Health

कोरोना के बाद तहलका मचाने के लिए आ रहा हैं यह नया वाइरस! – Norovirus In Hindi

नोरोवाइरस से क्या हो सकती है कोरोना जैसी तबाही! जाने इस रिपोर्ट में |

पता नहीं यह पृथ्वी पर इंसानी सभ्यता के अंत होने का पहला संकेत हैं या और कुछ। परंतु इतना जरूर है की, जो भी आज-कल आपको अखबारों और टीवी पर पढ़ने व देखने को मिल रहा है उन सभी दुर्घटनाओं की घटने के पीछे कुछ न कुछ कारण अवश्य ही हैं। खैर मेँ आपको बता दूँ की, यहाँ पर मेँ कोरोना वायरस की जो भयंकर विनाश लीला चीन में मची हुई उसकी ही बारे में बात कर रहा हूँ। परंतु क्या सच में सिर्फ कोरोना वायरस ही हमारी चिंता का विषय हैं? शायद नहीं ! क्योंकि हाल ही में नोरो वायरस (Norovirus In Hindi) नाम का एक दूसरा ही वायरस अपने खतरनाक जलवे बिखरने के लिए पूरी तैयारी के साथ धीरे-धीरे हमारी और बढ़ रहा है।

Undergoing studies on norovirus.
नोरोवाइरस- एक नया व अंजान वाइरस | Credit: Ustoday.com.

वैसे आगे बढ्ने से पहले आपको नोरो वायरस (norovirus in hindi) के ऊपर आधारित इस लेख में बता दूँ की, हम लोग आज इसके बारे में कई मूलभूत तथा अंजान बातों को जानेंगे | वैसे इसके बारे में अभी तक ज्यादा कुछ खोजा नहीं गया हैं, परंतु इतना निश्चित है की इसके बारे में आप लोगों को पहले से ही सावधान किया जाए। क्योंकि सावधान और सतर्क रहने से कई असुविधा घटने से पहले ही खत्म हो जाती हैं।

तो, चलिए अब बिना किसी देरी किए लेख में आगे बढ़ते हैं।

नोरो वायरस आखिर क्या हैं ? – What Is Norovirus In Hindi ? :-

सरल भाषा में कहें तो, नोरो वायरस (norovirus in hindi) वास्तव में एक प्रकार का हानिकारक भूताणु है जो की मानव शरीर के अंदर डाइरिया बीमारी को पैदा करता हैं या इसके होने का मुख्य कारण बनता हैं । वैसे देखा जाए तो शरीर के अंदर प्रवेश करने के बाद यह वायरस मूल रूप से पेट तथा गुर्दे को संक्रमित करता है। इसके अलावा ध्यान देने वाली बात यह भी है की, यह वायरस आमतौर पर ठंड के मौसम में संक्रमण फैलाता है और कई बार यह उलटी भी करवाता है। इसलिए इसको विंटर वोमीटिंग बग” भी कहते हैं।

वैसे तो यह वायरस कोरोना जितना भले ही खतरनाक न हों, परंतु यह भी किसी से कम नहीं है। वायरस के सीधे संपर्क में आने के बाद शरीर में इसके लक्षण 12 से 48 घंटों के अंदर दिखाई पड़ते हैं, जिसे अगर समय रहते ठीक नहीं किया गया तो कुछ क्षेत्रों में बहुत ही ज्यादा गंभीर हो जाते हैं।

नोरो वायरस के मुख्य लक्षण :-

अगर आपके शरीर में यह लक्षण दिखाई दे रहीं हैं तो, एक बार अवश्य ही डॉक्टर को दिखाएं। क्योंकि यह नोरो वाइरस के (norovirus in hindi) लक्षण भी हो सकते हैं।

Syptoms of norovirus.
नोरोवाइरस के लक्षण | Credit: Medical News Today.
  1. जी मिचलाना।
  2. उलटी होना।
  3. पेट में दर्द बने रहना।
  4. बुखार और सर्दी होना।
  5. जोड़ों और मांसपेशिओं में दर्द होना।
  6. खांसी होना।

वैसे इसके अलावा भी इस वायरस के कई सारे लक्षण जैसे, शरीर के तापमान में अचानक बदलाव, नाक से पानी बहते रहना आदि हो सकते हैं। इसलिए अगर आप अपने शरीर में होने वाले बदलाव से थोड़ा चिंतित हैं तो, हमारे हिसाब से आपको एक डॉक्टर की सलाह अवश्य ही ले लेना चाहिए। क्योंकि कौन जानता है की, यह छोटे-छोटे लक्षण आगे किसी बड़े बीमारी की और भी संकेत कर रहीं हों।

नोरो वायरस होने के कारण – Causes Of Norovirus :-

अन्य किसी वायरस की तरह ही नोरो वायरस काफी तेजी से एक से दूसरे व्यक्ति तक संक्रमित हो जाता है। इसलिए इसको कभी कम आंका नहीं जा सकता है। मूलतः नोरो वायरस संक्रमित खाने को खाने से हो सकता हैं, क्योंकि खाने के वक़्त यदि कोई नोरोवाइरस का रोगी आपके आस-पास भी मौजूद हैं तो उससे आपका खाना भी बड़ी ही आसानी संक्रमित हो सकता हैं।

