Mystery

भारत के नॉर्थ सेंटिनल आइलैंड पर रहती है विश्व की सबसे खूंखार जनजाति, मार डालती हैं लोगों को

मनुष्य ने आज बहुत तरक्की की है और दिन-प्रतिदिन वह तरक्की की नई राह की ओर जा रहा है। दूसरी तरफ आज भी हमारी दुनिया में ऐसे जातिंया या कहें लोगों के समुह रहते हैं जो मुख्य धारा से बहुत ही ज्यादा कटे हुए हैं। इनमे से लगभग सभी समुदायों तक आधुनिक दुनिया की पहुँच हो चुकी है और वो भी बाकी दुनिया के लोगों से घुल मिल चुके है।

लेकिन अभी भी कुछ गिनी चुनी ऐसी आदिम जनजातियां है जिन्हें अपने जीवन में बाहरी दुनिया का हस्तक्षेप पसंद नहीं है। ऐसी ही एक जनजाति है ‘लॉस्ट ट्राइब’, इसने आज तक किसी भी बाहरी शख्स को अपनी जमीन पर कदम नहीं रखने दिया है। इसलिए आज तक इनकी कोई ढंग की फोटो उपलब्ध नहीं हुई है।

यह फोटो उस वक़्त का है जब 2004 की सुनामी के बाद भारतीय कॉस्ट गॉर्ड का हेलीकॉप्टर यहाँ पहुंचा तो उस पर तीर बरसाए गए।

यह जनजाति हिन्द महासागर के एक छोटे से आइलैंड ‘नॉर्थ सेंटिनल’ पर रहती है। यह आइलैंड भारत के जलीय क्षेत्र में स्तिथ है। आकाश से यह एक सामान्य-सा आइलैंड जैसा ही दिखता है, लेकिन असल में यह एक खतरनाक आइलैंड है।

नॉर्थ सेंटिनल नाम के इस आइलैंड पर बेहद रहस्यमई जनजाति रहती हैं। इन लोगों ने आधुनिक सभ्यता को पूरी तरह रिजेक्ट कर दिया है और दुनिया से इनका संपर्क जीरो है। कहा जाता है कि ये जब भी दुनिया के किसी शख्स से मिलते हैं तो हिंसा के साथ ही। आसपास में नीचे उड़ते हवाई जहाजों का ये पत्थरों से स्वागत करते हैं।

इतना ही नहीं टूरिस्ट के अलावा मछुआरों के लिए भी यह आइलैंड बेहद खतरनाक है। 2006 में यहां के जनजातियों ने कई मछुआरों को मार डाला था। इससे पहले भी कई बार ये हिंसा कर चुके हैं। हालांकि, ये जनजाति करीब 60,000 सालों से रह रही हैं। इन लोगों को Lost Tribe भी कहा जाता है।

कुछ रिपोर्टों में इसे दुनिया की सबसे अलग-थलग रहने वाली जनजाति करार दिया गया है। बंगाल की खाड़ी के पास स्थित इस आइलैंड के लोगों की जिंदगी में भारत सरकार भी हस्तक्षेप नहीं करना चाहती।

Tags

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close