Universe

जापानी वैज्ञानिक इस हफ्ते एक भटकते हुए क्षुद्रग्रह को गोली मारने जा रहे हैं

Hayabusa2 Mission By JAXA

Hayabusa2 Mission By JAXA Hindi – क्षुद्रग्रह यानि Asteroids जो कि भटकते हुए पिंड होते हैं, अंतरिक्ष में किसी भी बड़े पिंड यानि ग्रह से टकराकर तबाही मचा सकते हैं। एक 10 मीटर का ऐसा पिंड काफी होता है एक छोटे शहर को बरबाद करने के लिए। इनकी इसी खतरनाक स्पीड के कारण ये इतना बना लेते हैं जो इन्हें परमाणु से भी ज्यादा खतरनाक बना देता है।

पर अब इन्हें वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में ही नष्ट करने का मन बना लिया है, इसी कड़ी में जपान के वैज्ञानिक इस हफ्ते एक ऐसा परीक्षण करने जा रहे हैं जिसमें वे ऐसे ही एक भटकते हुए क्षुद्रग्रह को गोली से नष्ट करेंगे।

यह जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी ( JAXA ) द्वारा किए गए पांच साल के हायाबुसा 2 मिशन के अंतिम चरण का हिस्सा है, जो कि Ryugu क्षुद्रग्रह से नमूने लेने के लिए  लगभग 380,000 किलोमीटर (236,000 मील) दूर स्थित है और विश्लेषण के लिए उन्हें पृथ्वी पर लौटाता है।

हायाबुसा 2 पिछले जून से 900 मीटर चौड़े (3,000 फुट) एक क्षुद्रग्रह पर मंडरा रहा है, पर उसका ये चक्कर लगाना बहुत मुश्किल होता है, ये 900 मीटर का पत्थर अपनी ग्रेविटी से हायाबुसा 2 को खीचंता रहता है जिससे बचने के लिए हायाबुसा अपने आयन थ्रस्टर्स  घं प्रयोग करके ऊंचाई बदल लेता है, ये यान हर 7.5 घंटो में इस क्षुद्रग्रह का चक्कर पूरा करता है।

विज्ञान पत्रिका नेचर में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार ये यान पिछले महीने ही क्षुद्रग्रह की सतह पर उतर जाता, पर जब निरीक्षण किया गया तो पता चला कि क्षुद्रग्रह की सतह काफी कठोर है जिसके कारण इस यान को इस पर उतारा नहीं जा सकता है। मिशन को असफल होता देख वैज्ञानिकों ने इस क्षुद्रग्रह की सतह का दुबारा निरीक्षण किया जिसमें उन्होंने अनुमान लगाया कि इसकी सतह बहुत कठोर है जो बजरी से बनी है। इसके बाद वैज्ञानिकों ने अपनी प्रयोगशाला में इतने ही बड़े आकार का क्षुद्रग्रह बनाया और उसमें दुबारा परीक्षण किया।

अंतरिक्ष संगठन द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, एक प्रोजेक्टर ने भौतिक नमूनों को जारी करने और इकट्ठा करने के लिए समान धातु की गोलियों को क्षुद्रग्रह की सतह पर इंजेक्ट किया। जमीनी परीक्षण में, यहां तक ​​कि बड़ी चट्टानों को धातु की गोली से कुचल दिया गया था। 

एक समान प्रोजेक्टर जिसका उपयोग Ryugu में बुलेट को शूट करने के लिए किया जाएगा। JAXA

“आज सुबह, टचडाउन ऑपरेशन शुरू हुआ! आज, हम अंतरिक्ष यान के उतरने की तैयारी कर रहे हैं, जो एक ऑपरेशन है जिसमें कुछ ही लोग शामिल हैं। JAXA ने ये जानकारी ट्वीट करके दी।

हायाबुसा2 मिशन को आप जापान के समय के मुताबिक 8 बजे सुबह यहां देख सकते हैं।

– पृथ्वी के लिए बहुत घातक हो सकते हैं उल्कापिंड, वैज्ञानिकों के लिए आज भी रहस्य हैं..

Tags

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

Related Articles

Back to top button
Close