यें हैं विज्ञान के ऐसे 10 झूठ, जो सदियों से लोग समझते थे सच

Browse By

विज्ञान ने मानव सभ्यता को बहुत कुछ दिया है और आगे भी देता रहेगा, विज्ञान सिंद्धातों पर काम करता है और एक सटीकता से ही किसी भी चीज के बारे में बताता है। विज्ञान समय-समय पर Myths को तोड़कर उसे चुनौती देता रहता है और हम सबका अन्धविश्वास भी दूर करता है।

आज हम आपको कुछ ऐसे ही मिथ्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें कई सालों से लोग सच मानते हैं। इन मिथ्स ने लोगों को विज्ञान से बहुत दूर कर रखा है यह हमारे मन में ऐसे पैठ कर चुकें हैं कि हम इन्हें सच ही मानते हैं और इन पर कभी गौर भी नहीं करते हैं। 

1. क्रमिक विकास प्रकिया (Evolutionary Improvements) के साथ सब चीज़ें छोटी से बड़ी होती गई

हम सभी का विकास एक लम्बी क्रमिक विकास प्रक्रिया की देन है और इसका हिस्सा केवल वही बन पाए जिन्होंने अपने आपको एक स्वस्थ ‘जीन’ के रूप में विकसित किया।  पर विज्ञान इस बात को चुनौती देते हुए कहता है कि लाखों साल पहले जब विकास की प्रक्रिया शुरू हो रही थी तब भी Fungi, शार्क और जेली फ़िश उसी रूप में थे जिस रूप में आज हैं. अर्थात क्रमिक विकास के दौरान सिर्फ़ वही ‘जीन’ विकसित नहीं हुए जो ताकतवर थे बल्कि वे जीन भी विकसित हुए जिन्होंने खुद को इस विकास के अनुरूप खुद को ढाल लिया।

2. Myth- अंतरिक्ष के निर्वात में इंसान फट सकता है

फिल्मों की शुरुआत में एक डिस्केलमर आता है कि इसका वास्तविक जीवन से कोई संबंध नहीं है पर फ़िर भी लोगों ने यह भ्रांति फ़ैला दी है कि अंतरिक्ष में इंसान गुब्बारे की तरह फट सकता है. पर असल में ऐसा कुछ नहीं है।

3.  ध्रुव तारा सबसे ज़्यादा चमकने वाला तारा है और वह हमेशा ही उत्तर दिशा की तरफ़ होता है.

ध्रुव तारा काफ़ी चमकदार है इसमें कोई शक नहीं है पर ये एक Myth है कि वह सबसे चमकदार है. Sirius नाम का तारा ध्रुव तारे से भी ज़्यादा चमकदार है. पर अपने स्थान की वजह से ध्रुव तारे को सबसे ज़्यादा चमकदार माना जाता है

4.ज़मीन पर खाने का कुछ गिर जाये और उसे 5 सेकंड से पहले उठा लिया जाये तो उस पर germs नहीं लगते.

अगर ज़मीन पर Germs हैं तो किसी चीज़ के गिरते ही उस पर चिपक जायेंगे. 5 सेकंड का wait वे कभी नहीं करंगे, मिथ बनाने वाले की तब कोई प्रिय वस्तु शायद जमीन पर गिर गई होगी।  

5. चन्द्रमा का एक हिस्सा काला है

हम सब जानते हैं कि चन्द्रमा को सूरज से रौशनी मिलती है, पर धरती और चांद के घूमने के कारण चांद का हिस्सा हमेशा छिपा रहता है, जिसकी वजह से ये Myth बन गया है कि वह एक तरफ़ से काला है।

6. अगर किसी बहुत ऊंची इमारत से सिक्का फेंका जाये तो वह किसी की जान लेने के लिए काफ़ी है

ये Myth भी फिल्मों की ही देन है, जिसके पीछे ये लॉजिक है कि ऊपर से गिरता हुआ सिक्का इतनी तेज़ी से गिरता है कि आदमी को मार सकता है पर ऐसा कुछ नहीं है.

7. उल्का पिंड धरती के वातावरण में घुसने के दौरान friction के कारण जलता है।

Source: youtube

वास्तविकता यह है कि उल्का पिंड बहुत ठन्डे होते हैं पर धरती की कक्षा में पहुंचने पर अपनी स्पीड और धरती की हवा से इतना गर्म हो जाता है कि जल उठता।

8. – बिजली जहां एक बार गिरती है वहां दुबारा नहीं गिरती

बिजली के बारे में यह Myth बहुत चौंकाने वाला है क्योंकि Empire State Building पर साल में लगभग 25 बार बिजली गिरती है। इसका अनुमान आप खुद ही बादलों की चाल देखकर लगा सकते हैं। 

9.  अंतरिक्ष में कोई गुरुत्वाकर्षण नहीं होता

ऐसा माना जाता है कि अंतरिक्ष में कोई गुरुत्वाकर्षण नहीं है पर इस बात को वैज्ञानिक भी प्रमाणित कर चुके हैं कि गुरुत्वाकर्षण बल के कारण ही सभी ग्रह एक दूसरे से समान दूरी बनाए हुए हैं।

10. ब्रेन सेल कभी दुबारा नहीं बनती

यह Myth कई साल पहले तक एक विश्वास बना हुआ था पर 1998 में Sweden Salk University, कैलिफ़ोर्निया के वैज्ञानिकों ने यह सिद्ध करके दिखाया कि ब्रेन सेल भी regenerate हो सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *