Electrons In Hindi – इलेक्ट्रॉन क्या होते हैं?

Electrons In Hindi –  एक अणु के तीन घटक होते हैं जो कि इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन के नाम से जाने जाते हैं। यह तीन Particles के द्वारा ही एक अणु (Atom) का निर्माण होता है, उसके बाद अणु के द्वारा ही हर प्रकार के तत्व का निर्माण होता हैं।

इन तीनो पार्टिकल्स में इलेक्ट्रॉन एक नेगेटिव चार्ज पार्टिकल होता है जिसका द्रव्यमान (Mass) सबसे कम होता। परमाणु के अंदर जहां उसके नाभिक केंद्र (Nucleus)  में प्रोटॉन और न्यूट्रॉन साथ में रहते हैं तो Electrons अपने Nucleus की परिक्रमा करता है। परमाणु में इलेक्ट्रॉनों की संख्या प्रोटॉन की संख्या के समान है एक इलेक्ट्रॉन e- द्वारा चिह्नित है इलेक्ट्रॉन तीन परमाणु कणों का सबसे छोटा कण है

एक इलेक्ट्रॉन का द्रव्यमान काफी कम होता है, यह एक अणु और प्रोटोन और न्यूट्रॅान से भी काफी कम होता है। इलेक्ट्रॉन का शेष द्रव्यमान 9.10938356 × 10 -31 किग्रा है , जो कि प्रोटॉन के केवल 1 / 1,836  के बराबर है। इसलिए एक इलेक्ट्रॉन को प्रोटॉन या न्यूट्रॉन की तुलना में लगभग बेकार माना जाता है, और इलेक्ट्रॉन द्रव्यमान को परमाणु के द्रव्यमान की  गणना में शामिल नहीं किया जाता है।

इलेक्ट्रॉन को1897 में अंग्रेजी भौतिक विज्ञानी जे जे थॅामसन द्वारा कैथोड किरणों की जांच के दौरान  खोजा गया था। उनकी इस खोज नें परमाणु विज्ञान की दिशा बदल दी थी। 

यह भी जानें – Atom Facts In Hindi ; अणुओं के बारे में 14 रोचक तथ्य

इलेक्ट्रॉन बहुत ही छोटे कण होते हैं और यह किसी भी परमाणु में उतनी ही संख्या में होते हैं जितनी संख्या में उस परमाणु में पॉजिटिव चार्ज पार्टिकल्स होते हैं. ये अपने Nucleus की परिक्रमा करते हैं. परिक्रमा के दौरान इनकी स्पीड बहुत तेज होती है. 

ये गति इतनी तेज होती है की कोई भी किसी भी एक समय पर इलेक्ट्रान की सही जगह नहीं बता सकता है. इन्हीं कणों के द्वारा ही विद्युत उत्पन्न होता है। करंट का पैदा होना इन्हीं कणों की गति और चाल पर निर्भर करता है।

परमाणु की स्थिरता और अस्थिरता का भी ज्ञान हम इलेक्ट्रॉन के कणों के द्वारा लगा सकते हैं। ये कण जो नाभिक केंद्र की परिक्रमा करते हैं यह ऑर्बिटल्स में बटे होते हैं। हर परमाणु का अपना एक अणु नंबर(Atomic Number)  होता है जिसके अनुसार उसमें हम इलेक्ट्रॉन के कणों की गिनती करके उसकी स्थिरता( Stability)  की जाँच कर सकते हैं।  ये कण आयनिक( Ionic)  क्रिया में भाग लेता है जो कि रासायनिक बांड (Chemical Bond)  बना सकते हैं जहां एक परमाणु से एक इलेक्ट्रॉन दूसरे परमाणु को स्थानांतरित किया जाता है।

Electron

इलेक्ट्रॉनों में कणों और तरंगों के गुण होते हैं: वे अन्य कणों के साथ टकरा सकते हैं और प्रकाश की तरह फैल सकता है इलेक्ट्रॉनों के आकार बादलों के समान हैं जो एक परमाणु के नाभिक के चारों ओर होते हैं। एक इलेक्ट्रॉन एक निश्चित मात्रा में ऊर्जा रखता है। जो कि इसके विपरीत विरोध वाले नाभिक से इसकी दूरी बनाए रखती है। इस ऊर्जा के साथ, इलेक्ट्रॉन नाभिक में नहीं गिरता हैं।

इलेक्ट्रान की निम्न विशेषता होती है:—

  •  इलेक्ट्रान प्रत्येक परमाणु का एक अनिवार्य घटक है ।
     इस पर ऋणावेश होता है।
     इसका विराम द्रव्यमान 9,1×10“10होता है।
     इलेक्ट्रान परमाणु के नाभिक के चारो और अपनी निष्चित कक्षाओ में चक्कर लगाते रहते है।
     इलेक्ट्रान को e या _e° से प्रदर्शित करते है।

वैसे तो इस कण के बारे में आप किताबों और इ-बुक्स के जरिए जान सकते हैं। यदि आप विज्ञान की कुछ डिजिटल किताबें अपने फोन में पढ़ना चाहते हैं तो यहां क्लिक करें।

Tagged with:

Leave a Reply

Your email address will not be published.