Thursday, January 18, 2018

Poems

अब आप Vigyanam पर कविताएं Poems भी पढ़ सकते हैं। इस संभाग में आपको कई कवितायें पढ़ने को मिलेंगी जो आपके दिल को छु लेंगी। कवितायें किसी कवि के द्वारा लिखी वह पंक्तियाँ होती हैं जो उसकी दिल की गहराई से निकलती हैं। 

“अजब सी ये हसरत” – कविता

  एक हसरत अजब सी ना जाने वो क्यूँ थी , मगर तोड़ा उसने कई बार हमको , टूटते - टूटते भी निकल हम ना पाए , कैसे...

“ यादों की अटकलें ” – कविता

बढ़ते रहने का शायद सफ़र यूँ  न होता , अगर छूट जाती वो यादों की सांसें , हर कदम पर सिखाई है जिसने हकीकत , रहे यूँ...

“आशाओं का नयापन“ कविता – (नव वर्ष...

       सर्वप्रथम हमारे सभी पाठकों को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं I        आई नयी सुबह , एक नया समय , गीत सुगंधों की लेकर...

“ ग़म – ए – आरज़ू ” – कविता

ग़मों  का वो सागर जो छूटा न हमसे , आरज़ू का वो आँचल जो छोड़ा न हमने , चले साथ दोनों हमेशा ही यूँ ही , ज़िन्दगी...

” बचपन ” – कविता

खेलने का वो मकसद , खिलखिलाने की आशा रौनकों का समंदर , वो चेहरे की  भाषा समझ तो नहीं थी समझने की कुछ भी , था जैसा...

” यारियाँ ” – कविता

थे जब यूँ नए हम, ज़िन्दगी के भॅवर में, कुछ अपनी नज़र में, कुछ थमे से पहर में,   उन ठहरते पलों में एक किरण जो थी...

सादगी – ” एक फिदरत ” – कविता

सूरत से ज्यादा सीरत को निखारने की चाहत , सादगी   पंखो के होते हुए भी असमानों पे चलने की शह   , सादगी   कोहरे के कुदरत का...

“हक़ हमें भी था कभी” – कविता

हक़ हमे था कभी जैसे हर बंदगी का, सभी वादियों का और इस ज़िन्दगी का,   ना रोके रुके थे कभी हम किसी से, आज़माइश  भी न की...