Universe

ये हैं हमारे ब्रह्मांड के सबसे बड़े अजूबे, ये वैज्ञानिकों को भी परेशान करते हैं

जब बात अजूबों की हो रही है तो ब्रह्मांड से बढ़िया कोई जगह नहीं है। इस विशाल ब्रह्मांड (Brahmand)  में इतने अजूबें है कि अगर सभी को बतानें बैठे तो पूरी मानवजाति के काल तक नहीं बता सकते हैं। खरबों तारे और उतने ही ग्रहों से बना हमारा ब्रह्मांड खुद अपने आप में एक बहुत बड़ा अजूबा है, चलिए आगे बढ़ते हैं और अभी तक के खोजे गये ब्रह्मांड के अजूबों की बात करते हैं –

विशाल छल्ला

पृथ्वी से 434 प्रकाश वर्ष दूर एक बड़ा ग्रह है. वैज्ञानिक इसे J1407B कहते है. यह बृहस्पति और शनि से भी 40 गुना बड़ा है. इस ग्रह के बाहर बना छल्ला 12 करोड़ किलोमीटर तक फैला है. वैज्ञानिकों को लगता है कि J1407B में चंद्रमा बनने जा रहा है।

तारकोल से लबालब ग्रह

बाहरी ब्रह्मांड में ट्रेस-2b नाम का ग्रह भी मिला. यह अपने तारे से मिलने वाली सिर्फ एक फीसदी रोशनी को परावर्तित करता है. इसे ब्रह्मांड का अब तक खोजा गया सबसे काला ग्रह माना जाता है. ग्रह की सतह में विषैला तारकोल और उससे निकलने वाली गैसें हैं।

तीन सूरज वाला ग्रह

HD 188753 Ab पहला ऐसा ग्रह है जिसके पास तीन सूर्य है। इस ग्रह की खोज 2005 में पोलैंड के वैज्ञानिक ने की थी. वैज्ञानिकों ने ऐसे और ग्रह खोजने की कोशिश की, लेकिन सफलता नहीं मिली।

पानी नहीं, जलती है बर्फ

सुनने में भले ही अजीब लगे, लेकिन ग्लिश 436बी ग्रह अपने तारे के बेहत करीब घूमता है. इस वजह से इसकी सतह का तापमान 439 डिग्री तक पहुंच जाता है. अथाह गर्मी से बर्फ सीधे गैसों में टूट जाती है और ग्रह के आस पास हाइड्रोजन के बादल बनने लगते हैं।

भयानक तूफान वाला ग्रह

स्रोत – नासा

धरती की तरह नीले इस ग्रह का नाम है HD189733. लेकिन वहां जीवन के लिए कोई जगह नहीं. HD189733 का तापमान 1,000 डिग्री से ज्यादा है. वहां 7,000 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति से खगोलीय बारिश भी होती है। दूरी 66 प्रकाश वर्ष दूर..

हीरों की खान

55 कैंक्री में अथाह मात्रा में कार्बन है. वैज्ञानिकों का अनुमान है कि 55 कैंक्री की सतह हीरों से भरी है. लेकिन वहां तक पहुंचने के मतलब है 1,700 डिग्री का तापमान झेलना। ये ग्रह हमारी धरती से कई प्रकाश वर्ष दूर है।

हॉट टब

GJ1214b गर्म पानी के टब की तरह है. 230 डिग्री सेल्सियस की गर्मी के चलते यह ग्रह ब्रह्मांड में लगातार भाप और बादल छोड़ता रहता है।

यह भी जानें – ब्रह्मांड की इस सच्चाई के सामने NASA और ISRO के वैज्ञानिकों के होश उड़े हुए हैं, आखिर क्यों??

[H/T – DW]

Tags

Team Vigyanam

Vigyanam Team - विज्ञानम् टीम

Related Articles

Close