Religious

उत्तर दिशा में सिर रख कर क्यों नहीं सोना चाहिए, जानिए इसका वैज्ञानिक कारण

अक्सर हमारे घरों पर बड़े-बुजर्ग हमें टोकते हैं कि हमें उत्तर दिशा में सिर रख कर नहीं सोना चाहिए, इससे शरीर पर दुष्प्रभाव पड़ता है।  क्या है इसका विज्ञान? हर व्यक्ति अलग-अलग तरह से सोता है. सोने के समय और दिशाओं को लेकर भी तमाम भ्रांतियां हैं. अकसर लोग कहते हैं कि उत्तर दिशा में सिर रख कर नहीं सोना चाहिए. सबसे ज़्यादा तो हम सभी की मां मना करती थीं कि उत्तर दिशा में मत सो. लेकिन क्या आप जानना नहीं चाहेंगे इसके पीछे के रहस्य को?

उत्तर दिशा में सिर रखकर न सोने के पीछे भी एक प्रचलित मान्यता है कि जब कोई इंसान मर जाता है, तो उसके शव को उत्तर दिशा की ओर सिर के साथ रखा जाता है. इसके अलावे कहा तो ये भी जाता है कि दक्षिण की ओर पांव केवल मृत व्यक्ति के ही किये जाते हैं. मरते समय उत्तर की ओर सिर करके उतारने की रीति इसी नियम पर है, भूमि बिजली को शीघ्र खींच लेती है और प्राण सुगमता से निकल जाते है।
लेकिन बात सिर्फ़ इतनी नहीं है. इसके कई वैज्ञानिक कारण भी हैं. अगर आप विज्ञान की थोड़ी सी भी जानकारी रखते हैं, तो आपको पता होना चाहिए वातावरण में भी चुम्बकीय शक्ति होती है, ये शक्ति दक्षिण से उत्तर दिशा की ओर बहती रहती है. जब हम दक्षिण दिशा की ओर सिर करके सोते हैं, तो यह ऊर्जा हमारे सिर से प्रवेश करती है और पैरों के रास्ते बाहर निकल जाती है. इस क्रिया से भोजन आसानी से पच जाता है. कई शोधों से पता चला है कि साधारण चुंबक शरीर से बांधने पर वह हमारे शरीर के ऊत्तकों पर विपरीत प्रभाव डालता है।

इसी सिद्धांत पर यह निष्कर्ष भी निकाला गया कि अगर साधारण चुंबक हमारे शरीर पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है, तो उत्तरी पोल पर प्राकृतिक चुम्बक भी हमारे मन, मस्तिष्क व संपूर्ण शरीर पर विपरीत असर डाल सकता है और डालता भी है. यही वजह है कि उत्तर दिशा की ओर सिर रखकर सोना निषेध माना गया है।

दरअसल, हमारे सिर में धनात्मक ऊर्जा का प्रवाह है, जबकि पैरों से ऋणात्मक ऊर्जा का निकास होता रहता है. यदि हम अपने सिर को उत्तर दिशा की ओर रखेंगे, तो उत्तर की धनात्मक और सिर की धनात्मक तरंग एक दूसरे से विपरित भागेगी, जिससे हमारे मस्तिष्क में बेचैनी बढ़ जाएगी और फिर नींद अच्छे से नहीं आएगी. लेकिन जैसे-तैसे जब हम बहुत देर जागने के बाद सो जाते हैं तो सुबह उठने के बाद भी लगता है कि अभी थोड़ा और सो लें।

हालांकि, हिंदू शास्त्रों और वास्तुविदों के अनुसार भी उत्तर दिशा में सोना अनुचित माना गया है. तो दोस्तों, कम से कम अब से तो उत्तर दिशा में सोना छोड़ दो और हां, इस पोस्ट को शेयर करके अपने दोस्तों को भी बताओ।

साभार – गजबपोस्ट

Tags

Team Vigyanam

Vigyanam Team - विज्ञानम् टीम

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close