Mystery

आत्महत्या के बाद किस दुनिया में जाते हैं लोग?

Suicide Mystery In Hindi –  हर धर्म में आत्महत्या को महापाप बताया गया है। एक व्यक्ति आत्महत्या जभी करता है जब वह हर प्रकार से निराश हो जाता है और उसे अपनी परेशानी जिंदगी से भी ज्यादा बड़ी लगने लगती है। आत्महत्या करने वाले ज्यादातर व्यक्ति अपने वर्तमान जीवन की हर समस्याओं हार मान चुके होते हैं उनके पास जीने का कोई कारण नहीं बचता और अपनी हर समस्या का समाधान उन्हें अपने जीवन का अंत करने में ही दिखाई पड़ता है।

लेकिन सोचिए, तब क्या हो जब आत्महत्या करने के बाद भी ऐसी दुनिया में जाना हों जहां सिवाय दुख, निराशा और हताशा के सिवा कुछ नहीं है. जहां परेशानियों का कोई अंत नहीं है।

जी हाँ ये अनिवार्य है और ऐसा होकर रहता है | विस्तार में जाने से पहले हम आपको एक सत्य से परिचय करते है | इस संसार में (जिसमे हम रहते है) समस्त प्रकार के सुखों का प्रधान अवलम्बन (सहारा) भगवान् सूर्य ही हैं इस वजह से सूर्य को चर-अचर समस्त जगत की आत्मा के रूप में स्वीकार किया जाता है | वैदिक ग्रंथों में आत्मघाती मनुष्यों के बारे में क्या कहा गया है उसे पढ़िए :-

असूर्या नाम ते लोका अन्धेन तमसावृता |
तास्ते प्रेत्याभिगच्छन्ति ये के चात्महनो जनाः ||

अर्थात “आत्मघाती मनुष्य मृत्यु के बाद अज्ञान और अंधकार से परिपूर्ण, सूर्य के प्रकाश से हीन, असूर्य नामक लोक को गमन करते हैं” | सर्वसामान्य लोग इससे अंदाजा लगा सकते है की जिन समस्याओं को लेकर कोई मनुष्य आत्महत्या करता है उन समस्याओं का हल कभी-न-कभी इस संसार में तो मिल सकता है नहीं तो स्वाभाविक मौत के बाद वो उससे छुटकारा पा ही जायेगा।

Source – healthxchange

लेकिन आत्महत्या के बाद तो ऐसी ही अंतहीन समस्याओं का सामना हमेशा करना पड़ेगा क्योकि वो एक नया जीवन होगा-ऐसी ही समस्याओं से भरा अंतहीन जीवन ! इसलिए जिंदगी में सब कुछ करने की सोचियेगा लेकिन आत्महत्या करने की कभी मत सोचियेगा |

साभार – रहस्यमय

यह भी पढ़े – विज्ञान के अनुसार शरीर के इस हिस्से में रहती है आत्मा (Aatma)

Tags

Pallavi Sharma

पल्लवी शर्मा एक छोटी लेखक हैं जो अंतरिक्ष विज्ञान, सनातन संस्कृति, धर्म, भारत और भी हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतीं हैं। इन्हें अंतरिक्ष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close