Mystery

पाताल भुवनेश्वर गुफा जिसमें छिपा है दुनिया के अंत का विचित्र रहस्य

पाताल भुवनेश्वर गुफा –  यह तो इस ब्रह्मांण का नियम है कि जो भी जन्म लेता है उसका मरण भी निश्चित ही होता है। भगवान श्रीकृष्ण श्रीमदभगवत गीता में स्वंय ही इस रहस्य को अर्जुन को बताते हैं और कहते हैं कि यह अखिल ब्रह्मांण जो दिखाई दे रहा है वह एक दिन नहीं रहेगा क्योंरि इस संसार में हर किसी की मृत्यु होनी निश्चित है।

इस कारण समय-समय पर दुनिया खत्म होने की भविष्यवाणियां भी आती रहती हैं मगर अभी दुनिया खत्म होने में काफी वक्त है। भारत की कुछ गुफाएं और मंदिर ऐसे हैं जहां कलयुग के अंत का रहस्य छुपा हुआ है। उन्हीं में से एक है पाताल भुवनेश्वर गुफा।

पाताल भुवनेश्वर गुफा का राज 

स्कंद पुराण में उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में गंगोलीहाट कस्बे में स्थित इस पाताल भुवनेश्वर गुफा के विषय में कहा गया है कि इसमें भगवान शिव का निवास है। सभी देवी-देवता इस गुफा में आकर भगवान शिव की पूजा करते हैं।

पाताल भुवनेश्वर गुफा

यह गुफा पहाड़ी के करीब 90 फीट अंदर है। यह उत्तराखंड के कुमाऊं में अल्मोड़ा से शेराघाट होते हुए 160 किमी. की दूरी तय करके पहाड़ी के बीच बसे गंगोलीहाट कस्बे में है। पाताल भुवनेश्वर गुफा किसी आश्चर्य से कम नहीं है।

कैसे दिखती है पाताल भुवनेश्वर गुफा

गुफा के संकरे रास्ते से जमीन के अंदर आठ से दस फीट अंदर जाने पर गुफा की दीवारों पर शेषनाग सहित विभिन्न देवी-देवताओं की आकृति नज़र आती है। गुफा की शुरुआत में शेषनाग के फनों की तरह उभरी संरचना पत्थरों पर नज़र आती है। मान्यता है कि धरती इसी पर टिकी है।.

कैसे दिखती है गुफा

गुफा में 4 खंभा 

इस गुफा में चार खंभा है जो चार युगों अर्थात सतयुग, त्रेतायुग, द्वापरयुग तथा कलियुग को दर्शाते हैं। इनमें पहले तीन आकारों में कोई परिवर्तन नही होता। जबकि कलियुग का खंभा लम्बाई में अधिक है और इसके ऊपर छत से एक पिंड नीचे लटक रहा है।

क्या कहते हैं पुजारी 

यहां के पुजारी का कहना है कि 7 करोड़ वर्षों में यह पिंड 1 ईंच बढ़ता है। मान्यता है कि जिस दिन यह पिंड कलियुग के खंभे से मिल जाएगा उस दिन कलियुग समाप्त होगा और महाप्रलय आ जाएगा।

पौराणिक महत्व

इस गुफा को त्रेता युग में राजा ऋतुपर्ण ने सबसे पहले देखा। द्वापर युग में पाण्डवों ने यहां चौपड़ खेला और कलयुग में जगदगुरु शकराचार्य का 822 ई के आसपास इस गुफा से साक्षात्कार हुआ तो उन्होंने यहां तांबे का एक शिवलिंग स्थापित किया।

इसके बाद चन्द राजाओं ने इस गुफा के विषय मे जाना और आज यहाँ देश विदेश से सैलानी आते हैं एवं गुफा के स्थपत्य को देख दांतो तले उंगली दबाने को मजबूर हो जाते हैं।

हवन कुंड

आगे बढने पर एक छोटा सा हवन कुंड दिखाई देता है। कहा जाता है कि राजा परीक्षित को मिले श्राप से मुक्ति दिलाने के लिए उनके पुत्र जन्मेजय ने इसी कुण्ड में सभी नागों को जला डाला परंतु तक्षक नाम का एक नाग बच निकला जिसने बदला लेते हुए परीक्षित को मौत के घाट उतार दिया। हवन कुण्ड के ऊपर इसी तक्षक नाग की आकृति बनी है।

महसूस होता है कि हम किसी की हडिडयों पर चल रहे

थोड़ा सा आगे चलते ही महसूस होता है कि जैसे हम किसी की हडिडयों पर चल रहे हों। वहीं सामने की दीवार पर काल भैरव की जीभ की आकृति दिखाई देती है।

