LifeMysteryStrange Science - विचित्र विज्ञान

स्कूल में बताई गयी 10 बातें जो गलत साबित हो चुकी हैं

स्कूल में सिखाई गयीं 10 गलत बातें जिन्हें आप सच मानते हैं

दोस्तों ऐसा बहुत बार होता है कि जिन चीजों पर हम विश्वास करते हैं वो कुछ वक़्त बाद या तो गलत साबित होती हैं या फिर उनमे कुछ न कुछ संदेह बना होता है | यहाँ आपको कुछ ऐसी बातें बताई गयीं हैं जो आपने स्कूल में जरूर पढ़ी होंगी पर अब गलत साबित हो चुकी हैं |

1.  गिरगिट का रंग बदलना 

ऐसा बताया गया है कि गिरगिट अपना रंग इसलिए बदलते हैं ताकि वो खुद को अपने वातावरण के हिसाब से बदलकर अपने आपको अन्य जीव-जंतुओं से छुपा सकें | परन्तु उनके रंग बदलने की इस विचित्र आदत का कोई और ही कारण है | गिरगिट अपना रंग इसलिए बदलते हैं ताकि वे अपने शरीर का तापमान नियंत्रण में रख सकें और बाकी गिरगिटों के साथ संपर्क कर सकें|

2.  जीभ का कुछ ही हिस्से से स्वाद लेना 

आपने ऐसा जरूर सुना होगा कि हमारी जीभ के कुछ हिस्से ही हमें स्वाद के बारे में बताते हैं | जैसे कि जीभ का आगे वाला हिस्सा हमें मीठा स्वाद बताता है और पीछे वाला हिस्सा खट्टे स्वाद की पहचान करता है | पर असलियत तो यह है कि हमारी जीभ का पूरा हिस्सा हमें स्वाद के बारे में बताता है |फर्क सिर्फ इतना होता है की कुछ ताकतवर रिसेप्टर्स उन्हें जल्दी पहचान लेते हैं |

3.  हीरा दबे हुए कोयले से बनता है 

हमें ये भी बताया जाता है या फिर ऐसा हम सुनते हैं कि जब कोयला बहुत ही दबाव वाली प्रक्रिया से गुजरता है तो आगे चलाकर उसीसे हीरा बनता है | पर असलियत तो ये है कि दोनों हीरा और कोयला कार्बन से ही बनते हैं | हीरा शुद्ध कार्बन से बनता है जिसको गर्मी , दबाव जैसी प्रक्रियाओं से गुजरना पड़ता है |

4.  प्लूटो एक प्लेनेट नहीं है 

कुछ साल पहले आपने जरूर सुना होगा कि प्लूटो को प्लेनेट नहीं माना जाता | पर IAU( International Astronomical Union) के अनुसार प्लूटो अभी भी एक प्लेनेट के रूप में जाना जाता है जिसे हम बौना प्लेनेट मानते हैं |

5.  ग्रेट वाल ऑफ़ चाइना का अंतरिक्ष से दिखना 

आपने जरूर सुना होगा कि हम अंतरिक्ष से ग्रेट वाल ऑफ़ चाइना को देख सकते हैं पर ये इतना सच नहीं है क्योंकि एस्ट्रोनॉट्स बताते हैं कि आपको अंतरिक्ष से सिर्फ एक गोला नजर आता है और ग्रेट वाल ऑफ़ चाइना का दिखना देखने वाली की दूरी पर भी निर्भर करता है |अगर मौसम ठीक होता है तो आपको गीजा के पिरामिड्स भी देखने को मिल सकते हैं |

6.  बारिश की बूंदों का आंसुओं के आकर की होती हैं 

कई लोगों ने ये बात जरूर सुनी होगी कि बारिश की बूँदें आंसुओं के आकार जैसी लगती हैं | पर United States Geographical Survey के अनुसार ऐसा पता चला है कि बारिश बूँदें हैमबर्गर बन या बीन के आकर की होती हैं और जब ये बड़ी होती हैं तो टूटकर आंसुओं का आकर ले लेती हैं |

7. ऑक्सीजनरहित खून नीला होता है 

आपने ये जरूर पढ़ा होगा की ऑक्सीजन से भरपूर खून लाल होता है जबकि ऑक्सीजनरहित खून नीला होता है | पर ये बात सच नहीं है क्योंकि खून के रंग के देखने के लिए रौशनी का काफी महत्त्व होता है और ये चीज इस बात पर भी निर्भर करती है कि आपके टिशूस किस तरह की रौशनी एब्सोर्ब कर रहे हैं |

8. इंसान अपना दिमाग 10% इस्तेमाल करते हैं 

आपने ये तो जरूर सुना होगा कि ज्यादातर इंसान सिर्फ 10% ही दिमाग इस्तेमाल करते हैं पर इस बात पर बहुत संदेह है क्यिंकि साइंटिस्ट्स इस बात पर अपनी राय देते आये हैं  और ऐसा बताया गया है कि हमारा बाकी का दिमाग भी सक्रिय रहता है |

9. चिमगादड़ अंधे होते हैं 

यह बात तो आप जरूर मानते होंगे कि आपको लोग ये बताते होंगे कि चिमगादड़ अंधे होते हैं  | पर असलियत कुछ और ही है , चिमगादडों की नजर हमारे जैसे कई लोगों से भी अच्छी होती है | ऐसा बताया गया है कि चिमगादड़ आम इंसान से 3 गुना ज्यादा अच्छा देख सकते हैं |

10. चिंगम का पेट में 7 साल तक रहना 

ऐसा कहा जाता है कि अगर आप चिंगम अगर निगल लें तो वो आपके पेट में लगभग 7 साल तक रह सकती है | पर इस बात में सच्चाई नहीं है क्योंकि चिंगम आपके पेट में सिर्फ थोड़े समय के लिए ही रहेगी क्योंकि उसको टूटने में थोड़ा समय लगता है |

 

Tags

Shubham Sharma

शुभम शर्मा विज्ञानम् के लेखक हैं जिन्हें विज्ञान, गैजेट्स , रहस्य और पौराणिक विषयों में रूचि है। इसके अलाबा इन्हें खेल और वीडियो बनाना बहुत पसंद है।

Related Articles

Close