Browse By

Category Archives: Religious

ये हैं भारत के 5 सबसे रहस्मयी मंदिर, जिनका राज विज्ञान भी नहीं जानता..

भारत मंदिरों का देश है, यहां हर गली में एक ना एक मंदिर देखने को मिल ही जाता है। मंदिर देवताओं की पूजा करने के लिए बनाये जाते हैं। सनातन परंपरा में इनका निर्माण हजारों सालों से होता आ रहा है। भारत में लाखों मंदिर

गरूड़ पुराण के अनुसार ये चार काम स्त्रियों को कभी नहीं करने चाहिए

स्त्री घर की देवी होती है, शास्त्रों में स्त्री का सम्मान करना बताया गया है। घर-परिवार हो या समाज, हर जगह स्त्रियों की स्थिति सर्वाधिक महत्वपूर्ण होती है। स्त्रियों को उचित मान-सम्मान मिले, इसके लिए गरुड़ पुराण में बताया गया है कि स्त्रियों को किन 4

जानें, आखिर हिन्दू धर्म में एक ही गौत्र में विवाह क्यों नहीं कर सकते

विवाह सनातन धर्म का प्रमुख हिस्सा है, हमारे सनातन धर्म में विवाह को सात जन्मों का रिस्ता माना जाता है। विवाह पद्धति के संबंध में हिन्दुओं में ढेरों प्राचीन परंपराएं मौजूद हैं। इन्हीं में से एक है परंपरा है – अपने गौत्र में विवाह न

जानें, मृतकों की तस्वीर पूजा घर में रखना क्यों माना जाता है अशुभ?

हमारे हिंदू समाज में पूजा को सबसे उत्तम कर्म माना जाता है। यह वह जरिया है जो हमें परमात्मा के करीब पहुँचा देता है। सनातन धर्म में पूजा का विशेष महत्व होता है, हर कोई विभिन्न देवी -देवताओं की पूजा करता है और उनसे मनोकामना

जानें, प्राचीन काल में भारत कितना विशाल था, कहां तक हमारी संस्कृति थी

भारत बहुत प्राचीन देश है। विविधताओं से भरे इस देश में आज बहुत से धर्म, संस्कृतियां और लोग हैं। आज हम जैसा भारत देखते हैं अतीत में भारत ऐसा नहीं था भारत बहुत विशाल देश हुआ करता था। ईरान से इंडोनेशिया तक सारा हिन्दुस्थान ही

हिन्दू महिलाएं पैर में क्‍यों पहनती है बिछिया, जानें इसकी वैज्ञानिकता

हिन्दू धर्म वैज्ञानिक आधार पर बना हुआ धर्म है, यहां हर प्राचीन रिति रिवाज जो ऋषि -मुनियों द्वारा वेदों में कहे गये हैं सभी वैज्ञानिकता की कसौटी पर खरे उतरते हैं और हमें लाभ प्रदान करते हैं। हिन्दू धर्म में एक महत्वपूर्ण रिवाज है महिलाओं

जानें, रुद्राक्ष और तुलसी की माला पहनने के फायदे

रुद्राक्ष, तुलसी जैसी दिव्य औषधियों की माला पहनने के पीछे वैज्ञानिक मान्यता यह है कि होंठ और जीभ का उपयोग कर मंत्र जप करने से गले की धमनियों को सामान्य से ज्यादा काम करना पड़ता है। इसके कारण कंठमाला, गलगंड आदि रोगों के होने की

ये है माथे पर तिलक लगाने का वैज्ञानिक महत्व

शायद भारत के सिवा और कहीं भी मस्तक पर तिलक लगाने की प्रथा प्रचलित नहीं है। यह रिवाज अत्यंत प्राचीन है। माना जाता है कि मनुष्य के मस्तक के मध्य में विष्णु भगवान का निवास होता है, और तिलक ठीक इसी स्थान पर लगाया जाता