Universe

39 सालों के बाद Jupiter ग्रह पर भयानक बिजली के बनने का रहस्य सुलझा

The Mystery Of Jupiter’s Lightning – Jupiter (बृहस्पति)  हमारे सौर – मंडल का सबसे विशाल ग्रह है। ये ग्रह गैस से बना है जिसमें कई तरह के बादल हैं और इसके वातावरण में हजारों तुफान दिन-रात चलते ही रहते हैं इस ग्रह पर जेट धाराएं, और विशाल तूफान हैं, इसलिए यह आश्चर्य की बात नहीं है कि इसमें बिजली भी है।

पर जब 1979 में Voyager 1 यान नें बृहस्पति ग्रह का चक्कर लगाया था तो उसने एक असाधारण खोज की। बृहस्पति पर वातावरण को वैज्ञानिक जोवियन कहते हैं, जोवियन लाइटनिंग रेडियो तरंगों को उत्सर्जित करता है जो पृथ्वी के समकक्ष नहीं है, इसके विशाल आकार और वजन के आगे पृथ्वी बहुत छोटी लगती है।  Voyager 1 यान की इस आसाधारण खोज को अब जूनो यान ने सुलझा लिया है और इसकी पूरी जानकारी नेचर पत्रिका में दी गई है।

जूपिटर पर होने वाले बिजली के तुफान का एक साकेंतिक चित्र, NASA/JPL-Caltech/SwRI/JunoCam

जूनो के उपकरणों के अविश्वसनीय सूट के लिए धन्यवाद, यह स्पष्ट हो गया कि इस ग्रह पर  कुछ अजीब नहीं चल रहा था। हमारे पास पिछले अवलोकन काफी सीमित थे जिससे सटीक जानकारी नहीं मिल पा रही थी। पर अब वैज्ञानिकों ने  पहले आठ फ्लाईबीज़ से डेटा का उपयोग करते हुए, Jupiter पर होने वाले 377 बिजली के डिस्चार्ज के रिकार्ड दोनों मेगाहर्ट्ज और गीगाहर्ट्ज रेंजों में रेडियो तरंगों के आधार पर लिए हैं। 

नासा के जेट प्रोपल्सन लेबोरेटरी के मुख्य लेखक शैनन ब्राउन ने एक बयान  में कहा, “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस ग्रह पर हैं, बिजली के चमकते झटके रेडियो ट्रांसमीटरों की तरह काम करते हैं – जब वे आकाश में चमकते हैं तो रेडियो तरंगों को भेजते हैं।” “लेकिन जूनो तक, अंतरिक्ष यान [Voyagers 1 और 2, गैलीलियो, कैसिनी] द्वारा रिकॉर्ड किए गए सभी बिजली संकेतों को केवल किलोहर्ट्ज में ही नापा गया था। कई सिद्धांत इसे समझाए जाने के लिए पेश किए गए थे, लेकिन कोई भी सिद्धांत कभी जवाब के रूप में सही नहीं बैठा। “

लेकिन ये सभी चीजें हमारे ग्रह और विशाल जूपिटर ग्रह के बीच समान नहीं हैं। बृहस्पति पर बिजली का वितरण पृथ्वी पर जो कुछ देखा गया उससे अलग था, जिससे शोधकर्ता आश्चर्यचकित रह गये कि जोवियन वायुमंडल में ऐसा होने के लिए क्या हो रहा है।

ब्राउन ने कहा, “बृहस्पति पर बिजली का वितरण पृथ्वी की तरह नहीं है ये बहुत अलग है। “ “बृहस्पति के ध्रुवों के पास बहुत सी गतिविधियां होती हैं लेकिन भूमध्य रेखा के पास ऐसा कुछ नहीं होता है।”

पृथ्वी को बहुत सारी उर्जा सूर्य से ही मिलती है जिस कारण यहाँ के वातावरण में बिजली और तुफान एक उचित दायरे में रहते हैं पर जूपिटर के लिए ये ऐसा नहीं है, जूपिटर पर सूर्य की उर्जा नाम मात्र के बराबर ही मिलती है, ये ग्रह हमारे सूर्य के धरती की तुलना में पांच गुना ज्यादा दूर है।

जूपिटर का अंतर भाग बहुत गर्म है पर भूमध्य रेखा पर जो जो बादल मंडराते हैं वे सूर्य की उर्जी के कारण और गर्म हो जाते हैं जिस कारण भयानक बिजली के तांडव इस ग्रह पर देखने को मिलते हैं।

ये भी जानें – Facts About Jupiter In Hindi : बृहस्पति ग्रह के बेहद अद्भुत तथ्य

Tags

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

Related Articles

Close