Health

प्रोटीन क्या है? Protein Definition और इसका पूरा विज्ञान

नमस्कार मित्रों! कैसे हैं आप लोग? आज में यहाँ ( here ) पर  प्रोटीन की परिभाषा (Protein Definition) और इससे जुड़े हर एक विज्ञान की बातों को आपके सामने रखने जा रहा हूँ| मित्रों , आप लोगों में से कई सारे लोगों को Body Building का जरूर शौक होगा| इसलिए ( therefore ) शायद में सोचता हूँ की , उनको भी Protein के बारे में तो थोड़ी बहुत जानकारी तो निश्चित रूप से होगी|

आइये जानते हैं प्रोटीन (Protein)  के बारे में

मेरे प्रिय पाठकों क्योंकि  प्रोटीन (Protein) एक जैविक उपादान है| इसलिए इसके बारे में जानना आपको बहुत ही जरूरत है| Protein  की परिभाषा से लेकर Protein की प्रकार और इसके कार्य को मैंने Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) पर आधारित इस लेख में आपको बता दिया है| Protein को हिन्दी में पुष्टि सार भी कहा जाता है| क्योंकि ( because ) यह अन्य पोषक सारों में सबसे महत्वपूर्ण है इसलिए ( therefore ) इससे जुड़ी शारीरिक गतिविधिया शरीर के विकास के लिए अतिआवश्यक है| इसलिए ( hence ) यह तो तय है की , आपको इस लेख से  बहुत ही लाभ होने वाला है|

मित्रों! पहली ( first) बात तो यह है की , Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) जानने से पहले ( before ) आपको यह समझना होगा की Protein सिर्फ हमारे जीवन के लिए ही बल्कि हमारे शरीर के विकाश के लिए कितना जरूरी है|

दूसरी बात ( second ) यह है की , Protein की महत्व इस संसार में क्या है| हालाँकि ( although ) में इसके बारे में आगे ( later ) इस लेख मे बताऊंगा | परंतु ( but ) फिरभि ( nevertheless ) मैंने इसके बारे में पहले से ही सूचित कर दिया है|

Protein की संज्ञा क्या है ? – Protein Definition In Hindi.

प्रोटीन क्या है?
  • Save
प्रोटीन के प्रकार Credit: medical news

यह , एक बृहत अणु है जो की बहुत प्रकार के छोटे-छोटे Amino Acid के समागम से बनी हुई होती है|इसके अलावा ( in addition ) यह शरीर में मौजूद तीन मुख्य जीव सारों में से भी एक मुख्य जीव सार है| इसके अलावा ( in addition ) श्वेत – सार और Fat अन्य दो मुख्य उपादान है|

यह मुख्य रूप से प्राणी जात खाने में बहुत ज्यादा मात्रा में पाया जाता है| विशेष रूप से ( specifically ) अन्य जीव से सीधे तरीके से उत्पाद किए गए खाने की चीजों में Protein की मात्रा ज्यादा होता है| हमारे शरीर में मौजूद मुख्य तीन जीव-सार हमारे शरीर के लिए जरूरत ऊर्जा और Calories का उत्पाद करते हैं|

इसी वजह से ( for this reason ) एक ग्राम Protein में 4 ग्राम Calorie होता है और यह हमारे शरीर के कुल वजन का 15% ( वजन का ) हिस्सा है| क्योंकि ( because ) Protein Amino Acids से बनी हुई होती है| इसलिए ( therefore ) इसके जो मौलिक परमाणु होते है , वह ऑक्सिजन , हाइड्रोजन , नाइट्रोजन कार्बन और सल्फर से बनी हुई होती है|  क्योंकि ( because ) Amino Acids से Protein बनी हुई होती है | इसलिए इसको  Protein की Building Block भी कहा जाता है|

यहाँ ( here ) में आपको और भी बता दूँ Protein को हमारे मांसपेशियों का Building Block कहा जाता है| क्योंकि ( because ) Protein हमारे शरीर में Muscle Synthesis करते हैं|

आपके शरीर के लिए कितना प्रोटीन सही है? – How much Protein you need !

मित्रों! किसी भी वस्तु अगर जरूरत से ज्यादा हो जाए तो, वह आपके विनाश का कारण बन सकता है| इसलिए ( hence ) यहाँ ( here ) पर अपने शरीर के लिए कितना Protein चाहिए? इसके बारे जानना आपके लिए बहुत ही जरूरी है| तो, मित्रों चलिए जानते है|

अगर हम भारत वर्ष की बात करें तो ,देश के ज़्यादातर लोगों में अच्छे से Protein की कमी देखी जा सकती है| क्योंकि ( because ) हमारे देश के ज़्यादातर लोग शाकाहारी हैं , उनके खाने में ज्यादा मात्रा में Protein नहीं पाई जाती है| परंतु ( but ) में आपको बता दूँ की! शाकाहारी खाने में भी अगर आप चाहें तो अपने दिन भर के Protein की मात्रा को पूरा कर सकते हैं| में इसके बारे मे Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में बाद ( later ) में और भी जानकारी दूंगा|

तो, आपको दिन में कितने ग्राम Protein की जरूरत है? मित्रों इस सवाल का जवाब एक व्यक्ति से दूसरे ( second ) तक काफी बदल सकता है| क्योंकि ( because ) यह व्यक्ति के जीवनशैली पर निर्भर करता है| वैज्ञानिक कहते हैं की प्रति किलोग्राम ( kg ) के हिसाब से एक आदमी को दिन भर में 0.8 ग्राम से लेकर 2 ग्राम Protein की जरूरत पड़ती है|

परंतु ( but ) आमतौर पर एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए प्रति किलोग्राम ( kg ) के हिसाब से 1 से 1.2 ग्राम Protein काफी सही है| यहाँ ( here ) और एक बाद याद रखना होगा की , आप एक ही समय में 26 से 30 ग्राम Protein को ही हजम कर सकते हैं| इसलिए ( hence ) उसी हिसाब से आप अपने खाने का चयन करें| याद रखें की Protein की ज्यादा मात्रा बाद में ( later ) Kidney Stone का कारण भी बन सकता है|

Protein की संरंचना| – Protein Structure In Hindi.

कितने प्रकार की संरचना होती है प्रोटीन की?
  • Save
प्रोटीन के संरचना Credit:csir

अब आपने यहाँ ( here ) पर जब Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के बारे में जान ही लिया है | तो ,थोड़ा इसके संरचना के बारे में भी जान लीजिए|

जैसे की मैंने आपको ऊपर ( above ) बता रखा है की , Protein एक बृहत-अणु है| इसलिए ( therefore ) इसके संरचना को मुख्य रूप से तीन चार हिस्सों में बाँटा गया है| तो, चलिए एक-एक कर के उन सारी संरचना के बारे में जानते हैं|

1.Primary संरचना ( Primary Structure ) :-

अब ( now ) हमारे शरीर में मौजूद Protein मुख्य रूप से 20 Amino Acids के समागम से बनी हुई है| जैसे की नाम से ही पता चल रहा है , एक Amino Acid में एक Acidic Amino ग्रुप और एक Acidic Carboxyl  ग्रुप मौजूद होता है| इन्हीं ग्रुपों की वजह से ( for this reason ) एक Amino Acid दूसरे Amino Acid से अच्छे तरीके से बंध कर रहता है|

Protein की इसी तरीके से बंधे हुए संरचना को Primary Structure कहते हैं| दो Amino Acid के अंदर बनने वाला Bond को Peptide Bond कहते हैं| ज़्यादातर 50 या इससे कम Amino Acid से बनी ग्रुप को Peptides कहा जाता है और 50 से ज्यादा Amino Acid के ग्रुप को Protein कहा जाता है|

हमारे शरीर में मौजूद Protein का निर्माण हमारा DNA करता है| ठीक इसी ढंग से ( similarly ) DNA हमारे शरीर में मौजूद RNA का भी निर्माण करता है| हालाँकि ( although ) Amino Acid के वजह से ( for this reason ) Protein की Primary structure बनती है | परंतु ( but ) हमारे शरीर में मौजूद ज़्यादातर Protein Tertiary structure के रूप में उपस्थित रहते हैं|

