reason ), मैंने यहाँ ( here ) पर Protein युक्त बहुत सारे खाने का जिक्र किया है|

मांसाहारीयों के लिए Protein युक्त खाना ->
  1. अंडे
  2. चिकन
  3. टूना
  4. टर्की की मांस|
  5. झींगा
  6. पोर्क

दोस्तों! मैंने यहाँ ( here ) पर सिर्फ मांसहारियों के द्वारा खाए जा सकने वाला खाने का जिक्र किया है| वैसे यह लोग शकहारियों के लिए मौजूद खाना भी खा सकते है|

शाकाहारियों के लिए Protein युक्त खाना ->
  1. दूध
  2. बदाम
  3. दलिया
  4. पनीर
  5. ग्रीक दहि
  6. ब्रोकोली
  7. क्यूनोआ
  8. दाल
  9. Whey Protein Supplement.

तो, मित्रों ऊपर ( above ) लिखी गयी हर एक Protein का खाना शाकाहार यों के लिए बहुत ही जरूरी है| अगर कोई इंसान अपने शरीर को स्वस्थ और सही आकार में रखना चाहता हैं , तो उसे अपने खान-पान में Protein को ज्यादा महत्व देना पड़ेगा| याद रखिए की Protein आपके शरीर की सबसे प्रमुख जीव सारों में से एक है|

निष्कर्ष – Conclusion :-

मित्रों! Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) से ले कर Protein युक्त खाने तक मैंने इस लेख में आपको सब कुछ बताया है ( जितना मुझ से हो पाया )| इसलिए ( therefore ) में सोचता हूँ की Protein को लेकर आपके मन में मौजूद ज़्यादातर सवालों का जवाब आपको मिल गया है| वैसे मित्रों! लेख के इस भाग में में अब ( now ) आपको कुछ अलग ही चीज़ के बारे में बताने जा रहा हूँ|

देखिए , आज के इस समय में हर कोई Fit या स्वस्थ नहीं होता है| इसलिए ( hence ) ज़्यादातर लोगों को बहुत ही कम उम्र में ही रोग पकड़ लेते हैं| क्योंकि ( because ) लोगों के अंदर अपने खान-पान को ले कर उतनी जागरूकता नहीं है , जितनी की होनी चाहिए | इसलिए ( hence ) में आप से यहीं आग्रह करना चाहूँगा की आप इस लेख को जितना हो सके उतना share कर के ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचाए|

याद रखिए! अगर आप आज किसी की मदद का रहें हैं तो एक न एक दिन आपकी भी मदद कोई करेगा| तो, विशेष ( specifically ) रूप से इस लेख को अच्छे से पढ़ें और दूसरों को पढ़ के सुनाए| खैर , और एक बात आपको बतानी थी| आज कल ज़्यादातर युवाओं में वजन बढ़ाने या वजन घटाने की होड लगी हुई है|

जल्दी फल पाने की आशा में कई सारे युवा अपने जिंदगी से खेल रहे हैं| कई गलत रास्ते वह अपना रहे हैं| इसलिए ( hence ) में उन भाइयों से यह निवेदन करूंगा की बॉडी बनाने के लिए कोई दबाई न ले कर High Protein diet  का सेवन नियमित रूप से कम से कम 3 महीने तक धैर्य से करें| यकीन मानिए बॉडी न बने तो कहना|

वैसे मित्रों! बोल के आपको aware करना मेरा काम था| आगे आपकी मरज़ी क्योंकि ( because ) आखिर में आपकी ही जीवन है|

धन्यवाद!.

Tags

Bineet Patel

I am a learner and passionate writer who loves to spread the interesting concepts of science through my writing.

Related Articles

Back to top button
Close