Poems

सादगी – ” एक फिदरत ” – कविता

सूरत से ज्यादा सीरत को निखारने की चाहत , सादगी

 

पंखो के होते हुए भी असमानों पे चलने की शह   , सादगी

 

कोहरे के कुदरत का नूर , सादगी

 

सजदे का श्रृंगार , रूह का रंग, सादगी

 

चन्द्र की चांदनी , मिट्टी की मुश्क , सादगी

 

उलझनों में मुस्कुराती मासूमियत , सादगी

 

बिन शब्दों के सब कुछ कह जाने की कला , सादगी

 

अजनबी से अपना बन जाने का मोड़ , सादगी

 

अपने और अपनों को जोड़ने वाली डोर , सादगी

 

दुनिया की हकीकत में सपनो की सच्चाई , सादगी

 

फरेब से परे एक पहचान है  सादगी

 

खूबसूरत सी नीयत , रब की इनायत , सादगी I

 

Balram Kumar Ray

बलराम कुमार राय विज्ञानम् के गैजेट्स केटेगरी के लेखक हैं. इन्हें टेक्नोलॉजी , गैजेट्स, और Apps पर लिखने में बहुत रूचि है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close