तो, चलिए अब Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में आगे बढ़ते हुए Protein के Secondary structure ( protein secondary structure ) के बारे में भी जान लेते हैं|

2. Secondary संरंचना ( Secondary Structure ) :-

Protein की Hydrogen Bonding के आधार पर अपना ही अलग के प्रकार का Secondary structure मौजूद है| यहाँ ( here ) पर में आपको बता दूँ की Protein की मुख्य रूप से दो प्रकार की संरचना होती हैं|

पहला ( first ) Alpha- helix और दूसरा ( second ) Beta-sheet | यह दो प्रकार के संरचना Protein की स्थिरता को बढ़ाने के साथ-साथ शरीर में होने वाले जैविक प्रतिक्रियाओं के लिए हर वक़्त तैयार रखते हैं|

Alpha-helix, Protein की Right-handed coiled structure के रूप से परिचित है| यहाँ ( here ) पर Protein Chain से निकलने वाली Substituents; main chain से दाईं और से बाहर निकलती है| इसीलिए ( for this reason ) Alpha-helix को Right-handed coiled structure कहा जाता है| Side substituents की ग्रुप मुख्य रूप से N-H बॉन्ड के ऊपर ही मौजूद होती हैं|

Beta-sheet संरचना में Alpha-helix संरचना के विपरीत ( on the contrary ) Hydrogen Bonding दो strand ( amino acid के ग्रुप ) के अंदर होने के बजाए , दो अलग-अलग strand के बीच में मौजूद होती है| यहाँ ( here ) पर मौजूद दो strand parallel या anti-parallel के ढंग में आपस से जुड़े हुए होते हैं| परंतु ( but ) ज्यादातर anti-parallel structure ही ज्यादा stable होते हैं| क्योंकि ( because ) इन में मौजूद hydrogen bond अच्छे से इनके अंदर संरेखित हो कर रहती हैं|

3. Tertiary संरचना ( Tertiary Structure ) :-

Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में अब ( now ) बारी आती है , Protein की Tertiary संरचना की| अगर में आसान भाषा में कहूँ तो , Protein की तीन-आयामी ( 3D ) संरचना को ही Protein की Tertiary structure कहते हैं|

यह संरचना Protein की सबसे stable और सबसे अधिक देखी जाने वाली संरचना है| हालाँकि ( although ) यह संरचना आपको पहली झलक में थोड़ा अजीब और आ-व्यवस्थित लग सकता है| परंतु ( but ) काफी सारे बलों के द्वारा सही तरीके से संतुलित यह संरचना काफी ज्यादा खास है|

इस संरचना में मौजूद Salt bridge और ionic interaction इसको और भी संतुलित बनाते हैं| यही कारण ( for this reason ) है की Tertiary structure हमारे शरीर में सबसे ज्यादा मात्रा में पाये जाने वाला Protein का रूप है|

4. Quaternary संरचना ( Quaternary structure ) :-

जैसे कई Amino Acid मिल कर एक Peptide को बनाते है| ठीक इसी तरह ( likewise ) कई Peptide आपस में मिल कर एक Protein Sub-unit का निर्माण करते है|

तो, मित्रों आमतौर पर Protein की Quaternary संरचना इन्हीं Protein Sub-unit के अंदर होने वाले प्रतिक्रिया को दर्शाता है| क्योंकि ( because ) बाद में ( later ) यही Protein Sub-unit आपस में मिल कर एक Protein Complex का निर्माण करते हैं|

तो, मित्रों यहाँ ( here ) पर भी अन्य संरचना के भाँति Hydrogen Bonding , Di-sulphide bonding और salt-bridge इस संरचना के स्थिरता को सुनिश्चित करते हैं|

Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) और इस की स्थिरता पर कुछ बातें :-