इसके अलावा खाने का ध्यान रखने के साथ ही साथ आपको पानी का भी ध्यान रखना पड़ेगा। संक्रमित पानी से भी आपको यह बीमारी हो सकती है और पानी से यह आपके तक बहुत ही आसानी से पहुँच सकता है। जब भी आप किसी संक्रमित जगह के सतह को अपने हाथों से छूते हैं तो, नोरो वायरस आपके हाथों में चला आता है। बाद में जब आप उसी हाथ को अपने मुँह तक ले कर छूते हैं तो, वह वायरस आपके शरीर के अंदर प्रवेश कर जाता हैं।

नोरो वायरस (norovirus in hindi) से पीड़ित व्यक्ति के पास अगर आप बहुत देरी तक रहते हैं, तब भी आपको यह वायरस के होने का खतरा बहुत ही बढ़ जाता है। यह एक तरीके से ध्यान में रखने वाली बात हैं की, आपको किसी भी हाल में आपात कालीन अवस्था के अलावा उनके पास नहीं जाना हैं।

इन बातों का आप अवश्य ही ध्यान रखें ! :-

हम लोगों में से ज़्यादातर लोग बाहर खाना पसंद करते हैं। हालांकि, कभी-कभार एक-दो बार बाहर खाना चलता हैं, परंतु इसका मतलब यह नहीं हैं की आप रोज किसी भी जगह पर खाना खा लें। वैसे अगर आप बाहर खाना खा रहें हो तो, ध्यान रखें की वहाँ खाने को साफ-सुथरे ढंग से बनाया जा रहा हो।

स्कूल और कॉलेज में थोड़ा बच कर रहें, यहाँ नोरोवायरस फैलने की बहुत ही ज्यादा संभावना होती है। अस्पताल जाते वक़्त भी सतर्कता अवश्य ही बरते | सार्वजनिक जगहों पर मास्क पहन कर जाएं।

इस वायरस से आखिर कैसे बचें ! :-

अगर दिल में प्रबल इच्छा हो तो कोई भी काम कितना भी मुश्किल क्यों न हो, वह आखिर में संभव हो ही जाता है और अगर आप चाहें तो इस वाइरस से भी बच सकते हैं। लेख के इस भाग में मैंने उन्हीं बातों के बारे में जिक्र किया हैं जिससे आप इस वायरस के चपेट में आने से बच सकते हैं। तो, चलिए एक-एक करके उन्हीं बातों को जानते हैं।

जब भी आप शौचालय से बाहर आ रहें हैं तो, अपने हाथों को अवश्य ही साबुन से अच्छे तरीके से धो दें | इससे किसी भी प्रकार का बेक्टेरिया या वायरस आपके हाथों में नहीं रहेगा> हमेशा घर में बना साफ-सुथरा खाना खाएं, जितना हो पाए उतना बाहर न खाएं। इसके अलावा ध्यान में रखें की अगर कोई व्यक्ति बीमार है और वह आपका खाना बना रहा है तो, भी आप वह खाना न खाएं। इससे संक्रमण का खतरा और भी बढ़ जाता है।

फलों और सब्जियों को अच्छे तरीके से धो कर खाएं। इससे उसके ऊपर लगी धूल और मिट्टी साफ हो जाएगी जिससे संक्रमण होने का खतरा बहुत ही ज्यादा कम हो जाएगा। घर के फर्श को किसी एंटी-वाइरल लिकुइड से हमेशा साफ करते रहिए। एक शोध से पता चला है की, ज़्यादातर वायरस इसी फर्श के ऊपर ही होते हैं जो की बाद में आप ही को बीमार बनाते हैं। इसी के कारण आपको हमेशा अपने घर की साफ-सफाई का भी ध्यान रखना पड़ेगा।

अगर आप कोई ऐसी नौकरी करते हैं जिसमें आपको तरह-तरह के खाद्यों की सामग्रिओं को हाथों से  पकड़ना पड़ता हैं, तो कुछ दिन अपने काम से छुट्टी ले लीजिए। फूड-इंडस्ट्री में ऐसी बीमारियों का खतरा बहुत ही ज्यादा बढ़ जाता है। इससे बल्कि आपकी हानि होगी परंतु इसके वजह कई दूसरे लोग भी बीमार पड़ सकते हैं।

निष्कर्ष – Conclusion :-

हाल ही में अमेरिकी प्रांत लुइसिआना में नोरो वायरस (norovirus in hindi) अपना तहलका मचा रहा है। इस वायरस के चलते 200 से भी अधिक लोग बीमार पड़ चुके हैं और न जाने कितने इससे संक्रमित हुए होंगे। मित्रों ! आज के इस परिस्थिति को देख कर यह लग रहा हैं की, आने वाले समय में हमारा जीवन बहुत ही ज्यादा संघर्ष पूर्ण होने वाला हैं। क्योंकि बदलते हुए परिवेश के साथ बढ़ते बीमारियों का खतरा न जाने और कितने मासूमों की जान लेने वाला है।  वैसे राहत की बात यह है की, नोरो वायरस कोरोना वायरस जितना जानलेवा नहीं है।

वैसे मेँ आप लोगों से जाते-जाते एक सवाल जरूर ही करना चाहूँगा ! क्या आपको लगता हैं की यह जितनी भी बीमारियां अभी इंसानों को हो रही हैं क्या इसके पीछे का कारण खुद इंसान हैं? क्या हमारी वजह से ही आज इतने खतरनाक वायरस फैल रहें हैं?

Sources :- www.mayoclinic.org, www.nhs.uk.

Tags

Bineet Patel

मैं एक उत्साही लेखक हूँ, जिसे विज्ञान के सभी विषय पसंद है, पर मुझे जो खास पसंद है वो है अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान, इसके अलावा मुझे तथ्य और रहस्य उजागर करना भी पसंद है।

Related Articles

Back to top button
Close