Physics

अगर प्रकाश एक दृश्य है, तो हम अंतरिक्ष में प्रकाश को यात्रा करते हुए क्यों नहीं देख सकते हैं?

If light is a visual, why can't we see light travelling in space?

If light is a visual, why can’t we see light travelling in space-  यह एक दिलचस्प सवाल है जो हमारे जीवन के बारे में बहुत सारे छिपे हुए तथ्यों को उजागर कर सकता है। जब मैं कहता हूं कि मैं इस वस्तु को देखता हूं तो इसका मतलब है कि प्रकाश मेरी आंख के माध्यम से मेरे मस्तिष्क पर पड़ता है। जब मैं केवल प्रकाश का निरीक्षण कर सकता हूं, जब कोई कण या वस्तु जैसी कोई भी वस्तु प्रकाश से टकराएगी और हमारी आंख से बातचीत करेगी।

यदि ऐसा होता है जीवन हम केवल हर दिन रोशनी देखेंगे जहां प्रकाश दिन के दौरान विसरित होता है। इसलिए जीवन बहुत भयानक होगा क्योंकि अन्य वस्तुएं बस हमारी आंखों को दिखाई नहीं दे सकतीं। कोई भी हमसे फिर से पूछ सकता है कि हम उस चीज को कैसे देख सकते हैं जिसके द्वारा हम प्रकाश को देख सकते हैं। तो यह अंतहीन विचार होगा। बस विरोधाभास।

रेटिना(retina)

सबक हम किसी भी विद्युत चुंबकीय( electromagnetic waves) तरंगों को नहीं देख सकते हैं। केवल हम अपनी बुद्धि या वैज्ञानिक तर्क से उनकी उपस्थिति महसूस कर सकते हैं।

हम कुछ देखते हैं जब प्रकाश हमारे रेटिना पर पड़ता है। यदि प्रकाश का एक किरण अंतरिक्ष में यात्रा कर रहा है, तो आप इसे नहीं देख सकते क्योंकि यह प्रकाश अपने पथ में यात्रा कर रहा है और आपकी आंख में नहीं आ रहा है।

हम अपने आस-पास की चीजों को देख सकते हैं क्योंकि उनसे परावर्तित प्रकाश हमारे वातावरण और धूल से बिखरा हुआ है। इसका मतलब यह है कि उन सतहों से प्रकाश मूल रूप से सभी दिशाओं में चारों ओर फेंक दिया जाता है और इसलिए यह हमारी आंख तक पहुंचता है।

अंतरिक्ष में हालांकि आप प्रकाश का मार्ग नहीं देख पाएंगे क्योंकि कोई प्रकाश आपके रेटिना तक नहीं पहुंच रहा है क्योंकि बिखराव के लिए कुछ भी नहीं है।

एक उधाहरण

आपका तात्पर्य यह है कि टॉर्च की रोशनी पुंज (लाइट बीम) को हम देख पाते हैं वैसे हम तारों की रोशनी पुंज (लाइट बीम) को क्यों नहीं देख पाते हैं ?

चलिए टॉर्च को ही दिन में सूरज की रोशनी में जला कर देखिए, आपको जलता हुआ टॉर्च नज़र तो आएगा पर उसकी रोशनी पुंज (लाइट बीम) नहीं।

क्यों ??

क्योंकि , रोशनी पुंज (लाइट बीम) एक सीधी रेखा में लेज़र बीम जैसी नहीं चलती है, बल्कि एक तरंग /wave से चारों ओर फैल जाती है और उसकी तीव्रता आसपास की सूर्य रश्मियों से काफी कम हो जाती है इसीलिए दिखाई नहीं पड़ती।

जब प्रकाश चारों ओर फैलता है तो उसका फैलाव एक गोले के रूप में होता है और बड़ी तेजी से घटता है।

प्रकाश

प्रकाश को यात्रा करने के लिए एक माध्यम की आवश्यकता होती है। माध्यम के कण प्रकाश के साथ बातचीत करते हैं और इसे हमारी आंखों में वापस दर्शाते हैं। लेकिन … अंतरिक्ष के संबंध में, यह सिर्फ एक वैक्यूम है। ऐसे कोई कण नहीं हैं जो प्रकाश को प्रतिबिंबित कर सकते हैं। इसलिए अंतरिक्ष में यात्रा करते समय प्रकाश दिखाई नहीं देता है। यही कारण है कि आप को अंतरिक्ष की काले रंग में होने की एक छवि मिलती है।

Tags

Pallavi Sharma

पल्लवी शर्मा एक छोटी लेखक हैं जो अंतरिक्ष विज्ञान, सनातन संस्कृति, धर्म, भारत और भी हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतीं हैं। इन्हें अंतरिक्ष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।

Related Articles

Close