क्योंकि ( because ) Protein की 3D संरचना काफी सारे कमजोर bond से बनी हुई होती है| इसलिए ( for this reason ) एक काफी संवेदनशील अणु हैं| ज़्यादातर किसी भी Protein अणु की स्थिरता को Native state के नाम से बुलाया जाता है|

इसी Native state को तापमान , pH , पानी , hydrophobic substances और metal ions के जरिए बदला जा सकता है| हालाँकि ( although ) इसे बदल ना उतना भी आसान नहीं है| बाहरी दबाव के चलते Protein denature भी हो सकता है| इसी denaturing की वजह से Protein अपना मूल कार्य करने की क्षमता को भी खो सकता है| इसके साथ-साथ ( further ) कोई भी denatured Protein शरीर के immune system को भी कमजोर बना सकता है|

इसलिए ( for this reason ) हम को किसी भी प्रकार से Protein की degradation , oxidation , deamination , peptide bond hydrolysis आदि प्रक्रिया को होने नहीं देना है| यहाँ ( here ) पर में आपको और भी बता दूँ की , Mass spectroscopy के जरिये किसी भी Protein की mapping कर के आप Protein के संरचना में होने वाली बदलाव को भी आसानी से पहचान सकते हैं|

मित्रों! आप Protein की stability बहुत प्रकार से सुनिश्चित कर सकते है| उदाहरण के तौर पर ( for example ) unfolding of protein , spectroscopy या UV ray आदि प्रधान हैं| इसके साथ-साथ ( in addition ) आप differential scanning जैसे thermodynamic प्रक्रियाओं का भी प्रयोग कर सकते हैं|

Peptide mapping :-

मैंने मित्रों ऊपर ( above ) mapping का जिक्र किया है | परंतु ( but ) क्या आप को इसका मतलब पता है| Peptide Mapping का मतलब है बहुत प्रकार के Protease enzyme के माध्यम से किसी भी Protein को छोटे-छोटे हिस्सों में बाँट देना| यहाँ ( here ) पर trypsin enzyme को इस्तेमाल किया जाता है|

आपको यहाँ ( here ) हमेशा याद रखना होगा की , Protein एक अत्यंत नाजुक अणु है| इसको आप ठीक ढंग से शोध के दौरान नहीं संभालेंगे तो यह आसानी से Degenerate भी हो सकता है| Protein की stability को देखने के लिए आप इस को उन्नत तकनीक से बनी प्रयोगशाला का ही चयन करें|

इसके अलावा ( further ) अगर आप सौर-मंडल या सूर्य के विषय में इस तरीके के अनोखी बातों को जानना चाहते हैं तो , इस लेख को भी आप पढ़ सकते हैं| वैसे तो मैने रसायन विज्ञान और जीव विज्ञान के ऊपर भी कई रोचक बातें आपको बताया है| चाहें तो उसे भी पढ़ सकते हैं|

विज्ञान बहुत ही अनोखा है| इसलिए ( hence ) इससे जुड़ी हर एक बात भी बहुत ही अनोखी है| विज्ञानम पर आपको इस तरीके के विज्ञान से जुड़ी अनोखी बातों को भी जानने का मौका भी आपको मिल रहा है| अगर में आपके स्थान पर होता तो निश्चित रूप से में इन लेखों को एक-ना-एक बार जरूर पढ़ता है| Black hole से लेकर Neutron star तक और Terraforming से ले कर Graviton तक विज्ञान के हर एक अजूबों के बारे में लेख आपको सिर्फ यहाँ मिलेगा|

तो , मित्रों! और इंतजार किस बात की|  अपने ज्ञान को और भी विकसित करें ऊपर ( above ) दिए गए लेखों की माध्यम से और यकीन मानिए सिर्फ एक बार बस इनपर नजर डाल के तो देखिए | लाभ नहीं हुआ तो मुझे बोलना!

Protein से जुड़ी हुई कुछ रोचक बातें – Amazing Protein Facts In Hindi.

1. ज़्यादा Protein जानलेवा भी साबित हो सकता है :-

हालाँकि ( although ) Protein हमारे शरीर के विकास के लिए जरूरी है| परंतु ( but ) इसकी जरूरत से ज्यादा मात्रा आपके लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है| 2010 में Ben Pearson नाम एक खिलाड़ी ने अपने मांसपेशी को ताकतवर बनाने के लिए बहुत ज्यादा Protein का सेवन कर लिया| इससे शरीर में ammonia की मात्रा बढ्ने के साथ-साथ उसकी मौत भी हो गयी|

 2. Protein की जीवन काल मात्र इतना है! :-

मित्रों! यहाँ ( here ) पर मैं आपको एक ऐसी बात बताऊंगा , जिसे सुनकर आप जरूर हैरान हो जाएंगे| ज़्यादातर हमारे शरीर में मौजूद Protein की जीवन काल मात्र 2 दिनों का होता है| जी हाँ! सिर्फ दो दिन | दो दिन की कहानी!! आपको क्या लगता था  Protein के जीवन काल को ले कर| अपना मत मुझे जरूर बताएं|

3.इस खाने में हैं दुनिया का सबसे ज्यादा Protein :- 

मैने ऊपर ( above ) ही आपको बता रखा है की , ज़्यादातर Protein जीवों से बनी खानों से आती है| यहाँ ( here ) पर ज़्यादातर लोग मांस या अंडे के बारे मे ही सोचेंगे| परंतु ( but ) क्या विश्वास करेंगे की दुनिया का सबसे ज्यादा Protein एक प्रकार के पनीर में होता हैं| जी हाँ! पनीर जो की एक शाकाहारी खाना है|

इस पनीर को Parmesan पनीर कहा जाता है| इसके प्रति 100 ग्राम में 41.6 ग्राम पूर्ण रूप से Amino Profile से बनी Protein मौजूद रहता है| वाह! अब शाकाहारी लोग भी अच्छे से बॉडी बना सकते है|

4.आपकी बाल भी Protein का एक सही उदाहरण है :- 

अब ( now ) मित्रों में क्या कहूँ! आपके शरीर का हर एक अंग मे Protein की उपस्थित से वाकिब है| चाहे वो आपका मांसपेशी हो या आपकी बाल| बाल! जी आपकी ही बालों की बात में यहाँ ( here ) कर रहा हूँ|

हमारे शरीर में उगने वाले बाल Keratin नाम के एक Protein से बनी हुई है| इसलिए अगर आप अपने बालों को सुस्त रखना चाहते हैं तो Protein से भरी हुई खाना खाएं|

तो, मित्रों Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के इस लेख के इस भाग मेँ आपको मजा तो आ रहा है ना? यह बातें जितना मजेदार है, उतना ही ज्ञानवर्धक भी हैं| इसलिए ( for this reason ) इन्हें अच्छे से पढ़ते रहें|

5.शाकाहारी लोगों के लिए यह है Protein का मूल स्रोत :-

मैंने पहले ( before ) ही एक प्रकार के पनीर का जिक्र कर दिया है , जो की Protein से भरी हुई है| परंतु ( but ) यहाँ ( here ) पर मैंने शाकाहारी लोगों के लिए और Protein की स्रोत का जिक्र किया है| जिक्र करने का कारण यह है की कुछ-कुछ लोगों में lactose intolerance का भी असुविधा दिखाई देती है|

अगर आपके साथ भी lactose की असुविधा है तो | आप मटर / Pea को अपने Protein की स्रोत के हिसाब में ग्रहण कर सकते हैं| अच्छे से बढ़े हुए मटर / Pea में प्रति 100 ग्राम के हिसाब से 38 ग्राम Protein होता है|

6.T.V में आने वाले कार्टूनों के नामों पर आधारित होता हैं Proteins के नाम :-

झटका लगाना ! मुझे भी लगा था , जब ( when ) मैंने इसके बारे मे पहली बार कोई बात सुनी थी|  दरअसल बात यह है की Pikachurin नाम का एक Protein Pikachu नाम के एक कार्टून के नाम पर आधारित है|

है ना! मजेदार| इस तरीके से रोचक बातें सिर्फ आपको यहाँ ( here ) ही मिलेगी|

7.इस Protein के अभाव से बम बन सकता है हमारा शरीर! :-

घातक हो सकता है इस प्रोटीन के बिना आपका शरीर
  • Save
Alumin प्रोटीन Credit: Forth life

Protein की संज्ञा ( Protein definition ) के इस लेख में अब आप पढ़ रहे हैं Protein से जुड़ी अनोखी बातों को ( amazing facts of Protein )| इसलिए ( for this reason ) मैं आपको यहाँ ( here ) पर और एक चौंकानी बाली बात बताने जा रहा हूँ| तो, दिल थाम के बैठिए| क्योंकि ( because ) यह बात सबसे अनोखी है|

Albumin नाम का यह Protein अगर हमारे शरीर के अंदर मौजूद नहीं होगा तो , हमारा शरीर सूज कर एक बम के भाँति फट जाएगा| वाकई में बहुत ही डरावना है|

8.वीर्य में मौजूद Protein की वजह से ही निषेचन ( fertilisation ) संभव होता है :-

खैर यह बात तो सब को पता होगी की निषेचन से ही बच्चा पैदा होता है| परंतु ( but ) क्या आपको पता है ! की पुरुषों के वीर्य मौजूद Protein महिलायों के दिमाग को उत्तेजित कर के Ovulation की प्रक्रिया को शुरू करते हैं|

जब ( when ) Ovulation होती है , तब Ovum या डिंबाणू शुक्राणु से मिल कर Zygote को बनाते है , जिससे इंसान का बच्चा पैदा होता है|

9.आपके शरीर में इतने प्रकार के Protein मौजूद हैं :-

मैंने आपको पहले ही ( before ) ऊपर ( above ) Protein के प्रकारों के विषय में बता दिया है| आमतौर पर 20 प्रकार के Protein हमारे शरीर के विकास के लिए जरूरी है| परंतु ( but ) क्या आपको पता है! हमारे शरीर में कुल 100,000 प्रकार के Protein मौजूद हैं|

तो, मित्रों यहाँ ( here ) पर आप जरूर सोचिए की इतने सारे Protein हमारे शरीर को क्यूँ चाहिए? जब की , उसे सिर्फ 20 से ही काम है|

10. Complete Protein और Incomplete Protein क्या है? :- 

ज्यादातर लोग अब ( now ) यह सोच रहे होंगे की , आखिर अब ( now ) यह कौन सी नई चीज़ है| तो,मित्रों ज्यादा न-सोचिए क्योंकि ( because ) मैं हु ना! Complete Protein उसे कहा जाता है , जिसमें सारी की सारी यानी पूरे 9 प्रकार के Amino Acid मौजूद होती है| ज़्यादातर मांस , अंडे , दूध आदि चीजों को Complete Protein का उत्श्र माना गया है|

तो, अब ( now ) मुझे लगता है की आप खुद Incomplete Protein की संज्ञा अब निकाल ही लेंगे| इसलिए ( therefore ) इसकी संज्ञा अब में आप पर छोड़ रहा हूँ| कृपया आप इसे ढूंढ लें|

11.प्रोटीन बन सकता है allergy का कारण :-

ऐलेर्जी ( Allergies)
  • Save
Protein से थोड़ाबच कर Credit: Medline plus

Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में यह आखिरी रोचक बात है| Protein के अंदर मौजूद Amino Acid किसी भी इंसान के लिए allergen की तरह कार्य कर सकते है| इसलिए ( for this reason ) कई सारे लोगों को गेहूं में मौजूद Gluten Protein से allergy होती है|

12.क्या आप अंडे खाते हैं? अगर हाँ! तो रुकिए ! पहले जान लीजिए इस बात को :-

अब ( now ) लोग मुझे कहेंगे की , बिनीत अब अंडे भी क्या हम नहीं खा सकते! जी हाँ ! आप जरूर खा सकते हो| परंतु ( but ) खाने से पहले अंडे से जुड़ी इस बात को जान लीजिए|

एक साधारण आकार के अंडे में 4 से 6 ग्राम तक Protein होता है| यह Protein दुनिया के अन्य खाने की चीजों से मिलने वाली Protein से काफी ज्यादा अच्छा है| हाँ! आप जो अंडा खा रहे हैं , उसमें दुनिया की सबसे अच्छी Protein मौजूद है|

और एक बात हमेशा अंडे को कम से कम उबाल कर खाएं| क्योंकि ( because ) कच्चे अंडे में salmonella के भूताणु मौजूद रहते हैं|

तो, चालिए Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में आगे बढ़ते हुए और रोचक बातों को जानते हैं|

13.संभोग के समय इतने ग्राम Protein आपके शरीर से खर्च हो जाता है :-

जब एक इंसान संभोग करता है , तो उससे उसके वीर्य का खर्च होना स्वाभाविक है| इसलिए ( for this reason ) एक बार वीर्य की खर्च में आप करीब 150 mg Protein अपने शरीर से खो देते हैं|

तो, अपने वीर्य की खर्च सोच-समझ कर ही करें!!

14.जीवों से पायी गई Protein हमेशा पौधों से पायी गई Protein से अच्छी होती है :-

यहाँ ( here ) पर आपको इसके बारे में थोड़ी अच्छे से सोचने की जरूरत पड़ेगी| हम एक जीव हैं और हमारा शरीर अगर किसी दूसरे जीव से आई Protein को ग्रहण करता है तो , उसे वह जल्दी absorb कर सकता है| हालाँकि ( although ) पौधों से आयी Protein भी बहुत अच्छी होती है| परंतु ( but ) वह जल्द से जल्द absorb नहीं हो पाती|

Protein का काम क्या है और यह क्यूँ जरूरी है? – What is the function of Protein and why it is a necessity of our body In Hindi?

1. शरीर के विकास और देखभाल के लिए :-

मित्रों! मैंने पहले ( before ) ही बताया था की Protein मांसपेशियों की बढ्ने में मदद करता है| इसलिए ( for this reason ) Protein आपके शरीर को बढ़ाने के साथ-साथ आपके शरीर का ख्याल भी रखता है|

2. आपके शरीर में सूचना प्रसार करता है Protein :- 

आपके शरीर में बहुत प्रकार के Enzymes मौजूद है| इन सब का काम आपके शरीर में होने वाले प्रक्रिया को नियंत्रण करना है| इसीलिए ( therefore ) इन सब का महत्व आपके शरीर के लिए  बहुत ज्यादा है|

क्योंकि ( because ) बहुत सारे Enzymes Protein से भी बने होते हैं , तो Protein भी एक प्रकार से आपके शरीर की सूचना को प्रसार करने में मदद करता है|

3. आपके शरीर को आकार देता है Protein :- 

मित्रों! Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) पर आधारित इस लेख में अब बारी आती है , आपके शरीर की आकार की| मित्रों! में आपको यहाँ ( here ) बता दूँ की , Collagen , Keratin और Elastin नाम के यह तीन Protein आपके शरीर में मौजूद कोशिका को सही आकार व स्थिरता प्रदान करते हैं|

वाकई में अगर शरीर मे Protein नहीं होगा तो हमारा शरीर जीवित ही नहीं रह सकता| ऊपर दिये गए ( above ) Protein आपके शरीर में हड्डी और , टेंडोन , लीगामेंट आदि बनाने में आपके शरीर की बहुत मदद करते हैं|

4. pH को संतुलित करता है Protein :- 

आपके शरीर में pH का सही तरीके से संतुलित रहना बहुत ही जरूरी है| क्योंकि ( because ) इस से आपकी शरीर की खून सही तरीके से बह सकता है|

5. खून में मौजूद सबसे प्रमुख उपादान Hemoglobin एक Protein है| यह शरीर को खून के जरिए ऑक्सिजन पहुँचाता है|

तो, अब Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) के ऊपर आधारित इस लेख में अब थोड़ा Protein युक्त खाने की बात कर लेते हैं|

प्रोटीन (Protein) युक्त खाने के विकल्प – High-Protein diet.