थोड़ा और आगे मुड़ी गरदन वाला गरुड़ एक कुण्ड के ऊपर बैठा दिखई देता है। माना जाता है कि भगवान शिव ने इस कुण्ड को अपने नागों के पानी पीने के लिये बनाया था। इसकी देखरेख एक गरुड़ के हाथ में थी। मगर जब गरुड़ ने ही इस कुण्ड से पानी पीने की कोशिश की तो शिवजी ने गुस्से में उसकी गरदन मोड़ दी।

महसूस होता है कि हम किसी की हडिडयों पर चल रहे

जलकुण्ड

इसके थोड़ा आगे ऊंची दीवार पर जटानुमा सफेद संरचना है। इस जगह पर एक जलकुण्ड है, जिसके पीछे मान्यता है कि पाण्डवों के प्रवास के दौरान विश्वकर्मा ने उनके लिये यह कुण्ड बनवाया था। यहाँ पांडवों ने तपस्या की थी। मगर आगे दो खुले दरवाजों के अन्दर संकरा रास्ता जाता है। इसके लिए कहा जाता है कि ये द्वार धर्म द्वार और मोक्ष द्वार है।

जलकुण्ड - पाताल भुवनेश्वर गुफा

यहां पर आदिगुरु शंकराचार्य द्वारा स्थापित का तांबे का शिवलिंग भी आता है, माना जाता है कि गुफा के आंखिरी छोर पर पाण्डवों ने शिवजी के साथ चौपड़ खेला था। लौटते हुए एक स्थान पर चारों युगों के प्रतीक चार पत्थर हैं। इनमें से एक धीरे धीरे ऊपर उठ रहा है। माना जाता है कि यह कलयुग है और जब यह दीवार से टकरा जायेगा तो प्रलय हो जायेगा।

निष्कर्ष

दोस्तों हमारे सनातन धर्म में आज भी ऐसे कई रहस्य हैं जिनके बारे में कोई भी वैज्ञानिक और विद्वान जान नहीं सका है। सनातन धर्म में कई तरह की परंपरायें और विधि हैं जिनके विज्ञान के यदि हम जान लें तो बहुत कुछ सीख सकते हैं। पाताल भुवनेश्वर गुफा भी इसी का एक उदाहरण है, आज तक कोई भी नहीं जान सका है कि आखिर इस गुफा का रहस्य क्या है। हम भी उम्मीद करते हैं कि निकट भविष्य में लोग इसके रहस्यो को शायद जान सकें। 

विज्ञान आज भी बहुत पीछे है, हिन्दू धर्म के आप और भी रहस्यों को जानना चाहते हैं तो इस लिंक पर जरुर जायें, हम आपके लिए हिन्दू धर्म के ऐसे ही रहस्य लाते रहेंगे।.

यदि आप हिन्दु धर्म के प्राचीन ग्रंथो को पढ़ना चाहते हैं जैसे की वेद, पुराण और भी अन्य दिव्य ग्रंथ और महापुरुषों की रचनाओं को तो आप इस लिंक पर जरुर जायें। यह आपके लिए विज्ञानम् की भेंट है। 

साभार – विभिन्न हिन्दी स्रोत

Tags

Pallavi Sharma

पल्लवी शर्मा एक छोटी लेखक हैं जो अंतरिक्ष विज्ञान, सनातन संस्कृति, धर्म, भारत और भी हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतीं हैं। इन्हें अंतरिक्ष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।

Related Articles

One Comment

  1. सत्य,द्वापर,त्रेता,और कलि जग की सम्पूर्ण अस्त्र की बिबरन >
    कोण सा अस्त्र कितना किसम की मिस्सन से बना हुआय था,?
    १- कृष्ण की सुदरसन-१६४ पर कर की मिसन से,
    २- ब्राम्य की ब्राम्य अस्त्र- सिर्फ ३ मिसन से,
    ३-महादेव की- त्रिशूल- ४ मिसन से,
    ४- रावण की पुष्पक जान- १२ मिसन से
    ५-,सिव धनु-३ मिसन से,(अस्त्र नारायणी,अगिनि अस्त्र ?
    ६-जगनाथा की- सुदरसन- कितना मिसन से तैयार हो,?
    कलि जग की अस्त्र-
    ा- स्पेस- फाॅर्स सिस्टम, २-नुक्लेयर्स बम- फाॅर्स सिस्टम, ३- सटटलिटे-फाॅर्स सिस्टम,
    को यातन घामड़ हो कलि जग की दुनिया बल्य?
    जागो हुदू जागो- अपनी अस्त्र को सवुकार करो- जो तुम्हारी रखयक-

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close