डाटा का जीवन पर बेहद गहरा प्रभाव

हर चीज के अच्छे और बुरे पहलू होते हैं। अगर अच्छे पहलू को आप फॉलो करते हैं, तो आपको उसका सही फायदा मिलता है और अगर बुरे पहलू को फॉलो करते हैं, तो नुकसान और भटकाव के अलावा आपको कुछ नहीं मिलता। यही हाल आजकल के इंटरनेट लविंग बच्चों का है, जिनका बचपन रचनात्मक कार्यो की जगह डाटा के जंगल में गुम हो रहा है।

 

पिछले कई सालों में सूचना तकनीक ने जिस तरह से तरक्की की है, इसने मानव जीवन पर बेहद गहरा प्रभाव डाला है। न सिर्फ प्रभाव डाला है, बल्कि एक तरह से इसने जीवनशैली को ही बदल डाला है। शायद ही ऐसा कोई होगा, जो इस बदलाव से अछूता होगा।

 

हाल के दिनों में लगभग सभी कंपनियां बेहद कम पैसों में असीमित डाटा ऑफर कर रही हैं, जिसका खासकर बच्चे और युवा खुलकर लुत्फ उठा रहे हैं। लेकिन चिंता की बात यह है कि इसका इस्तेमाल वे अपने लिए रचनात्मक कार्यो में न के बराबर कर रहे हैं।

 

आठवीं कक्षा का छात्र शिवम अक्सर क्लासेस बंक करता है। अपने दोस्तों से भी अब वह ज्यादा बात नहीं करता। अपना अधिकांश समय वह ऑनलाइन गेम खेलने और इंटरनेट ब्राउज करने में बिताता है। और तो और, सड़क पर भी वह मोबाइल पर गेम खेलने में व्यस्त रहता है।

 

दिल्ली के साकेत स्थित मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में मेंटल हेल्थ और विहेवियरल साइंस विभाग के प्रमुख डॉ. समीर मल्होत्रा ने कहा, “समस्या तो पहले से ही थी, लेकिन हाल के दिनों में हालत और बदतर हुई है। कच्ची उम्र के बच्चे जो सही और गलत में फर्क नहीं कर पाते वे पॉर्नोग्राफी के कुचक्र में आसानी से फंस जाते हैं।

 

महानगरों में यह मानसिक बीमारी इस कदर बढ़ चुकी है कि कई युवाओं को तो स्वास्थ्य सुधार केंद्र में भर्ती कराना पड़ रहा है। हालात ये हैं कि यदि इस पर काबू नहीं पाया गया, तो समाज में एक नई विकृति पैदा हो सकती है।

 

स्रोत-IANS

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *