वैज्ञानिक नए ग्रहों की खोज कैसे करते हैं? How Do We Find Exoplanets- Hindi

इस अनंत ब्रह्मांण में अरबों आकाशगंगाए हैं और उन गैलैक्सिस में खरबों ही तारे और ग्रह भी शामिल हैं। हमारा ग्रह पृथ्वी भी मंदाकिनी गैलैक्सी का ही एक छोटा सा हिस्सा है जो हमारे सूर्य के द्वारा बनाये गये सौरमंडल में शामिल है।

वह ग्रह जो हमारे सौर-मंडल के बाहर के ग्रह होते हैं और किसी दूसरे तारे की परिक्रमा करते हैं उन्हें Exoplanets कहते हैं। ये ग्रह हमारे सौर-मंडल से कई प्रकाश वर्ष दूर होते हैं। 

आप लोगों ने कई बार नये-नये ग्रहों के मिलने की खबर सुनी होगी और ये भी सुना होगा कि इन ग्रहों पर क्या जीवन की संभावना है या नहीं, दरअसल वैज्ञानिकों को नये ग्रह जीवन की संभावना के लिए ही तलाशने होते हैं। ऐसे में वो कोशिश करते हैं कि वे धरती की तरह दिखने वाले या वह ग्रह जो अपने सूर्य के साथ उचित दूरी पर परिक्रमा कर रहे हैं उन्हें ही तलाशें।

अभी फरवरी 2017 में ही नासा ने सात ग्रहों वाला सौरमंडल खोजा था। इस सौर-मंडल में सात तारे थे जो हमारे सौर-मंडल की तरह ही अपने तारे की परिक्रमा कर रहे थे। यहां उनके बारे में जानिए – नासा ने खोजा है 7 ग्रहों वाला एक सौर मंडल

आज हम आपको एक वीडियो के माध्यम से यह बतायेंगे कि आखिर नासा या दूसरे स्पेश ऐजेंसी कैसे इन ग्रहों को खोजती हैं, और कैसे इन ग्रहों पर दिखनी वाली संभावनाओं पर कार्य करती हैं –

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य
योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *