Browse By

Category Archives: Religious

चाणक्य के अनुसार जब ऐसी 4 बातें तो तुरंत भाग जाना चाहिए

आचार्य चाणक्य महान विद्वान थे, उनके द्वारा बताई गई नीतियां आज भी हमारे हर काम में मदद देती हैं। यदि हम उनके द्वारा बताई गई नीतियों पर विवेक से चलें तो जीवन में हमारी कई समस्याएं तुरंत ही हल हो जायेंगी। कभी-कभी जीवन में ऐसे

हनुमान जी के इस मंदिर में जाकर अच्छे-अच्छों के सिर से उतर जाता है प्यार का भूत

हमारे देश में लाखो मंदिर हैं और हर मंदिर का अपना – अपना अलग महत्व होता है। एक ऐसा भी अनोखा मंदिर हमारे देश मे हैं जंहा पर अच्छे-अच्छों के सिर से प्यार का भूत उतारा जाता है। ऐसे कई माता-पिता होते हैं, जो अपने

भारत के इन मंदिरों में है पुरुषों के प्रवेश पर पाबन्दी

हमारा देश बारत मंदिरो का देश है, आपको यंहा हर जगह कोई ना कोई मंदिर मिल ही जाता है। वैसे तो अधिकतर मंदिरो में सभी को प्रवेश मिलता है। हर उम्र का व्यक्ति मंदिर में जाकर के भगवान की पूजा कर सकता है। आपने अक्सर

विदुर नीति के अनुसार इस प्रकार के 6 लोग हमेशा रहते है दुखी

महाभारत में विदुर जैसा कोई ज्ञानी नहीं है, उनके ज्ञान और समझ ने ही पाड़वो को महाभारत का युद्ध लगभग जिताया था। विदुर के ज्ञान भंडार में कई नीतियां है जो उन्होंने मानव कल्याण के लिए कहीं थी।  विदुर ने अपनी नीति में 6 ऐसे

रहस्यमयी निराई माता मंदिर साल में सिर्फ 5 घंटे ही खुलता है मंदिर

भारत के कोने-कोने पर मंदिर स्थित हैं। हमारे देश को मंदिरो का देश कहा जाता है। प्राचीन काल से लेकर अब तक यहां हजारो मंदिर बन चुके हैं। हर मंदिर अपने आप में रहस्य से भरा हुआ होता है। हर मंदिर की कोई कहानी होती

महायोगी गुरु गोरखनाथ का जीवन परिचय

भारत संतो की भूमि है, यहां पर संतो की बात जब भी की जाती है तो उनकी दयालुता और करूणा याद आती है। सिद्ध पुरूषों की धरा पर भगवान का हमेशा ही आशीर्वाद बना रहता है। महापुरुष ज्ञान देते हैं, भगवान का स्मरण करवाते हैं

पिछले 1500 साल से पहाड़ पर लटका हुआ है ये अद्भुत मंदिर

चीन के शांझी में हेंग माउंटेन पर एक ऐसा मंदिर है जो अजीबोगरीब तरीके से पहाड़ों पर लटका हुआ है। कहते हैं कि 1500 साल पुराने मंदिर को यहां इसलिए बनाया गया था कि मंदिर बाढ़ से प्रभावित नहीं हो और बारिश और तूफान से

हिन्दू धर्म में यह है रुद्राक्षों का वास्तविक महत्व

माना जाता है कि एक बार पृथ्वी पर त्रिपुर नामक एक भयंकर दैत्य उत्पन्न हुआ था । वह बहुत बलशाली और पराक्रमी था । देवताओंके लिये  उसे पराजित करना असंभव था ; तब ब्रह्मा, विष्णु और इन्द्र आदि देवता भगवान शिव की शरण में गए