ज्यादा Protein खाना सही नहीं है
  • Save
घातक है ज्यादा प्रोटीन Protein

मैंने इस लेख में पहले ( before ) ही आपको बता कर रखा था की , लेख के आखिरी भाग में आपको Protein युक्त खाने के बारे में जरूर बताऊंगा| इसलिए ( for this reason ), मैंने यहाँ ( here ) पर Protein युक्त बहुत सारे खाने का जिक्र किया है|

मांसाहारीयों के लिए Protein युक्त खाना ->
  1. अंडे
  2. चिकन
  3. टूना
  4. टर्की की मांस|
  5. झींगा
  6. पोर्क

दोस्तों! मैंने यहाँ ( here ) पर सिर्फ मांसहारियों के द्वारा खाए जा सकने वाला खाने का जिक्र किया है| वैसे यह लोग शकहारियों के लिए मौजूद खाना भी खा सकते है|

शाकाहारियों के लिए Protein युक्त खाना ->
  1. दूध
  2. बदाम
  3. दलिया
  4. पनीर
  5. ग्रीक दहि
  6. ब्रोकोली
  7. क्यूनोआ
  8. दाल
  9. Whey Protein Supplement.

तो, मित्रों ऊपर ( above ) लिखी गयी हर एक Protein का खाना शाकाहार यों के लिए बहुत ही जरूरी है| अगर कोई इंसान अपने शरीर को स्वस्थ और सही आकार में रखना चाहता हैं , तो उसे अपने खान-पान में Protein को ज्यादा महत्व देना पड़ेगा| याद रखिए की Protein आपके शरीर की सबसे प्रमुख जीव सारों में से एक है|

निष्कर्ष – Conclusion :-

मित्रों! Protein की संज्ञा ( Protein Definition ) से ले कर Protein युक्त खाने तक मैंने इस लेख में आपको सब कुछ बताया है ( जितना मुझ से हो पाया )| इसलिए ( therefore ) में सोचता हूँ की Protein को लेकर आपके मन में मौजूद ज़्यादातर सवालों का जवाब आपको मिल गया है| वैसे मित्रों! लेख के इस भाग में में अब ( now ) आपको कुछ अलग ही चीज़ के बारे में बताने जा रहा हूँ|

देखिए , आज के इस समय में हर कोई Fit या स्वस्थ नहीं होता है| इसलिए ( hence ) ज़्यादातर लोगों को बहुत ही कम उम्र में ही रोग पकड़ लेते हैं| क्योंकि ( because ) लोगों के अंदर अपने खान-पान को ले कर उतनी जागरूकता नहीं है , जितनी की होनी चाहिए | इसलिए ( hence ) में आप से यहीं आग्रह करना चाहूँगा की आप इस लेख को जितना हो सके उतना share कर के ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुँचाए|

याद रखिए! अगर आप आज किसी की मदद का रहें हैं तो एक न एक दिन आपकी भी मदद कोई करेगा| तो, विशेष ( specifically ) रूप से इस लेख को अच्छे से पढ़ें और दूसरों को पढ़ के सुनाए| खैर , और एक बात आपको बतानी थी| आज कल ज़्यादातर युवाओं में वजन बढ़ाने या वजन घटाने की होड लगी हुई है|

जल्दी फल पाने की आशा में कई सारे युवा अपने जिंदगी से खेल रहे हैं| कई गलत रास्ते वह अपना रहे हैं| इसलिए ( hence ) में उन भाइयों से यह निवेदन करूंगा की बॉडी बनाने के लिए कोई दबाई न ले कर High Protein diet  का सेवन नियमित रूप से कम से कम 3 महीने तक धैर्य से करें| यकीन मानिए बॉडी न बने तो कहना|

वैसे मित्रों! बोल के आपको aware करना मेरा काम था| आगे आपकी मरज़ी क्योंकि ( because ) आखिर में आपकी ही जीवन है|

धन्यवाद!.

Tags

Bineet Patel

I am a learner and passionate writer who loves to spread the interesting concepts of science through my writing.

Related Articles

Back to top button
Close
622 Shares
Copy link
Powered by Social Snap