Universe

Facts About Saturn In Hindi : शनि ग्रह के बेहद गजब तथ्य

Facts About Saturn In Hindi –  शनि को कभी-कभी “सौर मंडल का गहना” कहा जाता है। यह एक ग्रह है जो हमारे अपने जैसा नहीं है मनुष्य एक लंबे समय से शनि ग्रह को देखता आ रहा है, इसके छल्ले और इसका आकार हजारों वर्षों से मानवों को आकर्षित करता रहा है। 

यह हमारे सौर मंडल का 6वां ग्रह है और ये सबसे दूर का वो ग्रह है जिसे नग्न आंखों से देखा जा सकता है. शनि की खोज खगोल वैज्ञानी गैलीलियो गैलीली ने साल 1610 में की थी. तो आइए आपको बताते हैं शनि ग्रह के बारे में कुछ रोचक तथ्य…

1. शनि बहुत बड़ा ग्रह है यह हमारे सौर मंडल में  आकार में दूसरा सबसे बड़ा ग्रह है आकार में  सबसे बड़ा बृहस्पति ग्रह है।

2. आप शनि पर नहीं खड़े हो सकते हैं यह पृथ्वी की तरह नहीं है शनि ज्यादातर गैसों से बना है इसमें बहुत हीलियम है यह वही गैस है जो आप गुब्बारे में डालते हैं।

3. शनि ग्रह के छल्लों को हम अपनी आँखो से आसानी से देख सकते हैं, इसके लिए आपको बस एक छोटी सी दूरबीन चाहिए।

4. शनि के छल्लें एकदम ठोस नहीं है, यह छल्ले धूल, मिट्टी और बर्फ के टुकड़ो से बने हैं, ज्यादातर तो छोटे-छोटे पत्थर ही हैं।

5. शनि ग्रह सूर्य से लगभग 142 करोड़ 66 लाख 66 हजार 421 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

6. आपको जनकर हैरानी होगी कि धरती से कई गुना बड़ा और भारी ग्रह शनि पानी में तैरता है, यदि आप एक बहुत विशाल समुद्र में शनि को रखें तो यह कभी डूबेगा नहीं बल्कि तैरता रहेगा। शनि का घनत्व पानी के घनत्व से काफी कम है।

यह भी जानें – Planet Neptune Facts In Hindi ; नेपच्यून ग्रह के बारे में रोचक फैक्ट्स

7. शनि पर बहुत हवा है भूमध्य रेखा के आसपास हवाएं 1,800 किलोमीटर प्रति घंटे तक हो सकती हैं। यह 1,118 मील प्रति घंटा है! पृथ्वी पर, तेज हवाएं “केवल” प्रति घंटे लगभग 400 किलोमीटर तक पहुंचती हैं। यह प्रति घंटे केवल 250 मील प्रति घंटे है ।

8. शनि ग्रह की सतह का औसतन तापमान लगभग -139 डिग्री सेलसियस है। शनि ग्रह आकार में पृथ्वी से नौ गुना बड़ा ग्रह है। यह लोहा, निकल और चटानों के कोर से बना हुआ है ये धातु हाइड्रोजन की परत से घिरी हुई है।

9. शनि सूर्य के चारों ओर बहुत धीरे धीरे चला जाता है शनि पर एक वर्ष पृथ्वी के 29 वर्षों के बराबर है।  ये अपनी अक्ष पर बहुत तेजी से स्पिन करता है शनि का एक दिन धरती के हिसाब से 10 घंटे और 14 मिनट के बराबर है।

10. शनि ग्रह पर अक्सर तूफान महीनों बाद या फिर सालों बाद आते हैं. साल 2004 में शनि ग्रह पर बहुत तेज तूफान आया था जिसे Dragon Storm का नाम दिया गया।

11. शनि पर सबसे पहले पायोनीर अभियान भेजा गया यो 6 अप्रैल 1973 को भेजा गया था जिसने शनि के छल्लों के बारे में खोज की थी।

12. इसके बाद साल 5 सितंबर 1977 को वायेजर अमेरिका की तरफ से भेजा गया यह अभियान 13 नम्बर 1980 को शनि ग्रह पर पहुंचा था. इसने शनि ग्रह के छल्लों की लगभग 1000 के पास तस्वीरें खींची थी और छल्लों के बारे में जानकारी हासिल की थी।

Tags

Pallavi Sharma

पल्लवी शर्मा एक छोटी लेखक हैं जो अंतरिक्ष विज्ञान, सनातन संस्कृति, धर्म, भारत और भी हिन्दी के अनेक विषयों पर लिखतीं हैं। इन्हें अंतरिक्ष विज्ञान और वेदों से बहुत लगाव है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close