Universe

जानिए क्या है स्ट्रिंग थ्योरी ? क्या कहता है विज्ञान – String Theory Explained in Hindi

मनुष्य को हमेशा से जानने की इच्छा रहती है, उसकी इसी इच्छा और जिज्ञासा की वजह से आज मनुष्य इतना आगे निकल चुका है कि वह अब इस विशाल ब्रह्मांण की गरहाई और अणु की सूक्ष्मता को माप सकता है।

विज्ञान हमेशा से वैसा नहीं रहा जैसा हम मानते हैं, हर समय विज्ञान में बदलने की गुंजाइश रहती है। नये सिद्धांतो की तौर पर हम बहुत कुछ समझ पाते हैं।

न्युटन के जमाने में हमारा विज्ञान कुछ और था और हम अलग तरह से सोचा करते थे। जब महान वैज्ञानिक आईंस्टीन ने अपना रिलेटिविटी का जब सिद्धांत दुनिया के सामने रखा तो हमारा विज्ञान ही बदल गया।

आज के विज्ञान में हम दो थ्योरी यानि सिद्धातों का उपयोग करते हैं, जब बात किसी बड़े ग्रह और ब्रह्मांण में मौजूद किसी पिंड की हो तो हम थ्योरी आॅफ रिलेटिविटी की बात करते हैं।

जब हमें अणु के विज्ञान को देखते हैं तो हम Quantum Field Theory का सहारा लेते हैं, Sub-atomic और इलेक्ट्रोन और प्रोटोन के व्यवहार को समझने के लिए हम इसका उपयोग करते हैं।

अब वैज्ञानिक इन दो थ्योरी को एक ही थ्योरी में पिरोने की बात करते हैं, ताकि वह हर तरह के विज्ञान के रहस्यों को जान सकें। वैज्ञानिकों की इसी जिज्ञासा ने स्ट्रिंग थ्योरी को जन्म दिया। आज के इस वीडियो में हम इसी के बारे में जानेंगे, वीडियो जरुर ध्यान से देखें –

Tags

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

Related Articles

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close