भारत में मिले डायनासोर युग के मीन मछली के जीवाश्म

भारत में जुरासिक युग के मीन सरीसृप का करीब करीब पूर्ण जीवाश्म कंकाल बरामद किया गया है और बताया जाता है कि डायनासोर युग में ये जलीय सरीसृप अस्तित्व में थे। मीन सरीसृप यानी इश्थियोसॉर्स को यूनानी भाषा में मीन छिपकली (फिश लिजार्ड) कहा जाता है।

इनके जीवाश्म संबंधी रिकॉर्ड इससे पहले उत्तर अमेरिका और यूरोप में पाये गये थे. हालांकि दक्षिणी गोलार्द्ध में ये अधिकतर दक्षिण अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया तक सीमित रहे हैं।

प्रतीकात्मक चित्र –  Source

दिल्ली विश्वविद्यालय और जर्मनी में यूनिवर्सिटी ऑफ एर्लांगेन-न्यूरेम्बर्ग (एफएयू) के अनुसंधानकर्ताओं ने गुजरात के कच्छ इलाके से मीन सरीसृप का जीवाश्म पाया है और उनका मानना है कि भारत में जुरासिक युग का यह पहला मीन सरीसृप है।

यह भी जानें – 22 ऐसे ज़बरदस्त Science Facts जिन्हें लोग अक्सर समझते हैं झूठ

इसके कंकाल का ढांचा करीब करीब अपनी पूर्ण अवस्था में है जो तकरीबन 5.5 मीटर लंबा है.माना जाता है कि यह सरीसृप ओप्थैल्मोसौरिडी कुल (फैमिली) से संबंधित है जो संभवत: करीब 16.5 करोड़ से 9 करोड़ साल के दौरान अस्तित्व में थे।

यह भी जानें – ब्रह्मांण के सबसे बड़े जीव के अद्भुत रहस्य, जिन्होंने वैज्ञानिकों को भी कर रखा है हैरान

दिल्ली विश्वविद्यालय में भूगर्भशास्त्र विभाग के गुंटूपल्ली प्रसाद ने बताया, यह एक उल्लेखनीय खोज है, ना सिर्फ इसलिए कि यह भारत से पहला जुरासिक युगीन मीन सरीसृप है बल्कि इससे गोंडवानालैंड के पूर्व क्षेत्र इंडो-मेडागास्कन में मीन सरीसृप के उद्भव एवं विकास तथा जुरासिक युग में अन्य महाद्वीपों के साथ भारत के जैविक संपर्क पर प्रकाश पड़ेगा. यह अध्ययन प्लस वन जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

Source – Zee News

Shivam Sharma

शिवम शर्मा विज्ञानम् के मुख्य लेखक हैं, इन्हें विज्ञान और शास्त्रो में बहुत रुचि है। इनका मुख्य
योगदान अंतरिक्ष विज्ञान और भौतिक विज्ञान में है। साथ में यह तकनीक और गैजेट्स पर भी काम करते हैं।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *