Religion

प्राचीन काल में प्याज (Onion) के होते थे इस तरह के अनोखे प्रयोग

Onion Use In Ancient Age Hindi –  प्याज (Onion)  को कई लोग पसंद करते हैं, जब प्याज को खाने में प्रयोग किया जाता है तो उस खाने का स्वाद अपने आप बढ़ जाता है। इंसानो को प्याज हजारों सालो से पसंद है और वे इसका उपयोग लगभग हर तरह के खाने और स्वास्थ लाभ के लिए करते हैं।

कांस्य युग के 5,000 वर्ष ईसा पूर्व के ठिकानों की खुदाई में प्याज के अवशेष मिले हैं। यह सिर्फ स्वाद ही नहीं बढ़ाता, बल्कि न्यूट्रिशन से भरपूर भी होता है। इसमें कोई नई बात नहीं है। लेकिन शायद आपने प्याज के अनूठे प्रयोग के बारे में नहीं सुना होगा।.

सदियों पहले प्राचीन सभ्यताओं के लोग और मध्ययुगीन यूरोप के निवासी प्याज के कई तरह के यूज करते थे, जिन्हें जानकर किसी को भी हैरानी हो सकती है।

1. खुदाई में मिले सबूत बताते हैं कि पिरामिड्स बनाने वाले मिस्र के लोग ईसा से  3000 साल पहले प्याज की खेती करते थे। प्याज उनके रोजाना के भोजन का हिस्सा था।

2. इसके साथ-साथ वे लोग प्याज की पूजा भी करते थे। प्याज की गोल आकृति और इसे काटने पर दिखने वाले रिंग के चलते इसे एटरनल लाइफ का प्रतीक माना जाता था।.

3. यही नहीं, मिस्र के राजा रामसेस चतुर्थ की ममी के आई सॉकेट्स में प्याज के हिस्से मिले हैं। इससे साबित होता है कि प्राचीन मिस्र के लोग अंतिम संस्कार की प्रक्रिया में भी इसका इस्तेमाल करते थे।

4. प्राचीन यूनान में माना जाता था कि प्याज ब्लड के ‘बैलेंस’ को ठीक करता है। इसलिए एथलीट्स ढेर सारा प्याज खाते थे। यही नहीं, रोमन ग्लेडिएटर्स अपनी स्किन पर प्याज मला करते थे, ताकि उनके मसल्स ज्यादा मजबूत बन सकें।

5. 16वीं सदी के यूरोप में डॉक्टर प्याज को बांझपन का इलाज मानते थे और ऐसी महिलाओं को नियमित तौर पर प्याज खाने की सलाह देते थे। उस दौर में पशुओं को भी प्याज खिलाया जाता था, ताकि वे ज्यादा बच्चे पैदा करें।

6. मध्ययुग के यूरोप में प्याज को बहुत महत्व दिया जाता था। किराया चुकाने में प्याज का इस्तेमाल होता था और लोग एक-दूसरे को प्याज गिफ्ट भी करते थे। प्याज उनके जीवन का एक हिस्सा बन चुका था।

7. चूंकि प्याज के सेल्स बड़े होते हैं, इसलिए स्टडी में सेल्स की संरचना समझने के लिए उसके छिलकों का इस्तेमाल अब भी होता है। माइक्रोस्कोप के नीचे प्याज के छिलके रखे जाने पर सेल्स की बनावट साफ नजर आती है।.

यह भी जानें – प्राचीन काल में होती थी विषकन्या, जानिए इनके इतिहास और रहस्य को.

Tags

Pallavi Sharma

पल्लवी शर्मा एक छोटी लेखक हैं जो अंतरिक्ष विज्ञान, सनातन संस्कृति, धर्म, भारत और भी हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतीं हैं। इन्हें अंतरिक्ष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close