Browse By

Category Archives: Religious

क्या कामधेनु गाय होती थी? जानें हिन्दू धर्म का ऐसा रहस्य जिसे लेकर वैज्ञानिक भी है हैरान

गाय को हिन्दू धर्म में सबसे पुजनीय माना जाता है। गाय हमें सब कुछ देती है, दूध, स्वास्थ, धन और धान्य सभी कुछ हमें गाय प्रदान करती है। इसी कारण गाय को हिन्दू परंपरा में माता माना जाता है। आइये अब नजर डालते हैं कामधेनु

ऐसे संकेत जो साबित करते हैं कि हनुमान जी आज भी हैं जीवित

हनुमान हिंदुओं के पुजनीय देव हैं जिनके बारे में कहा जाता है कि वे आज भी सशरीर धरती पर भ्रमण करते हैं। भगवान राम के परम भक्त हनुमान जी को कौन नहीं जानता है, उनकी महिमा अपंरपार है। आपने अक्सर देखा होगा कि जब किसी

जानें, आरती कैसे, कितनी बार और क्यों घुमानी चाहिए ?

आरती करना हिन्दू परंपरा की बहुत प्राचीन पद्धति है, जिसे हर कोई पूजा करने के बाद करता है। आरती अंधकार में बैठे भगवान की प्रतिमा को भक्तों को दिखाने मात्र को नहीं की जाती. क्योंकि झाड़, फानूस और बिजली के प्रखर प्रकाश की विद्यमानता में भी

अद्भुत रहस्य ,भगवान शिव के माता पिता कौन हैं !

भारतीय पुराणों में भगवान शिव को जन्मदाता कहा जाता है, इस धरा का आरंभ खुद भगवान शिव को माना जाता है। त्रिदेवों में भगवान शिव की बड़ी महिमा हैं। भगवान शिव महादेव हैं और सभी देवताओं में श्रेष्ठ हैं। त्रिदेवों में से एक देव हैं

आखिर क्या है मक्का में पत्थर मारने का रहस्य, देखें यह वीडियो

मुस्लिमों के लिए मक्का बहुत पवित्र स्थान है। हज यात्रा इस्लाम धर्म के पाँच स्तंभो में से एक है। इस्लाम के अनुसार हर आदमी चाहें वो औरत हो या मर्द जीवन में एक बार में हज यात्रा जरूर करे। हज यात्रा केवल वही कर सकता

आखिर क्यों ये सेक्स वर्कर मणिकर्णिका शमशान घाट पर जलती चिताओं के पास पूरी रात नाचती हैं

हमारा देश कई रहस्यों से भरा हुआ है, हर जगह आपको कोई ना कोई अनोखी बात या रहस्य देखने और सुनने को मिल ही जाता है। हिन्दू धर्म में चिताओं को अग्नि दी जाती है। अग्नि देने का कार्य शमशान घाट पर संपन्न होता है। काशी

इन विचित्र तरीकों से की जाती है आत्माओं से बात

सनातन धर्म में आत्मा को कभी ना खत्म होने वाला बताया गया है, आत्मा वह है जो हर प्राणी के शरीर में वास करती है। गीता के अनुसार आत्मा हम खुद ही हैं जो इस वक्त भिन्न – भिन्न शरीर धारण करके धरती पर वास

अलग-अलग शास्त्रों में लिखें हैं कलियुग से जुड़े ये वचित्र अद्भुत तथ्य

हमारे ग्रंथो में समय को चार युगों में बांटा गया है, इनमें ये चारों युग सतयुग, त्रैतायुग, द्वापरयुग व कलियुग  अपनी-अपनी बातों के लिए प्रसिद्ध हैं। हर युग अलग होता है और उसका काल खंड भी अलग होता है। कलियुग को सबसे छोटा युग माना