तो यह है अबतक का खोजा गया ब्रह्मांड का सबसे बड़ा तारा, पृथ्वी से है खरबों गुना बड़ा

जब हम बात ब्रह्मांड की करते हैं तो तारों(Stars)  की बात होना बेहद ही जरुरी होता है, वैज्ञानिक तारों को सबसे महत्वपूर्ण मानते हैं। उनके मुताबिक हम सभी लोग और जिस भी ग्रह पर जीवन है वह सब तारों की धूल से ही बने हैं।

हमारा सूर्य भी एक तारा है, जो हमें प्रकाश देता है। यह प्रकाश ही हमारे लिए सौर उर्जा का काम करता है, जिससे इस नीले ग्रह पर जीवन है। हमारी अपनी ही आकाशगंगा में 200 अरब तारे हैं। जिनमें से कई तारों का अपना एक सौर-मंडल है।

तारे वास्तव में स्वयं प्रकाशित खगोलिय पिंड होते हैं जो नाभिकीय संलयन (Nuclear Fusion) क्रिया के द्वारा उत्पन्न उर्जा से प्रकाशित होते हैं। तारों में वास्तव में बहुत उर्जा होती है इसलिए उनसे उत्पन्न प्रकाश कई ग्रहों और पिंडो को सौर उर्जा देने में सहायक होते हैं जिससे वहां पर जीवन पनपता है।

आज हम आपको अबतक के खोजे गये ब्रह्मांड के सबसे बड़े तारे के बारे में बतायेंगे जो आपको सचमुच हैरान कर देगा कि क्या वास्तव में कोई इतना विशाल तारा हो सकता है। वैसे तो इस अनंत ब्रह्मांड के तारों की कोई सीमा नहीं है पर क्या पता आगे वैज्ञानिकों को इससे ज्यादा विशाल तारा देखने को मिल जाये।

जिस तारे के बारे में हम बताने जा रहे हैं वह हमारे सूर्य से भी लाखों गुना बड़ा है, इसके आकार के बारे में हम आपको इस वीडियो के माध्यम से बतायेंगे जिसमें सभी तारों के साइज की तुलना की गई है।

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य
योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *