जानिए URL क्या होता है और ये इंटरनेट पर कैसे काम करता है

आप सभी लोग इंटरनेट से भली – भांति परिचित हैं, हर रोज इंटरनेट का प्रयोग किसी ना किसी वेबसाइट या लिंक को खोलने और इस पर से साम्रगी पढ़ने या डाउनलोड करने के लिए करते हैं।

जब भी हम अपने वेब ब्राउजर पर किसी भी वेबसाइट को खोलते हैं तो सबसे पहले उसका नाम लिखते हैं फिर भी उसके .com या .in या फिर . org लगाते हैं। वेबसाइट का नाम एक पते की तरह ही होता है  इन्टरनेट पर भी URL भी एक तरह का पता(address) ही  होता है जिसकी मदद से हम किसी भी वेबसाइट तक आसानी से पहुच जाते हैं।

URL की फुल फॉर्म होती है Uniform Resource Locator जो किसी वेबसाइट या वेबसाइट के पेज को रिप्रेजेंट करता है या आपको किसी वेबसाइट या वेबसाइट के पेज तक ले जाता है URL चीजो से मिलकर बना होता है…

  1. प्रोटोकॉल |protocol   
  2. डोमेन नाम | Domain name
  3. डोमेन कोड | Domain code

पहला भाग http यानि hypertext transfer protocol होता है जो protocol होते है जिसकी मदद से इटरनेट पर डाटा Transfer  होता है फिर दूसरा भाग होता है,  domain name जो कि किसी निर्धारित वेबसाइट का पता (address) होता है, फिर तीसरा भाग है Domain Code जो यह दर्शाता है कि वेबसाइट किस प्रकार की है जैसे मेरी वेबसाइट का डोमेन कोड है .com  जो किसी commercial website को दर्शाता है और इसी तरह से और भी डोमेन कोड्स होते हैं जैसे

  • .gov –  गवर्नमेंट
  • .org –  आर्गेनाइजेशन
  • .edu – एजुकेशनल
  • .net –नेटवर्क
  • .mil –  मिलिट्री
  • .in –  इंडिया

URL कैसे काम करता है ?


इन्टरनेट पर हर वेबसाइट का एक IP Address होता है जो  numerical होता है जैसे www.google.com का IP एड्रेस  64.233.167.99 हैं तो जैसे ही हम अपने ब्राउज़र में  किसी वेबसाइट का URL टाइप करते हैं तब हमारा browser उस url को DNS की मदद से उस डोमेन के IP address में बदल देता है और उस वेबसाइट तक पहुच जाता है जो हमने सर्च की थी।

शुरुवात में direct IP से ही किसी वेबसाइट को एक्सेस किया जाता था लेकिन यह एक बहुत कठिन तरीका था क्योंकि इतने लम्बे  नबर को तो कोई याद रख पाना बहुत मुश्किल था इसलिये बाद में DNS (domain name system) नाम बनाये गए जिस से हम किसी वेबसाइट का नाम आसानी से याद रखा जा सकता है।

इसकी मदद से आप किसी भी वेबसाइट से आसानी से पहुँच सकते हैं, सोचें अगर किसी भी वेबसाइट को आपको उसके IP Address से खोलना है तो इसको याद करने में ही आपका बहुत समय नष्ट हो जायेगा। वैसे भी हमारा दिमाग बड़े नंबरो की जगह नाम जल्दी याद कर लेता है।

साभार – हिंदिश

You may also like...

1 Response

  1. gulab says:

    i have read some topic of your website material i like it and increase some knowledge

    thanks u so much

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *